सैय्यद राजवंश | Sayyid Dynasty

सैय्यद राजवंश | Sayyid Dynasty | दिल्ली सल्तनत का सैयद वंश अथवा सय्यद वंश चतुर्थ वंश था, इसका कार्यकाल 1414 ई. से 1451 तक था

सैय्यद राजवंश | Sayyid Dynasty

दिल्ली सल्तनत का सैयद वंश अर्थार्त सय्यद वंश चतुर्थ वंश था, इसका कार्यकाल 1414 ई. से 1451 तक था. तुग़लक़ वंश के इस बाद राज्य की स्थापना हुई थी.

यह राजपरिवार सैयद अथवा मुहम्मद के वंशज माने जाता है। दिल्ली सल्तनत का कन्द्रीय नेतृत्व लगातार तैमूर के आक्रमणों के कारण पूरी तरह से हतास हो चुका था तथा उसे 1398 तक लूट लिया गया था। इस उथल-पुथल के समय में, जब दिल्ली पर कोई सत्ता नहीं थी, सैयदों ने दिल्ली में अपनी शक्ति का विस्तार किया। इस वंश के विभिन्न चार शासकों ने दिल्ली सल्तनत का 37 वर्षों तक नेतृत्व किया।

यह भी देखे :- सूफी आन्दोलन | Sufi Movement

खिज़्र खान ने 27 मई 1414 ई. को दौलत खान लोदी से दिल्ली की सत्ता छीनकर सैयद वंश की स्थापना की थी.

सैय्यद वंश का संस्थापक खिज्र खां था. इसे तैमुर ने मुल्तान का राज्यपाल न्युक्त किया था. इसने सुल्तम की उपाधि धारण न कर अपने को रैयत-ए-आला की उपाधि से ही खुश रखा था. यह तैमुरलंग का सेनापति था. भारत से लौटते समय तैमुरलंग ने खिज्र कहन को मुल्तान, लाहौर तथा दीपालपुर का शासक नियुक्त किया था. खिज्र कण नियमित रूप से तैमुर के पुत्र शाहरुख को कर भेजता था.

सैय्यद राजवंश | Sayyid Dynasty
सैय्यद राजवंश | Sayyid Dynasty

खिज्र खां की मृत्यु 20 मई 1421 में हो गई थी. ख़िज्र खान की मृत्यु के बाद उनके पुत्र [मुबारक खान] ने सत्ता अपने हाथ में ली तथा अपने सिक्कों में अपने आप को मुइज़्ज़ुद्दीन मुबारक शाह के रूप में अंकित करवाया था.

यह भी देखे :- महमूद गजनी के भारत पर आक्रमण

मुबारक खां ने शाह की उपाधि धारण की थी. याहिया बिन अहमद सरहिन्दी को मुबारक शाह का संरक्षण प्राप्त था. इसकी पुस्तक तारीख-ए-मुबारक शाही में सैय्यद वंश के बारें में जानकारी मिलती है. यमुना किनारें मुबारकाबाद की स्थापना मुबारक शाह ने की थी.

See also  त्याग प्रथा

मुबारक खान की मृत्यु के बाद सता, मुबारक खान के दत्तक पुत्र मुहम्मद खान ने हाथ में ली तथा इसने अपने आप को सुल्तान मुहम्मद शाह के रूप में रखा.

इस वंश के अन्तिम शासक अलाउद्दीन आलम शाह था. इसने खुद की इच्छा से 19 अप्रैल 1451 को दिल्ली सल्तनत को बहलूल खान लोदी के लिए छोड़ दिया तथा बदायूं चला गया। वो 1478 में अपनी मृत्यु के समय तक बदायूं में ही रहा था.

सैय्यद वंश का शासन करीब 37 वर्षों तक रहा था.

सैय्यद राजवंश के शासक

  • ख़िज़्र खाँ [1414 ई. से 1421 ई.]
  • मुबारक़ शाह [1421 ई. से 1434 ई.]
  • मुहम्मद शाह [1434 ई. से 1445 ई.]
  • आलमशाह शाह [1445 ई. से 1451 ई.]
यह भी देखे :- लोदी राजवंश | Lodi dynasty

सैय्यद राजवंश FAQ

Q 1. दिल्ली सल्तनत का सैयद वंश कितना वंश था?
See also  मध्यकालीन भू-राजस्व प्रशासन

Ans दिल्ली सल्तनत का सैयद वंश चतुर्थ वंश था.

Q 2. सैय्यद वंश का कार्यकाल कहाँ से कहाँ तक था?

Ans सैय्यद वंश का कार्यकाल 1414 ई. से 1451 तक था.

Q 3. किस वंश के बाद सैय्यद वंश की सथापना हुई थी?

Ans तुगलक वंश के बाद सैय्यद वंश की स्थापना हुई थी.

Q 4. यह राजपरिवार किसका वंशज माना जाता है?

Ans यह राजपरिवार सैयद अथवा मुहम्मद के वंशज माने जाता है.

Q 5. सैय्यद वंश के कितने शासकों ने दिल्ली सल्तनत पर शासन किया था?

Ans सैय्यद वंश के 4 शासकों ने दिल्ली सल्तनत पर शासन किया था.

Q 6. सैय्यद वंश ने कितने वर्षों तक दिल्ली सल्तनत पर शासन किया था?

Ans सैय्यद वंश ने 37 वर्षों तक दिल्ली सल्तनत पर शासन किया था.

Q 7. सैय्यद वंश का संस्थापक कौन था?

Ans सैय्यदा वंश का संस्थापक खिज्र खान था.

Q 8. खिज्र खां ने किससे दिल्ली सल्तनत छीन कर सैय्यद वंश की स्थापना की थी?

Ans खिज्र खां ने दौलत खान लोदी से दिल्ली की सत्ता छीनकर सैयद वंश की स्थापना की थी.

See also  शाकम्भरी एवं अजमेर के चौहान राजवंश
Q 9. सैय्यद वंश की स्थापना कब हुई थी?

Ans सैय्यद वंश की स्थापना 27 मई 1414 ई. को हुई थी.

Q 10. खिज्र खां की मृत्यु कब हो गई थी?

Ans खिज्र खां की मृत्यु 20 मई 1421 में हो गई थी.

Q 11. खिज्र खां का उतराधिकारी कौन था?

Ans खिज्र खां का उतराधिकारी मुबारक खान था.

Q 12. मुबारक खां ने कौनसी उपाधि धारण की थी?

Ans मुबारक खां ने शाह की उपाधि धारण की थी.

Q 13. यमुना किनारें मुबारकाबाद की स्थापना किसने की थी?

Ans यमुना किनारें मुबारकाबाद की स्थापना मुबारक शाह ने की थी.

Q 14. मुबारक शाह का उतराधिकारी कौन था?

Ans मुबारक शाह का उतराधिकारी मुहम्मद खान था.

Q 15. सैय्यद वंश का अंतिम शासक कौन था?

Ans सैय्यद वंश का अंतिम शासक अलाउद्दीन आलम शाह था.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- गुर्जर प्रतिहार राजवंश | Gurjara Pratihara Dynasty

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment