भारत में शक साम्राज्य | Saka Empire in India

भारत में शक साम्राज्य | Saka Empire in India | यूनानियों के बाद भारत में शक आक्रमणकारी आये थे. शकों की पांच शाखाएँ थी व हर शाखा की राजधानी भारत व अफगानिस्तान में अलग-अलग थी

भारत में शक साम्राज्य | Saka Empire in India

यूनानियों के बाद भारत में शक आक्रमणकारी आये थे. शकों की पांच शाखाएँ थी व हर शाखा की राजधानी भारत व अफगानिस्तान में अलग-अलग थी. पहली शाखा ने अफगानिस्तान दूसरी ह्सखा ने पंजाब, तीसरी शाखा ने मथुरा, चौथी शाखा ने पश्चिम भारत व पांचवी शाखा ने उपरी दक्कन पर प्रभुत्व स्थापित किया था.

प्रथम शक राजा मोअ था. शक मूलतः मध्य एशिया के निवासी थे व चारागाह की खोज में भारत आए थे. 58 ईसा पूर्व में उज्जैन के एक स्थानीय राजा ने शकों को पराजित करके बहार खदेड़ दिया व विक्रमादित्य की उपाधि धारण की.

यह भी देखे :- ब्राह्मण साम्राज्य | Brahmin kingdom

शकों पर विजय के उपलक्ष्य में 58 ईसा पूर्व से एक नया संवत प्रारंभ हुआ जिसे विक्रम संवत कहा गया. उसी समय से विक्रमादित्य एक लोकप्रिय उपाधि बन गई थी. जिसकी संख्या भारत के इतिहास में 14 तक पहुँच गई है. गुप्त सम्राट चन्द्रगुप्त 2 सबसे विख्यात विक्रमादित्य था.

शकों की अन्य शाखाओ की तुलना में पश्चिमी भारत में प्रभुत्व स्थापित करने वाली शाखा सबसे लम्बे अरसे तक शासन किया था. गुजरात में चल रहे समुंद्री व्यापर से यह शाखा काफी लाभान्वित हुई थी व भरी संख्या में चांदी के सिक्के जारी किए थे.

भारत में शक साम्राज्य | Saka Empire in India
भारत में शक साम्राज्य | Saka Empire in India
यह भी देखे :- सम्राट अशोक का शासनकाल

शकों का सबसे प्रतापी शासक रुद्रदामन प्रथम था. जिसका शासन गुजरात के बड़े भाग पर थर. इसने काठियावाड़ की अर्द्धशुष्क सुदर्शन झील का पुनर्निर्माण करवाया था. रुद्रदामन संस्कृत का बड़ा प्रेमी था. उसने ही सबसे पहले विशुद्ध संस्कृत भाषा में लम्बा अभिलेख जारी किया था, इसके पहले के सभी अभिलेख प्राकृत भाषा में रचित थे.

भारत में शक राजा अपने को क्षत्रप कहते थे.

पश्चिम उतर भारत में शकों के आधिपत्य के बाद पार्थियाई लोगों का आधिपत्य हुआ था. सबसे प्रसिद्ध पार्थियाई राजा गोंडोफर्निस था. इसी के शासनकाल में सेंट टामस इसाई धर्म के प्रचार के लिए भारत आया था. पार्थियाई लोगों का मूल स्थान ईरान में था.

यह भी देखे :- सम्राट अशोक के अभिलेख

भारत में शक साम्राज्य FAQ

Q 1. यूनानियों के बाद भारत में कौनसे आक्रमणकारी आये थे?

Ans यूनानियों के बाद भारत में शक आक्रमणकारी आये थे.

Q 2. शकों की कितनी शाखाएँ थी?

Ans शकों की पांच शाखाएँ थी.

Q 3. शकों की पहली शाखा कहाँ स्थित थी?

Ans शकों पहली शाखा ने अफगानिस्तान में स्थित थी.

Q 4. प्रथम शक राजा कौन था?

Ans प्रथम शक राजा मोअ था.

Q 5. शक मूलतः कहाँ के निवासी थे?

Ans शक मूलतः मध्य एशिया के निवासी थे.

Q 6. शक किसकी खोज में भारत आए थे?

Ans शक चारागाह की खोज में भारत आए थे.

Q 7. शकों पर विजय के उपलक्ष्य में कौनसा संवत आरंभ किया गया था?

Ans शकों पर विजय के उपलक्ष्य में विक्रम संवत आरंभ किया गया था.

Q 8. विक्रम संवत कब से आरंभ किया गया था?

Ans विक्रम संवत 58 ईसा पूर्व से आरंभ किया गया है.

Q 9. सबसे विख्यात विक्रमादित्य कौन था?

Ans गुप्त सम्राट चन्द्रगुप्त 2 सबसे विख्यात विक्रमादित्य था.

Q 10. शकों का सबसे प्रतापी शासक कौन था?

Ans शकों का सबसे प्रतापी शासक रुद्रदामन प्रथम था.

Q 11. रुद्रदामन किस भाषा का प्रेमी था?

Ans रुद्रदामन संस्कृत का बड़ा प्रेमी था.

Q 12. सबसे पहले विशुद्ध संस्कृत भाषा में लम्बा अभिलेख किसने जारी किया था?

Ans सबसे पहले विशुद्ध संस्कृत भाषा में लम्बा अभिलेख रुद्रदामन ने जारी किया था.

Q 13. भारत में शक राजा अपने को क्या कहते थे?

Ans भारत में शक राजा अपने को क्षत्रप कहते थे.

Q 14. पश्चिम उतर भारत में शकों के आधिपत्य के बाद किन लोगों ने शासन क्या था?

Ans पश्चिम उतर भारत में शकों के आधिपत्य के बाद पार्थियाई लोगों का आधिपत्य हुआ था.

Q 15. पार्थियाई लोगों का मूल स्थान कहाँ था?

Ans पार्थियाई लोगों का मूल स्थान ईरान में था.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- सम्राट अशोक का सामान्य परिचय

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *