गुलाम वंश | slave dynasty

गुलाम वंश | slave dynasty | गुलाम वंश की स्थापना 1206 ई. में कुतुबद्दीन ऐबक ने की थी. यह गौरी का गुलाम था. गुलामों को फारसी में बंदगो कहा जाता था तथा इन्हें सैनिक सेवा के लिए ख़रीदा जाता था.

गुलाम वंश | slave dynasty

कुतुबद्दीन ऐबक ने अपना राज्याभिषेक 24 जून 1206 ई. में किया था. कुतुबमीनार की नींव कुतुबद्दीन ऐबक ने डाली थी. कुतुबद्दीन ऐबक ऐबक के समय में कुतुबमीनार की केवल पहली मंजिल ही बन सकी थी. इल्तुतमिश ने इसे 225 फीट ऊँची चार मंजिल का बनाया था.

यह भी देखे :- औरंगजेब का इतिहास | History of Aurangzeb

फिरोजशाह तुगलक के समय बिजली गिरने के कारण कुतुबमीनार की चौथी. नष्ट हो गई थी जिसके कारण फिरोज ने इसमें दो छोटी मंजिले बना दी जिससे इसमें 5 मंजिल हो गई व 9 फीट ऊंचाई बढ़कर 234 फीट हो गई थी.

गुलाम वंश
गुलाम वंश | slave dynasty

दिल्ली का कुवत-उल-इस्लाम मस्जिद व अजमेर की अढाई दिन का झोपड़ा नामक मस्जिद का निर्माण कुतुबद्दीन ऐबक ने करवाया था. कुतुबद्दीन ऐबक को लाख बख्श [लाखों का दान देने वाला] भी कहा जाता था. प्राचीन नालंदा विश्वविद्यालय को ध्वस्त करने वाला कुतुबद्दीन ऐबक का सहायक सेनानायक बख्तियार खिलजी था.

कुतुबद्दीन ऐबक की मृत्यु 1210 ई. में चौगान खेलते समय घोड़े से गिरने के कारण हो गई थी. इसे लाहौर में दफनाया गया था. कुतुबद्दीन ऐबक का उतराधिकारी आरामशाह हुआ था, जिसने सिर्फ आठ महीनों तक शासन किया था.

आरामशाह की हत्या करके इल्तुतमिश 1211 ई. में दिल्ली की गद्दी पर बैठा था. इल्तुतमिश तुर्किस्तान का इल्बरी तुर्क था, जो ऐबक का गुलाम व दामाद था. ऐबक की मृत्यु के समय यह बुन्दायूं का गर्वनर था.

यह भी देखे :- सल्तनतकालीन शासन व्यवस्था

इल्तुतमिश लाहौर से राजधानी स्थानांतरित करके दिल्ली लाया था. इसने हौज-ए-सुल्तानी का निर्माण देहली-ए-कुहना के निकट करवाया था. इल्तुतमिश पहला शासक था, जिसने 1229 ई. में बगदाद के खलीफा से सुल्तान पद की वैधानिक स्वीकृति प्राप्त की थी.

इल्तुतमिश के महत्वपूर्ण कार्य

  1. कुतुबमीनार के निर्माण को पूरा करवाया था.
  2. सबसे पहले अरबी सिक्के जारी किए. [चांदी का टंका व तांबे का जीतल]
  3. इक्ता प्रणाली चलाई.
  4. चालीस गुलाम सरदारों का संगठन बनाया, जो तुर्क-ए-चिहलगानी के नाम से जाना गया था.
  5. सर्वप्रथम दिल्ली के अमीरों का दमन किया.

इल्तुतमिश की मृत्यु अप्रैल 1236 ई. में हो गई थी. चंगेज खां से बचने क लिए ख्वारिज्म के सम्राट जलालुद्दीन को इल्तुतमिश ने अपने यहाँ शरण नहीं दी थी.

मंगोल :- यह चीन के उत्तर में गोबी रेगिस्तान के निवासी थे. यह घूमने-फिरने वाली अर्द्धसभ्य जाति थी तथा उनका मुख्य पेशा घोड़ों तथा अन्य पशुओं का पालन करना था. वे बहुत गंदे रहते थे तथा सभी प्रकार के मांस खाते थे. उनमें स्त्री विषयक नैतिकता का सर्वथा आभाव था यद्यपि माँ का सम्मान करते थे. वे विभिन्न कबीलों में बंटे थे, उन्हीं कबीलों में से एक में 1163 ई. में तेमूचिन उर्फ़ चंगेज खां का जन्म हुआ तथा, जिसे महान व श्रापित दोनों पुकारा गया है. इसका पिता येसुगाई बहादुर था.

इल्तुतमिश के बाद उसका पुत्र रुकनुद्दीन फिरोज गद्दी पर बैठ था, यह एक अयोग्य शासक था. इसके अल्पकालीन शासन पर उसकी माँ शाह तुरकान छाई रही थी. शाह तुरकान के अवांछित प्रभाव से परेशान होकर तुर्की अमीरों ने रुकनुद्दीन को गद्दे से हटा कर रजिया को गद्दी पर आसीन किया. इस प्रकार रजिया बेगम प्रथम मुस्लिम महिला थी, जिसने शासन की बागडोर संभाली थी.

See also  मुगल शासन व्यवस्था part 1 | Mughal rule

रजिया ने पर्दाप्रथा को त्यागकर तथा पुरुषों की तरह चोगा [काबा] व कुलाह [टोपी] पहनकर राजदरबार में खुले मुहं जाने लगी. रजिया ने मलिक जमालुद्दीन याकूत को अमीर-ए-अखूर [घोड़े का सरदार] नियुक्त किया था.

गैर तुर्कों को सामंत बनाने के रजिया के प्रयासों से तुर्की अमीर विरुद्ध हो गए तथा उसे बंदी बनाकर दिल्ली की गद्दी पर मुइजुद्दीन बहरामशाह को बिठा दिया.

रजिया की शादी अल्तुनिया के साथ हुई थी. इससे विवाह करने के बाद रजिया ने पुनः गद्दी प्राप्त करने का प्रयास किया किन्तु वह असफल रही. रजिया की हत्या 13 अक्टूबर 1240 ई. को डाकुओं द्वारा कैथल के पास कर दी गई थी.

यह भी देखे :- गुलाम वंश | slave dynasty

बहराम शाह को बंदी बनाकर उसकी हत्या मई 1242 ई. में कर दी गई थी. उसके बाद दिल्ली का सुल्तान अलाउद्दीन मसूद शाह बना था. बलबन ने षड्यंत्र से 1246 ई. में अलाउद्दीन मसूद शाह को सुल्तान के पद से हटा कर नासिरुद्दीन मुहम्मद को सुल्तान बना दिया था.

नासिरुद्दीन मुहम्मद एक ऐसा सुल्तान था जो टोपी सीकर अपना जीवन निर्वाह करता था. बलबन ने अपनी पुत्री का विवाह नासिरुद्दीन मुहम्मद के साथ किया था. बलबन का वास्तविक नाम बहाउद्दीन था. यह इल्तुतमिश का गुलाम था. तुर्कान-ए-चिहलगानी का विनाश बलबन ने किया था.

गुलाम वंश
गुलाम वंश

बलबन 1266 ई. में गियासुद्दीन बलबन के नाम से दिल्ली की गद्दी पर बैठा था. यह मंगोलों के आक्रमण से दिल्ली की रक्षा करने में सफल रहा था. सीरी नामक न्य नगर बलबन ने बसाया था. राजदरबार में सिजदा व पैबौस प्रथा की शुरुआत बलबन ने की थी.

यह भी देखे :- औरंगजेब का इतिहास | History of Aurangzeb

बलबन ने फारसी रीती-रिवाज पर आधारित नवरोज उत्सव को प्रारंभ करवाया था. [फारसी साल का पहला दिन]. अपने विरोधियों के प्रति बलबन ने कठोर “लौह व् रक्त” निति का पालन किया था.

See also  अजमेर सूबे का निर्माण

नासिरुद्दीन मुहम्मद ने बलबन को उलुग खां की उपाधि प्रदान की थी. बलबन आखेट अभियान के बहाने अपनी सेना को लम्बी दूरी तक कवायद कराकर दुरुस्त रखता था. बलबन के दरबार में फारसी के प्रसिद्द कवि अमीर खुसरो व् अमीर हसन रहते थे. गुलाम वंश का अंतिम शासक श्म्मुद्दीन कैमुर्स था.

गुलाम वंश FAQ

Q 1. गुलाम वंश की स्थापना किसने की थी?

Ans गुलाम वंश की स्थापना कुतुबद्दीन ऐबक ने की थी.

Q 2. गुलाम वंश की स्थापना कब हुई थी?

Ans गुलाम वंश की स्थापना 1206 ई. में हुई थी.

Q 3. कुतुबद्दीन ऐबक किसका गुलाम था?

Ans कुतुबद्दीन ऐबक, गौरी का गुलाम था.

Q 4. गुलामों को फारसी में क्या कहा जाता था?

Ans गुलामों को फारसी में बंदगो कहा जाता था.

Q 5. कुतुबद्दीन ऐबक ने अपना राज्याभिषेक कब किया था?

Ans कुतुबद्दीन ऐबक ने अपना राज्याभिषेक 24 जून 1206 ई. में किया था.

Q 6. कुतुबमीनार की नींव किसने डाली थी?

Ans कुतुबमीनार की नींव कुतुबद्दीन ऐबक ने डाली थी.

Q 7. कुतुबद्दीन ऐबक ऐबक के समय में कुतुबमीनार की केवल कितनी मंजिल ही बन सकी थी?

Ans कुतुबद्दीन ऐबक ऐबक के समय में कुतुबमीनार की केवल पहली मंजिल ही बन सकी थी.

Q 8. इल्तुतमिश ने कुतुबमीनार को कितना ऊँचा बनाया था?

Ans इल्तुतमिश ने कुतुबमीनार को 225 फीट ऊँचा बनाया था.

Q 9. इल्तुतमिश ने कुतुबमीनार को कितनी मंजिल बनाया था?

Ans इल्तुतमिश ने कुतुबमीनार को चार मंजिल बनाया था.

Q 10. दिल्ली का कुवत-उल-इस्लाम मस्जिद व अजमेर की अढाई दिन का झोपड़ा नामक मस्जिद का निर्माण किसने करवाया था?

Ans दिल्ली का कुवत-उल-इस्लाम मस्जिद व अजमेर की अढाई दिन का झोपड़ा नामक मस्जिद का निर्माण कुतुबद्दीन ऐबक ने करवाया था.

Q 11. कुतुबद्दीन ऐबक को और किस नाम से भी कहा जाता था?

Ans कुतुबद्दीन ऐबक को लाख बख्श [लाखों का दान देने वाला] भी कहा जाता था.

Q 12. प्राचीन नालंदा विश्वविद्यालय को ध्वस्त करने वाला कुतुबद्दीन ऐबक का सहायक सेनानायक कौन था?

Ans प्राचीन नालंदा विश्वविद्यालय को ध्वस्त करने वाला कुतुबद्दीन ऐबक का सहायक सेनानायक बख्तियार खिलजी था.

Q 13. कुतुबद्दीन ऐबक की मृत्यु कब हुई थी?

Ans कुतुबद्दीन ऐबक की मृत्यु 1210 ई. में हुई थी.

Q 14. कुतुबद्दीन ऐबक का उतराधिकारी कौन था?

Ans कुतुबद्दीन ऐबक का उतराधिकारी आरामशाह था.

Q 15. इल्तुतमिश की मृत्यु कब हुई थी?

Ans इल्तुतमिश की मृत्यु अप्रैल 1236 ई. में हुई थी.

Q 16. प्रथम मुस्लिम बेगम कौन थी?

Ans प्रथम मुस्लिम बेगम रजिया थी.

Q 17. शाह तुरकान के अवांछित प्रभाव से परेशान होकर तुर्की अमीरों ने रुकनुद्दीन को गद्दे से हटा कर किसको गद्दी पर आसीन किया था?
See also  स्वतंत्र प्रांतीय राज्य बंगाल व मालवा | Bengal and Malwa

Ans शाह तुरकान के अवांछित प्रभाव से परेशान होकर तुर्की अमीरों ने रुकनुद्दीन को गद्दे से हटा कर रजिया को गद्दी पर आसीन किया था.

Q 18. रजिया ने किसको अमीर-ए-अखूर [घोड़े का सरदार] नियुक्त किया था?

Ans रजिया ने मलिक जमालुद्दीन याकूत को अमीर-ए-अखूर [घोड़े का सरदार] नियुक्त किया था.

Q 19. रजिया के किस प्रयासों से तुर्की अमीर विरुद्ध उसके हो गए?

Ans गैर तुर्कों को सामंत बनाने के रजिया के प्रयासों से तुर्की अमीर विरुद्ध हो गए.

Q 20. रजिया को बंदी बनाकर दिल्ली की गद्दी पर किसको बिठा दिया गया था?

Ans रजिया को बंदी बनाकर दिल्ली की गद्दी पर मुइजुद्दीन बहरामशाह को बिठा दिया गया था.

Q 21. रजिया की शादी किसके साथ हुई थी?

Ans रजिया की शादी अल्तुनिया के साथ हुई थी.

Q 22. रजिया की हत्या कब कर दी गई थी?

Ans रजिया की हत्या 13 अक्टूबर 1240 ई. को कर दी गई थी.

Q 23. रजिया की हत्या कहाँ कर दी गई थी?

Ans रजिया की हत्या कैथल के निकट कर दी गई थी.

Q 24. रजिया की हत्या किसने की थी?

Ans रजिया की हत्या डाकुओं ने की थी.

Q 25. बहराम शाह को बंदी बनाकर उसकी हत्या कब कर दी गई थी?

Ans बहराम शाह को बंदी बनाकर उसकी हत्या मई 1242 ई. में कर दी गई थी.

Q 26. बहराम शाह के बाद दिल्ली का सुल्तान कौन बना था?

Ans बहराम शाह के बाद दिल्ली का सुल्तान अलाउद्दीन मसूद शाह बना था.

Q 27. अलाउद्दीन मसूद शाह को सुल्तान के पद से किसने हटाया था?

Ans बलबन ने षड्यंत्र से अलाउद्दीन मसूद शाह को सुल्तान के पद से हटाया था.

Q 28. अलाउद्दीन मसूद शाह के बाद दिल्ली का सुल्तान कौन था?

Ans अलाउद्दीन मसूद शाह के बाद दिल्ली का सुल्तान नासिरुद्दीन मुहम्मद था.

Q 29. राजदरबार में सिजदा व पैबौस प्रथा की शुरुआत किसने की थी?

Ans राजदरबार में सिजदा व पैबौस प्रथा की शुरुआत बलबन ने की थी.

Q 30. गुलाम वंश का अंतिम शासक कौन था?

Ans गुलाम वंश का अंतिम शासक श्म्मुद्दीन कैमुर्स था.

यह भी देखे :- शाहजहाँ – दिल्ली सल्तनत

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment