राव जैतसी

राव जैतसी | जैतसी महाराजा लूणकरण का पुत्र था | वह अपने पिता के बाद बीकानेर का शासक बना था | वह बीकानेर का चौथा शासक था | जैतसी की मृत्यु 1541 ई. को हुई थी

राव जैतसी

सन् 1534 में बाबर के पुत्र कामरान ने भटनेर पर अधिकार कर लिया। इसके पश कामरान ने बीकानेर पर आक्रमण कर अधिकार करने का प्रयास किया परंतु राव जैतसी ने अक्टूबर, 1534 को एक सशक्त सेना एकत्रित कर कामरान पर आक्रमण कर दिया।

यह भी देखे :- राव लूणकर्ण

अप्रत्याशित आक्रमण से मुगल सेना बीकानेर छोड़कर भाग खड़ी हुई और जैतसी को विजयश्री प्राप्त हुई। इस युद्ध का विस्तृत वर्णन बीटूं सूजा कृत ‘राव जैतसी रो छंद’ ग्रंथ में प्राप्त होता है।

राव जैतसी
राव जैतसी
यह भी देखे :- राव बीका

‘जैतसी रो पाधड़ी छन्द’, ‘जैतसी रासो’, ‘साख के गीतों’ आदि के रचयिताओं ने भी कामरान के बीकानेर पर आक्रमण और जैतसी द्वारा उसकी पराजय पर प्रकाश डाला है। इसी तरह इस युद्ध की पुष्टि बीकानेर के चिन्तामणि श्री चौबीसटाजी के जैन मन्दिर के मूलनायक की प्रतिमा के शिलालेख से भी होती है।

जब राणा सांगा एवं मुगल बाबर के मध्य 1527 ई. में खानवा का युद्ध हुआ तो जैतसी ने अपने पुत्र कुंवर कल्याणमल को ससैन्य सहायता देकर भेजा। सन् 1541 ई. में जोधपुर शासक राव मालदेव ने बीकानेर पर आक्रमण किया, जिसमें राव जैतसी की मृत्यु हो। गई और बीकानेर पर राव मालदेव का कब्जा हो गया।

यह भी देखे :-  महाराजा सरदारसिंह

राव जैतसी FAQ

Q 1. जैतसी किसका पुत्र था?

Ans – जैतसी महाराजा लूणकरण का पुत्र था.

Q 2. जैतसी किसके बाद बीकानेर का शासक बना था? ?

Ans – जैतसी महाराजा लूणकरण के बाद बीकानेर का शासक बना था.

Q 3. जैतसी की मृत्यु कब हुई थी?

Ans – जैतसी की मृत्यु 1541 ई. को हुई थी.

Q 4. जैतसी की मृत्यु किससे युद्ध करते हुए हुई थी?

Ans – जैतसी की मृत्यु जोधपुर के शासक मालदेव से युद्ध करते हहुए हुई थी.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- महाराजा जसवन्तसिंह द्वितीय

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published.