विक्रम संवत

विक्रम संवत | भारत में हिन्दू पंचांग विक्रम संवत् पर आधारित है। विक्रम संवत् का प्रारम्भ 57 ई. पू. में हुआ था। विक्रमी संवत् की गणना चंद्र के आधार पर की जाती है

विक्रम संवत

भारत में हिन्दू पंचांग विक्रम संवत् पर आधारित है। विक्रम संवत् का प्रारम्भ 57 ई. पू. में हुआ था। इस संवत् के वर्ष का प्रारम्भ चैत्र शुक्ला एकम् से होता है एवं समाप्ति फाल्गुन अमावस्या को होती है। यह वर्षग्रिगोरियन कलैण्डर वर्ष से 57 वर्ष आगे रहता है।प्रत्येक वर्ष मार्च माह में विक्रम संवत् एवं शक संवत् दोनों की शुरुआत होती है।

अतः मार्च में विक्रम संवत् एवं शक संवत् के दो वर्षों की कुछ अवधि आती है। ग्रिगेरियन कैलेण्डर और हिन्दू राष्ट्रीय पंचांग (नव संवत्) की तिथियों में प्रायः 15 दिनों का अन्तर रहता है। नव वर्ष भी प्रायः मार्च में ही पड़ता है। लेकिन जब कभी हिन्दू वर्ष 12 महिने की बजाय 13 महिने का होता है तो यह अप्रैल से प्रारंभ होता है।

यह भी देखे :- शक संवत्

भारतीय ज्योतिष शास्त्र चंद्रगणनापर आधारित है। विक्रमी संवत् की गणना भी इसी आधार पर की जाती है। इसमें चंद्रमा की 16 कलाओं के आधार पर दो पक्ष (कृष्ण पक्ष व शुक्ल पक्ष) का एक मास होता है। प्रथम पक्ष अमांत व द्वितीय पक्ष पूर्णिमांत कहलाता है।

See also  मौर्य साम्राज्य का उदय | Rise of Maurya Empire

कृष्णपक्ष प्रतिपदा से पूर्णिमा तक प्रत्येक चंद्रमास में साढ़े 29 दिन होते है। एक वर्ष 354 दिन का होता है। पृथ्वी द्वारा सूर्य का परिभ्रमण 365 दिन में करने के कारण प्रत्येक वर्ष में 11 दिन 3 घड़ी और 48 पल का अंतर आ जाता है। यह अंतर तीन वर्ष में लगभग एक मास का हो जाता है। कालगणना में अंतर को पूर्ण करने के लिए 3 वर्ष में एक अधिमास की व्यवस्था है। प्रत्येक तीसरे वर्ष चंद्रमासों में एक मास की वृद्धि हो जाती है जिस अधिमास, मलमास या पुरुषोत्तम मास कहते है।

विक्रम संवत
विक्रम संवत
यह भी देखे :- भारतीय राष्ट्रीय पंचांग

विक्रम संवत FAQ

Q 1. भारत में हिन्दू पंचांग किस संवत् पर आधारित है?
See also  साका

Ans – भारत में हिन्दू पंचांग विक्रम संवत् पर आधारित है।

Q 2. विक्रम संवत् का प्रारम्भ कब हुआ था?

Ans – विक्रम संवत् का प्रारम्भ 57 ई. पू. में हुआ था।

Q 3. विक्रम संवत ग्रिगोरियन कलैण्डर से कितने वर्ष आगे रहता है?

Ans – विक्रम संवत ग्रिगोरियन कलैण्डर से 57 वर्ष आगे रहता है।

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- शोक की रस्में

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment