रॉबर्ट क्लाइव | Robert Clive

रॉबर्ट क्लाइव | Robert Clive | बंगाल प्रेसीडेंसी के पहले ब्रिटिश गवर्नर रॉबर्ट क्लाइव थे. इनका जन्म 29 सितंबर 1725 ई. को इंग्लैंड मेंहुआ था. उन्होंने ईस्ट इंडिया कंपनी के लिए एक लेखक के रूप में शुरुआत की थी

रॉबर्ट क्लाइव | Robert Clive

बंगाल प्रेसीडेंसी के पहले ब्रिटिश गवर्नर रॉबर्ट क्लाइव थे. इनका जन्म 29 सितंबर 1725 ई. को इंग्लैंड में हुआ था. उन्होंने ईस्ट इंडिया कंपनी के लिए एक लेखक के रूप में शुरुआत की थी, इसने बंगाल में प्लासी के युद्ध में निर्णायक जीत हासिल करके कंपनी की राजनीतिक तथा सैन्य स्थापित की सर्वोच्चता थी.

क्लाइव 1744 ई. में ईस्ट इंडिया कंपनी के लिए कंपनी एजेंट के रूप में काम करने के लिए फोर्ट सेंट जॉर्ज, मद्रास पहुंचे. क्लाइव कंपनी की सेना में सम्मलित हो गया जहाँ वह अपनी शक्ति साबित करने में सक्षम था.

क्लाइव ने आर्कोट की घेराबंदी में अपनी भूमिका से बहुत प्रशंसा तथा प्रसिद्धि प्राप्त की थी, इसमें कर्नाटक के नवाब, चंदा साहिब तथा कंपनी की सेना की बड़ी ताकतों के खिलाफ ब्रिटिश जीत देखी गई.

यह भी देखे :- लॉर्ड रीडिंग | Lord Reading
  • “क्लाइव ऑफ इंडिया” के नाम से क्लाइव को जाना जाता है.
  • क्लाइव का भारत में प्रारंभिक प्रवास काल 1744 ई. से 1753 ई. तक रहा था.
  • प्लासी का “बैरन लॉर्ड क्लाइव” रॉबर्ट क्लाइव को बनाया गया था.
  • प्लासी के युद्ध के बाद ब्रिटिश, भारतीय उपमहाद्वीप में सर्वोपरि शक्ति बन गई थी.
  • अंग्रेजों के लिए भारत के अन्य हिस्सों को भी खोल दिया गया तथा आखिरकार भारत में ब्रिटिश राज का उदय हुआ.
  • इसी कारण “भारत का विजेता” रॉबर्ट क्लाइव को कहा जाता है.
  • रॉबर्ट क्लाइव 1757 ई. से 1760 ई. तक तथा 1765 ई. से 1767 ई. तक बंगाल के राज्यपाल रहे थे.
  • क्लाइव की मृत्यु 22 नवंबर 1774 ई. में हुई थी.
  • क्लाइव की मृत्यु ब्रिस्टल, यूनाइटेड किंगडम में हुई थी.
यह भी देखे :- लॉर्ड इरविन | Lord Irwin

राज्यपाल के रूप में अपने प्रथम कार्यकाल के दौरान नवाब मीर जाफ़र के अधीन बंगाल में भ्रष्टाचार व्याप्त था. कंपनी का एकमात्र उद्देश्य कृषकों से अधिकतम राजस्व वसूल करना था. 1765 ई. में क्लाइव ने एक ‘सोसायटी ऑफ ट्रेड’ की शुरुआत की लेकिन बाद में इसे समाप्त कर दिया गया था.

रॉबर्ट क्लाइव | Robert Clive
रॉबर्ट क्लाइव | Robert Clive

रॉबर्ट क्लाइव FAQ

Q 1. बंगाल प्रेसीडेंसी के पहले ब्रिटिश गवर्नर कौन थे?
See also  लॉर्ड कर्जन | Lord Curzon

Ans बंगाल प्रेसीडेंसी के पहले ब्रिटिश गवर्नर रॉबर्ट क्लाइव थे.

Q 2. क्लाइव का जन्म कब हुआ था?

Ans क्लाइव का जन्म 29 सितंबर 1725 ई. को हुआ था.

Q 3. क्लाइव का जन्म कहाँ हुआ था?

Ans क्लाइव का जन्म इंग्लैंड में हुआ था.

Q 4. क्लाइव ने ईस्ट इंडिया कंपनी के लिए एक किस रूप में शुरुआत की थी.

Ans क्लाइव ने ईस्ट इंडिया कंपनी के लिए एक लेखक के रूप में शुरुआत की थी.

Q 5. क्लाइव ईस्ट इंडिया कंपनी के लिए कंपनी एजेंट के रूप में काम करने के लिए फोर्ट सेंट जॉर्ज, मद्रास कब पहुंचे थे?
See also  चार्ल्स मेटकॉफ | Charles Metcalf

Ans क्लाइव 1744 ई. में ईस्ट इंडिया कंपनी के लिए कंपनी एजेंट के रूप में काम करने के लिए फोर्ट सेंट जॉर्ज, मद्रास पहुंचे थे.

Q 6. “क्लाइव ऑफ इंडिया” के नाम से किसको जाना जाता है?

Ans “क्लाइव ऑफ इंडिया” के नाम से क्लाइव को जाना जाता है.

Q 7. क्लाइव का प्रारंभिक प्रवास काल में भारत में कब से कब तक रहा था?

Ans क्लाइव का भारत में प्रारंभिक प्रवास काल 1744 ई. से 1753 ई. तक रहा था.

Q 8. प्लासी का “बैरन लॉर्ड क्लाइव” किसको बनाया गया था?

Ans प्लासी का “बैरन लॉर्ड क्लाइव” रॉबर्ट क्लाइव को बनाया गया था.

Q 9. “भारत का विजेता” किस भारत के ब्रिटिश गवर्नर जनरल को कहा गया है?

Ans “भारत का विजेता” भारत के ब्रिटिश गवर्नर जनरल क्लाइव को कहा जाता है.

See also  भारतीय राष्ट्रीय पंचांग
Q 10. रॉबर्ट क्लाइव कब से कब तक बंगाल के राज्यपाल रहे थे?

Ans रॉबर्ट क्लाइव 1757 ई. से 1760 ई. तक तथा 1765 ई. से 1767 ई. तक बंगाल के राज्यपाल रहे थे.

Q 11. क्लाइव की मृत्यु कब हुई थी?

Ans क्लाइव की मृत्यु 22 नवंबर 1774 ई. में हुई थी.

Q 12. क्लाइव की मृत्यु कहाँ हुई थी?

Ans क्लाइव की मृत्यु ब्रिस्टल, यूनाइटेड किंगडम में हुई थी.

Q 13. कंपनी का एकमात्र उद्देश्य क्या था?

Ans कंपनी का एकमात्र उद्देश्य कृषकों से अधिकतम राजस्व वसूल करना था.

Q 14. ”सोसायटी ऑफ ट्रेड” की शुरुआत किसने की थी?

Ans क्लाइव ने एक ‘सोसायटी ऑफ ट्रेड’ की शुरुआत की थी.

Q 15. ”सोसायटी ऑफ ट्रेड” की शुरुआत कब की गई थी?

Ans 1765 ई. में ”सोसायटी ऑफ ट्रेड” की शुरुआत की गई थी.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- लॉर्ड चेम्सफोर्ड | Lord Chelmsford

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment