शेरशाह सूरी | Sher Shah Suri

शेरशाह सूरी | Sher Shah Suri | सूर साम्राज्य का संस्थापक अफगान वंशीय शेरशाह सूरी था. शेरशाह बिलग्राम युद्ध के बाद [1540 ई.] दिल्ली की गद्दी पर बैठा था

शेरशाह सूरी | Sher Shah Suri

इनके बचपन का नाम फरीद खां था. यह सूर वंश से सम्बंधित था. इनके पिता हसन खां जौनपुर राज्य के अंतर्गत सासाराम के जमींदार थे. फरीद ने के शेर को तलवार के एक ही वार से मार दिया था. उसकी इस बहादुरी से प्रसन्न होकर बिहार के अफगान शासक सुल्तान मुहम्मद बहार खां लोहानी ने ने उसे शेर खां की उपाधि प्रदान की थी.

यह भी देखे :- मुगल शासक हुमायूँ | Humayun Mughal Ruler

शेरशाह बिलग्राम युद्ध के बाद [1540 ई.] दिल्ली की गद्दी पर बैठा था. शेरशाह की मृत्यु कालिंजर के किले को जीतने के क्रम में 22 मई 1545 ई. को हो गई थी. मृत्यु के समय वह उक्का नाम का अग्नि अस्त्र चला रहा था. कालिंजर का शासक कीरत सिंह था.

हिन्द तथा ईरानी वास्तुकला के समन्वय का प्रथम उदहारण है, शेरशाह का मकबरा जिसे सासाराम में झील के मध्य ऊँचे टीले पर निर्मित किया गया था.

शेरशाह सूरी | Sher Shah Suri
शेरशाह सूरी | Sher Shah Suri

रोहतासगढ़ किला, किला-ए-कुहना नामक मस्जिद का निर्माण शेरशाह द्वारा करवाया गया था. शेरशाह का उतराधिकारी उसका पुत्र इस्लाम शाह था.

यह भी देखे :- मुगल साम्राज्य | Mughal Empire

शेरशाह ने भूमि के माप के लिए 32 अंक वाला सिकंदरी गज व सन की डंडी का प्रयोग किया जाता था. इसने 178 ग्रेन चांदी का रुपया व 380 ग्रेन तांबे के दाम चलवाया था.

See also  मध्यकालीन कृषक जातियां

शेरशाह ने रोहतासगढ़ के दुर्ग व कन्नौज के पर शेरसुर नामक नगर बसाया था. शेरशाह के समय पैदावार का लगभग 1\3 भाग सरकार लगान के रूप में वसूला करती थे. कबूलियत व पट्टा प्रथा की शुरुआत शेरशाह ने की थी.

शेरशाह ने 1541 ई. में पाटलिपुत्र को पटना नाम से पुनः स्थापित किया. इसने ग्रैंड ट्रक रोड की मरम्मत करवाई थी. डाक-प्रथा का शेरशाह द्वारा ही किया गया था. मलिक मुहम्मद जायसी शेरशाह के समकालीन थे.

यह भी देखे :- सैय्यद राजवंश | Sayyid Dynasty

शेरशाह सूरी FAQ

Q 1. सूर साम्राज्य का संस्थापक कौन था?

Ans सूर साम्राज्य का संस्थापक अफगान वंशीय शेरशाह सूरी था.

Q 2. डॉ. के. आर. कानूनगो के अनुसार शेरशाह का जन्म कहाँ हुआ था?

Ans डॉ. के. आर. कानूनगो के अनुसार हरियाणा प्रान्त के नारनौल स्थान पर शेरशाह का जन्म हुआ था.

See also  समाधि प्रथा
Q 3. डॉ. के. आर. कानूनगो के अनुसार शेरशाह का जन्म कब हुआ था?

Ans डॉ. के. आर. कानूनगो के अनुसार 1486 ई. में शेरशाह का जन्म हुआ था.

Q 4. डॉ. के. आर. कानूनगो के अनुसार शेरशाह के पिता का नाम क्या था?

Ans डॉ. के. आर. कानूनगो के अनुसार शेरशाह के पिता का नाम हसन था.

Q 5. परमात्मा शरण के अनुसार शेरशाह का जन्म कब हुआ था.

Ans परमात्मा शरण के अनुसार शेरशाह का जन्म वर्ष 1472 ई. में हुआ था.

Q 6. शेरशाह के बचपन का नम क्या था?

Ans शेरशाह के बचपन का नम फरीद था.

Q 7. शेरशाह किस वंश से सम्बंधित था?

Ans शेरशाह सूर वंश से सम्बंधित था.

Q 8. शेरशाह के पिता हसन खां कहाँ के जमींदार थे?

Ans पिता हसन खां जौनपुर राज्य के अंतर्गत सासाराम के जमींदार थे.

Q 9. अफगान शासक सुल्तान मुहम्मद बहार खां लोहानी ने शेरशाह को कौनसी उपाधि प्रदान की थी.

Ans अफगान शासक सुल्तान मुहम्मद बहार खां लोहानी ने शेरशाह को शेर खां की उपाधि प्रदान की थी.

Q 10. शेरशाह किस युद्ध के बाद दिल्ली की गद्दी पर बैठा था?
See also  खिलजी वंश के शासक | Rulers of Khilji Dynasty

Ans शेरशाह बिलग्राम युद्ध के बाद के बाद दिल्ली की गद्दी पर बैठा था.

Q 11. बिलग्राम युद्ध कब हुआ था?

Ans बिलग्राम युद्ध 1540 ई. में हुआ था.

Q 12. शेरशाह की मृत्यु कब हुई थी?

Ans शेरशाह की मृत्यु 22 मई 1545 ई. को हो गई थी.

Q 13. शेरशाह के मकबरे कहाँ निर्मित किया गया था?

Ans शेरशाह के मकबरे को सासाराम में झील के मध्य ऊँचे टीले पर निर्मित किया गया था.

Q 14. रोहतासगढ़ किला, किला-ए-कुहना नामक मस्जिद का निर्माण किसके द्वारा करवाया गया था?

Ans रोहतासगढ़ किला, किला-ए-कुहना नामक मस्जिद का निर्माण शेरशाह द्वारा करवाया गया था.

Q 15. शेरशाह का उतराधिकारी उकौन था?

Ans शेरशाह का उतराधिकारी उसका पुत्र इस्लाम शाह था.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- महमूद गजनी के भारत पर आक्रमण

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment