राव शत्रुशाल हाड़ा

राव शत्रुशाल हाड़ा | यह राव रतन का पोता और गोपीनाथ का पुत्र था। इस पर शाहजहां की बड़ी कृपा थी। उसे बादशाह ने राव पद से विभूषित किया था

राव शत्रुशाल हाड़ा

यह राव रतन का पोता और गोपीनाथ का पुत्र था। इस पर शाहजहां की बड़ी कृपा थी। उसे बादशाह ने राव पद से विभूषित कर तीन हजार जात व दो हजार सवार का मनसब तथा बूंदी और खटकड़ परगने की जागीर देकर खानेजहां के साथ दक्षिण में भेजा।

यह भी देखे :- राव भोज हाड़ा
राव शत्रुशाल हाड़ा
राव शत्रुशाल हाड़ा
यह भी देखे :- राव सुर्जन हाड़ा

1632 ई. में दौलताबाद के किले को जीतने में तथा 1633 ई. में परेंद्र के घेरे में इसने अपनी वीरता का अच्छा परिचय दिया। बुरहानपुर और खानदेश के अभियानों में इसकी श्लाघनीय सेवाएं थी।

See also  अकबर का अजमेर आगमन

जब शाहजहां के पुत्रों में गृह युद्ध आरम्भ हुआ तो वह सामूगढ़ के युद्ध में शाही फौजों के साथ रहकर औरंगजेब से लड़ा था। जब दारा हाथी छोड़कर गायब हो गया तो शत्रुशाल ने हाथी पर सवार होकर युद्ध की प्रगति को बनाये रखा। इससे रण-स्थल में गोली लगने से 1658 ई. में वह अपने कई संबंधियों के साथ वीरगति को प्राप्त हुआ। राव छत्रशाल एक कलाप्रेमी शासक भी था उसने केशवरायपाटन (बूंदी) में ‘केशवराय का मंदिर बनवाया।

यह भी देखे :- नापूजी और उसके उत्तराधिकारी

राव शत्रुशाल हाड़ा FAQ

Q 2. राव शत्रुशाल के दादाजी का नाम क्या था?

Ans – राव शत्रुशाल के दादाजी का नाम राव रतन था.

Q 3. राव शत्रुशाल ने दौलताबाद कब जीता था?

Ans – राव शत्रुशाल ने दौलताबाद 1632 ई. में जीता था.

Q 4. राव शत्रुशाल की मृत्यु कब हुई थी?

Ans – राव शत्रुशाल की मृत्यु 1658 ई. को हुई थी.

Q 5. राव शत्रुशाल केशवरायपाटन (बूंदी) में ‘किसका मंदिर बनवाया था?

Ans – राव शत्रुशाल केशवरायपाटन (बूंदी) में ‘केशवराय का मंदिर बनवाया था.

See also  महाराणा सांगा का व्यक्तित्व

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- समरसिंह हाड़ा चौहान

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment