चंपानेर की संधि

चंपानेर की संधि | यह संधि मालवा के सुल्तान महमूद खिलजी एवं गुजरात के सुल्तान कुतुबुद्दीन के मध्य 1456 ई. में राणा कुंभा के विरुद्ध हुई

चंपानेर की संधि

यह संधि मालवा के सुल्तान महमूद खिलजी एवं गुजरात के सुल्तान कुतुबुद्दीन के मध्य 1456 ई. में राणा कुंभा के विरुद्ध हुई। माण्डू के शासक महमूद खिलजी एवं गुजरात के शासक के प्रतिनिधियों ने चम्पानेर में एक अहदनामे पर हस्ताक्षर किये।

यह भी देखे :- सारंगपुर का युद्ध

इसके अनुसार मालवा तथा गुजरात की संयुक्त सेना मेवाड़ पर आक्रमण करेगी तथा विजय के उपरान्त मेवाड़ को आपस में बांट लिया जायेगा।

चंपानेर की संधि
चम्पानेर की संधि
यह भी देखे :- राणा कुंभा: गुहिल राजवंश

इस सन्धि के अनुसार कुतुबुद्दीन चित्तौड़ के लिए चला और मार्ग में आबू पर अधिकार कर आगे बढ़ा। महमूद मालवा की तरफ से राणा के राज्य में घुसा। 1456 ई. में दोनों की संयुक्त सेना ने राणा के विरुद्ध युद्ध किया लेकिन कुंभा को नहीं हरा सके।

See also  दौसा जिला

फरिश्ता के अनुसार दोनों सेनाओं से राणा को हारना पड़ा और उन्हें विपुल धनराशि देकर विदा करना पड़ा। कीर्तिस्तम्भ प्रशस्ति में राणा द्वारा दोनों सुल्तानों की सेनाओं का मंथन किया जाना लिखा है। रसिकप्रिया में भी सुल्तानों को राणा द्वारा हराया जाना लिखा है।

यह भी देखे :-  राणा मोकल: गुहिल राजवंश

चम्पानेर की संधि FAQ

Q 1. चंपानेर की संधि कब हुई थी?

Ans – चंपानेर की संधि 1456 ई. में हुई थी.

Q 2. चंपानेर की संधि किन-किन के मध्य हुई थी?

Ans – चंपानेर की संधि मालवा के सुल्तान महमूद खिलजी एवं गुजरात के सुल्तान कुतुबुद्दीन के मध्य हुई थी.

See also  शेखावाटी का कछवाहा राजवंश
Q 3. चम्पानेर की संधि किसके विरुद्ध हुई थी?

Ans – चम्पानेर की संधि राणा कुंभा के विरुद्ध हुई थी.

Q 4. संधि के पश्चात् हुए युद्ध में कौन विजय हुआ था?

Ans – संधि के पश्चात् हुए युद्ध में राणा कुंभा विजय हुए थे.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- राणा लाखा : गुहिल राजवंश

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment