विश्वनाथ जिला

विश्वनाथ जिला भारत के असम राज्य का एक जिला है. इस जिले का मुख्यालय विश्वनाथ चरियल में स्थित है. यह असम के उत्तरी हिस्से में स्थित है

विश्वनाथ जिला

विश्व नाथ जिला भारत के असम राज्य का एक जिला है. इस जिले का मुख्यालय विश्वनाथ चरियल में स्थित है. यह असम के उत्तरी हिस्से में स्थित है.

इस जिले के उत्तर में अरुणाचल प्रदेश, उत्तर-पूर्व में लखीमपुर जिला, पूर्व में माजुली जिला, दक्षिण में गोलाघाट जिला, दक्षिण-पश्चिम में नागाओं जिला तथा उत्तर से उत्तर-पश्चिम तक सोनितपुर जिला स्थित है.

यह भी देखे :- पश्चिम कार्बी आंगलोंग जिला

जिले का इतिहास

15 अगस्त 2015 ई. को इस जिले का गठन किया गया है. इसे सोनितपुर जिले से विभाजित किया गया है.

विश्वनाथ जिला
विश्वनाथ जिले का नक्शा
यह भी देखे :- उदलगुड़ी जिला

सामान्य परिचय

नामजानकारी
जनसँख्या5,80,000
जनसँख्या घनत्व 390/वर्ग किमी
क्षेत्रफल1,100 वर्ग किमी
साक्षरता79.71%
लिंगानुपात969
विधानसभा सदस्य संख्या4
लोकसभा सदस्य संख्या1
यह भी देखे :- बक्सा जिला

विश्वनाथ FAQ

Q 2. विश्वनाथ का मुख्यालय कहाँ स्थित है?

Ans – विश्वनाथ का मुख्यालय विश्वनाथ चरियल में स्थित है.

Q 3. विश्वनाथ जिला असम के किस हिस्से में स्थित है?

Ans – विश्वनाथ जिला असम के उत्तरी हिस्से में स्थित है.

Q 4. विश्वनाथ की जनसँख्या कितनी है?

Ans – विश्वनाथ की जनसँख्या 5,80,000 है.

Q 5. विश्वनाथ जिले का जनसँख्या घनत्व कितना है?

Ans – विश्वनाथ जिले का जनसँख्या घनत्व 390 है.

Q 7. विश्वनाथ की साक्षरता कितनी है?

Ans – विश्वनाथ की साक्षरता 79.71% है.

Q 8. विश्वनाथ का लिंगानुपात कितना है?

Ans – विश्वनाथ का लिंगानुपात 969 है.

Q 9. विश्वनाथ में विधानसभा सदस्य संख्या कितनी है?

Ans – विश्वनाथ में विधानसभा सदस्य संख्या 4 है.

Q 10. विश्वनाथ में लोकसभा सदस्य संख्या कितनी है?

Ans – विश्वनाथ में लोकसभा सदस्य संख्या 1 है.

लेख को पूरा पढने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद | अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे अपने रिश्तेदारों व मित्रों के साथ में शेयर करना मत भूलना…..

यह भी देखे :- कामरूप जिला

Follow on Social Media

See also  पश्चिम कार्बी आंगलोंग जिला

केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment