सेन राजवंश | Sen dynasty

सेन राजवंश | Sen dynasty | सेन वंश की स्थापना सामंत सेन ने राढ़ में की थी. इसकी राजधानी नदिया [लखनौती] थी. सेन वंश का प्रथम स्वतंत्र शासक विजयसेन था

सेन राजवंश | Sen dynasty

सेन वंश की स्थापना सामंत सेन ने राढ़ में की थी. इसकी राजधानी नदिया [लखनौती] थी. सेन वंश के प्रमुख शासक विजय सेन, बल्लाल सेन, लक्ष्मण सेन थे. सेन वंश का प्रथम स्वतंत्र शासक विजयसेन था. यह शैव धर्म का अनुनायी था.

सामंत सेन ने अपनी प्रतिष्ठा में वृद्धि दक्षिण के एक शासक, लगभग द्रविड़ देश के राजेन्द्र चोल को परास्त कर की थी. अपने परिवार की प्रतिष्ठा को स्थापित करने वाला सामन्तसेन का पौत्र विजयसेन ही था.

विजयसेन ने वंग के वर्मन शासन का अन्त किया, अपनी राजधानी विक्रमपुर में स्थापित की, गौड़ पर अपना अधिकार कर लिया तथा मदनपाल [पालवंश] को अपदस्थ किया, गहड़वालों के विरुद्ध जलसेना द्वारा गंगा के मार्ग से आक्रमण किया, नान्यदेव को हराकर मिथिला पर अधिकार किया, उड़ीसा पर धावा बोला, आसाम पर आक्रमण किया व कलिंग के शासक अनंत वर्मन चोड़गंग के पुत्र राघव को परास्त किया।

यह भी देखे :- परमार राजवंश | Parmar Dynasty

सेन राजवंश भारत का एक ब्रह्मक्षत्रिय वंश था. इस वंश ने बंगाल पर अपना प्रभुत्व 12वीं शताब्दी के मध्य स्थापित किया था. इस राजवंश ने बंगाल पर 160 साल तक शासन किया था. यह वंश अपने चरमोत्कर्ष के समय पूर्वोत्तर भारतीय महाद्वीप क्षेत्र, इस साम्राज्य के अन्तर्गत आता था. इस वंश का मूल स्थान कर्नाटक था.

इस वंश के काल में कई मंदिर बने। एक धारणा है कि ढाकेश्वरी मन्दिर बल्लाल सेन ने बनवाया था। लक्ष्मण सेन के कवि जयदेव पंचरत्न थे। ये सेन वंश वर्तमान में बिखर गया है

सेन राजवंश | Sen dynasty
सेन राजवंश | Sen dynasty

इस वंश के शासक स्वयं को ब्रह्म क्षत्रिय, क्षत्रिय तथा कर्णाट क्षत्रिय मानते हैं तथा स्वयं उत्पत्ति पौराणिक कर्नाट वंश के नायकों से मानते हैं, जो दक्षिण अथवा दक्षिणापथ के शासक माने जाते हैं.

यह भी देखे :- सोलंकी राजवंश | solanki dynasty

दानसागर एवं अद्भुत सगार नामक ग्रन्थ की रचना सेन शासक बल्लाल सेन ने की थी. अद्भुत सागर को लक्ष्मण सेन ने पूर्ण रूप दिया था. लक्ष्मण की राज्यसभा में गीतगोविन्द के लेखक जयदेव, पवन दूत के लेखक धोयी एवं ब्राह्मणसर्वस्व के लेखक हलायुध रहते थे.

हलायुध लक्ष्मण सेन का प्रधान न्यायधीश व मुख्यमंत्री था. विजयसेन एन देवपाड़ा में प्रद्युमनेश्वर मंदिर [शिवजी का विशाल मंदिर] की स्थापना की थी. सेन वंश ऐसा प्रथम वंश था, जिसने अपना अभिलेख सर्वप्रथम हिंदी में उत्कीर्ण करवाया था. लक्ष्मण सेन बंगाल का अंतिम हिन्दू शासक था.

सेन वंश के शासक

  1. हेमन्त सेन [1070 ई.]
  2. विजय सेन [1096 से 1159 ई.]
  3. बल्लाल सेन [1159 से 1179 ई.]
  4. लक्ष्मण सेन [1179 से 1206 ई.]
  5. विश्वरूप सेन [1206 से 1225 ई.]
  6. केशव सेन [1225 से 1230 ई.]
यह भी देखे :- चौहान राजवंश | Chauhan dynasty

सेन वंश FAQ

Q 1. सेन वंश की स्थापना किसने की थी?

Ans सेन वंश की स्थापना सामंत सेन ने की थी.

Q 2. सेन वंश की स्थापना कहाँ की गई थी?

Ans सेन वंश की स्थापना राढ़ में की गई थी.

Q 3. सेन वंश की राजधानी कहाँ स्थित थी?

Ans सेन वंश की राजधानी नदिया [लखनौती] में स्थित थी.

Q 4. सेन वंश के प्रमुख शासक कौन- कौन थे?

Ans सेन वंश के प्रमुख शासक विजय सेन, बल्लाल सेन, लक्ष्मण सेन थे.

Q 5. सेन वंश का प्रथम स्वतंत्र शासक कौन था?

Ans सेन वंश का प्रथम स्वतंत्र शासक विजयसेन था.

Q 6. विजय सेन किस धर्म किस अनुनायी था?

Ans विजय सेन शैव धर्म का अनुनायी था.

Q 7. अपने परिवार की प्रतिष्ठा को स्थापित करने वाला शासक कौन था?

Ans अपने परिवार की प्रतिष्ठा को स्थापित करने वाला सामन्तसेन का पौत्र विजयसेन ही था.

Q 8. वंग के वर्मन शासन का अन्त किसने किया था?

Ans विजयसेन ने वंग के वर्मन शासन का अन्त किया था.

Q 9. विजय सेन ने अपनी राजधानी कहाँ स्थापित की थी?

Ans विजय सेन ने अपनी राजधानी विक्रमपुर में स्थापित की.

Q 10. सेन राजवंश ने बंगाल पर कितने साल तक शासन किया था?

Ans सेन राजवंश ने बंगाल पर 160 साल तक शासन किया था.

Q 11. सेन वंश का मूल स्थान कहाँ था?

Ans सेन वंश का मूल स्थान कर्नाटक था.

Q 12. ढाकेश्वरी मन्दिर का निर्माण किसने करवाया था?

Ans ढाकेश्वरी मन्दिर का निर्मण बल्लाल सेन ने करवाया था.

Q 13. दानसागर एवं अद्भुत सगार नामक ग्रन्थ की रचना किस सेन शासक ने की थी?

Ans दानसागर एवं अद्भुत सगार नामक ग्रन्थ की रचना सेन शासक बल्लाल सेन ने की थी.

Q 14. अद्भुत सागर को पूर्ण रूप किसने दिया था?

Ans अद्भुत सागर को लक्ष्मण सेन ने पूर्ण रूप दिया था.

Q 15. बंगाल का अंतिम हिन्दू शासक कौन था?

Ans लक्ष्मण सेन बंगाल का अंतिम हिन्दू शासक था.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- पाल राजवंश | Pala Dynasty

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published.