सवाई माधोसिंह द्वितीय

सवाई माधोसिंह द्वितीय | सवाई रामसिंह के निःसंतान मर जाने से उनके गोद लिए हुए श्री माधोसिंह द्वितीय जयपुर के सिंहासन पर बैठे। इनके काल में जयपुर रियासत की सभी तरह से उन्नति हुई

सवाई माधोसिंह द्वितीय

सवाई रामसिंह के निःसंतान मर जाने से उनके गोद लिए हुए श्री माधोसिंह द्वितीय जयपुर के सिंहासन पर बैठे। इनके काल में जयपुर रियासत की सभी तरह से उन्नति हुई. ये 1902 ई. में ब्रिटिश सम्राट एडवर्ड सप्तम के राज्याभिषेक समारोह में शामिल होने इंग्लैण्ड गये। इन्होंने शुद्धता एवं पवित्रता का अत्यधिक ध्यान रखा।

यह भी देखे :- सवाई रामसिंह द्वितीय
सवाई माधोसिंह द्वितीय
सवाई माधोसिंह द्वितीय
यह भी देखे :- सवाई जगतसिंह द्वितीय

ये अपने साथ गंगा जल से भरे हुए चांदी के दो विशाल जार ले गये थे। जिसमें प्रत्येक का वजन 345-345 किग्रा. था तथा प्रत्येक की क्षमता 900 गेलन थी। इसी पानी से उनका खाना, नहाना, पीना आदि क्रियायें हुई। ये जार विश्व के सबसे बड़े जार हैं जो गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में नामित हैं। ये दोनों जार सिटी पैलेस, जयपुर के दीवान-ए-खास में रखे हुए हैं। सवाई माधोसिंह ने जयपुर के सिटी पैलेस में मुबारक महल बनवाया जो हिन्दू, इस्लामिक तथा ईसाई शौलियों का खूबसूरत नमूना है। यह महल मेहमान नवाजी के लिये था।

वर्तमान में यह सिटी पैलेस म्यूजियम में परिवर्तित हो गया है। माधोसिंह ने नोहरगढ़ के दुर्ग में नौ पासवानों के नाम से एक ही आकार-प्रकार के नौ सुन्दर महल बनवाये। सवाई माधोसिंह बब्बर शेर के नाम से प्रसिद्ध था। जब पंडित मदनमोहन मालवीय जी जयपुर आये तो उनका भव्य स्वागत कर बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के लिए इन्होंने 5 लाख रुपये दिये थे। साथ ही महाराजा माधोसिंह ने महामना को यह आश्वासन दिया की आगे भी हिन्दू विश्वविद्यालय के लिए ऐसे ही सहायता दी जाती रहेगी। इस कार्य को महाराजा सवाई मानसिंह ने बखूबी निभाया। 1922 ई. में सवाई माधोसिंह द्वितीय की मृत्यु हो गई।

यह भी देखे :- मालपुरा (टोंक) का युद्ध

सवाई माधोसिंह द्वितीय FAQ

Q 1. सवाई रामसिंह के निःसंतान मर जाने के बाद जयपुर के सिंहासन पर कौन बैठे थे?

Ans – सवाई रामसिंह के निःसंतान मर जाने से उनके गोद लिए हुए श्री माधोसिंह द्वितीय जयपुर के सिंहासन पर बैठ.

Q 2. जयपुर के सिटी पैलेस में मुबारक महल किसने बनवाया था?

Ans – जयपुर के सिटी पैलेस में मुबारक महल माधोसिंह ने ने बनवाया था.

Q 3. माधोसिंह द्वितीय किस नाम से प्रसिद्द था?

Ans – माधोसिंह द्वितीय बब्बर शेर के नाम से प्रसिद्ध था.

Q 4. माधोसिंह द्वितीय की मृत्यु कब हुई थी?

Ans – माधोसिंह द्वितीय की मृत्यु 1922 ई. में हुई थी.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- पाटन का युद्ध

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published.