वारेन हेस्टिंग | Warren Hasting

वारेन हेस्टिंग | Warren Hasting | वारेन हेस्टिंग्स एक अंग्रेज़ राजनीतिज्ञ था. भारत में ब्रिटिश साम्राज्य की नींव रखने का श्रेय हेस्टिंग्स तथा रॉबर्ट क्लाइव को दिया जाता है। हेस्टिंग्स, बंगाल की सुप्रीम काउंसिल का अध्यक्ष तथा फोर्ट विलियम प्रेसीडेंसी बंगाल का प्रथम गवर्नर था

वारेन हेस्टिंग | Warren Hasting

हेस्टिंग ने राजकीय कोषागार को मुर्शिदाबाद से कलकत्ता लाया गया था. 1772 ई. में इसने प्रत्येक जिले में एक फौजदारी तथा दीवानी अदालतों की स्थापना की थी. फौजदारी अदालतें सदर निजामत अदालत द्वारा निरीक्षित होती थी. नाजिम द्वारा नियुक्त दरोगा अदालत की अध्यक्षता करता था. दीवानी अदालत में कलक्टर मुख्य न्यायाधीश होता था. जिला फौजदारी अदालत एक भारतीय अधिकारी के अधीन होती थी. इसकी सहयता के लिए एक मुफ़्ती व एक काजी होता था. कलक्टर इस न्यायलय के कार्य की देख-भाल करता था.

कलकत्ता में एक सदर दीवानी अदालत व एक सदर फौजदारी अदालत की स्थापना की गई. सदर दीवानी अदालत में कलकत्ता कौंसिल का सभापति और उसी कौंसिल का दो सदस्य राय रायन और मुख्य कानूनगो की सलह से न्याय करते थे. सदर फौजदारी अदालत में नाइब-निजाम, मुख्य काजी, मुफ़्ती और तीन मौलवियों की सलह से न्याय करते थे. जिलें की दीवानी व फौजदारी अदालतों के मुकदमे अंतिम निर्णय के लिए सदर अदालतों में भेजे जाते थे.

यह भी देखे :- लॉर्ड लिनलिथगो | lord Linlithgow

हेस्टिंग ने नवाब की देख-भाल क लिए मीरजाफर की विधवा मुन्नी बेगम को उसका संरक्षक नियुक्त किया गया था. 1775 ई. में मुन्नी बेगम को हटाकर मुहम्मद रजा खां को नवाब का संरक्षक नियुक्त किया गया था. इसने 1781 ई. में कलकत्ता में मुस्लिम शिक्षा के विकास के लिए प्रथम मदरसा स्थापित किया था.

वारेन हेस्टिंग | varren Hasting
वारेन हेस्टिंग |Warren Hasting

इसी के समय 1782 ई. में जोनाथन डंकन ने बनारस में संस्कृत विद्यालय की स्थापना की थी. गीता के अंग्रेजी अनुवादकर विलियम विलकिन्स को हेस्टिंग ने आश्रय प्रदान किया था. इसी के समय में सर विलियम जोंस ने 1784 ई. में द एशियाटिक सोसायटी ऑफ़ बंगाल की स्थापना की थी.

इसने मुग़ल सम्राट को मिलने वाला 26 लाख रूपये की वार्षिक पेंशन बंद करवा दी थी. इसी के समय में 1780 ई. में भारत का पहला समाचार पत्र “द बंगाल गजट” का प्रकाशन “जेम्स ऑगस्टस हिक्की” ने किया था.

यह भी देखे :- लॉर्ड वेलिंगटन | lord wellington
  • पिट्स इंडिया एक्ट हेस्टिंग के समय में ही पारित हुआ था.
  • इसी के काल में “बोर्ड ऑफ़ रेवेन्यु” की स्थापना हुई थी.
  • हेस्टिंग ने सम्पूर्ण लगान के हिसाब की देखभाल के लिए एक भारतीय अधिकारी राय रायन की नियुक्ति की गई थी. इस पद को प्राप्त करने वाला पहला भारतीय दुर्लभराय का पुत्र राजा राजबल्लभ था.
  • पिट्स इंडिया एक्ट के विरोध में इस्तीफ़ा देकर जब हेस्टिंग 1785 ई. में इंग्लैण्ड पहुंचा तो बर्क द्वारा उसके ऊपर महाभियोग चलाया गया था. परन्तु 1795 ई. में उसे आरोपों से मुक्त कर दिया था.
  • सुरक्षा प्रकोष्ठ की निति वारेन हेस्टिंग से संबंधित है.
यह भी देखे :- लॉर्ड कैनिंग | lord Canning

वारेन हेस्टिंग FAQ

Q 1. हेस्टिंग ने राजकीय कोषागार को मुर्शिदाबाद से कहाँ स्थान्तरित किया था?

Ans हेस्टिंग ने राजकीय कोषागार को मुर्शिदाबाद से कलकत्ता स्थान्तरित किया था.

Q 2. प्रत्येक जिले में एक फौजदारी तथा दीवानी अदालतों की स्थापना कब की गई थी?

Ans 1772 ई. में प्रत्येक जिले में एक फौजदारी तथा दीवानी अदालतों की स्थापना की गई थी.

Q 3. फौजदारी अदालतें किसके द्वारा निरीक्षित होती थी?

Ans फौजदारी अदालतें सदर निजामत अदालत द्वारा निरीक्षित होती थी.

Q 4. अदालत की अध्यक्षता कौन करता था?

Ans नाजिम द्वारा नियुक्त दरोगा अदालत की अध्यक्षता करता था.

Q 5. दीवानी अदालत में मुख्य न्यायाधीश कौन होता था?

Ans दीवानी अदालत में कलक्टर मुख्य न्यायाधीश होता था.

Q 6. जिला फौजदारी अदालत किसके अधीन होती थी?

Ans जिला फौजदारी अदालत एक भारतीय अधिकारी के अधीन होती थी.

Q 7. न्यायलय के कार्य की देख-भाल कौन करता था?

Ans कलक्टर न्यायलय के कार्य की देख-भाल करता था.

Q 8. कलकत्ता सदर दीवानी अदालत में किसकी सलह से न्याय करते थे?

Ans सदर दीवानी अदालत में कलकत्ता कौंसिल का सभापति और उसी कौंसिल का दो सदस्य राय रायन और मुख्य कानूनगो की सलह से न्याय करते थे.

Q 9. सदर फौजदारी अदालत में किसकी सलह से न्याय करते थे?

Ans सदर फौजदारी अदालत में नाइब-निजाम, मुख्य काजी, मुफ़्ती और तीन मौलवियों की सलह से न्याय करते थे.

Q 10. जिलें की दीवानी व फौजदारी अदालतों के मुकदमे अंतिम निर्णय के लिए कहाँ भेजे जाते थे?

Ans जिलें की दीवानी व फौजदारी अदालतों के मुकदमे अंतिम निर्णय के लिए सदर अदालतों में भेजे जाते थे.

Q 11. पिट्स इंडिया एक्ट किसके समय में पारित हुआ था?

Ans पिट्स इंडिया एक्ट हेस्टिंग के समय में पारित हुआ था.

Q 12. किसके काल में “बोर्ड ऑफ़ रेवेन्यु” की स्थापना हुई थी?

Ans हेस्टिंग के काल में “बोर्ड ऑफ़ रेवेन्यु” की स्थापना हुई थी.

Q 13. हेस्टिंग ने सम्पूर्ण लगान के हिसाब की देखभाल के लिए किसकी नियुक्ति की गई थी?

Ans हेस्टिंग ने सम्पूर्ण लगान के हिसाब की देखभाल के लिए एक भारतीय अधिकारी राय रायन की नियुक्ति की गई थी.

Q 14. पिट्स इंडिया एक्ट के विरोध में इस्तीफ़ा देकर हेस्टिंग इंग्लैण्ड कब पहुंचा था?

Ans पिट्स इंडिया एक्ट के विरोध में इस्तीफ़ा देकर हेस्टिंग 1785 ई. में इंग्लैण्ड पहुंचा था.

Q 15. सुरक्षा प्रकोष्ठ की निति किससे संबंधित है?

Ans सुरक्षा प्रकोष्ठ की निति वारेन हेस्टिंग से संबंधित है.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- लॉर्ड लिटन | Lord Lytton

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published.