राव गांगा

राव गांगा | राव सूजा के बाद उसका पौत्र राव गांगा मारवाड़ का शासक बना। उसने राणा सांगा से मित्रता कर अपनी समस्याओं का अंत किया

राव गांगा

राव सूजा के बाद उसका पौत्र राव गांगा मारवाड़ का शासक बना। उसने राणा सांगा से मित्रता कर अपनी समस्याओं का अंत किया। जब खानवा का युद्ध (1527 ई.) हुआ तो गांगा ने अपने पुत्र मालदेव के नेतृत्व में 4000 सैनिक भेजकर राणा सांगा की मदद की।

यह भी देखे :- राव जोधा

राव गांगा की मृत्यु :

रेऊजी का कहना है कि सन् 1532 के एक दिन राव गांगा अफीम की पिनक में झपकी लेने के कारण अपने महलों की एक खिड़की से गिरकर मर गया। डॉ. ओझा इसके विपरीत लिखते हैं कि कुँवर मालदेव बड़ा महत्त्वाकांक्षी था।

उसने अफीम की पिनक में बैठे हुए राव गांगा को ऊपर खिड़की से नीचे गिरा दिया, जिससे उसकी मृत्यु हो गयी। ‘मुण्डियार’ ख्यात में दिये गये एक दोहे से स्पष्ट है कि उस समय मालदेव ने भाँण और पुरोहित मूला पर वार किया जो राव गांगा के अंगरक्षक थे। जोधपुर राज्य की ख्यात से भी गांगा को झरोखे से मालदेव के द्वारा गिराना स्पष्ट है।

राव गांगा
राव गांगा
यह भी देखे :- राव रणमल

गांगा का व्यक्तित्व

राव गांगा ने जोधपुर शहर के गांगालाव तालाब और गांगा की बावड़ी बनायी। उसके समय में सिरोही से सायी हुई श्यामजी की मूर्ति उसके नाम पर गंगश्याम के नाम से प्रसिद्ध हुई। ‘जोधपुर राज्य की ख्यात’ के अनुसार गांगा के नौ रानिया थी, जिनसे उसके निम्नलिखित पुत्र और पुत्रियां हुई

सांखली गंगादे, 2. सीसोदणी उत्तमदे (राणा सांगा को पुत्री)। इसका पीहर का नाम पद्यावती (पदमावती) था। जोधपुर का पद्यसर तालाब इसी में बनवाया था। 3. देवड़ी माणिकदे (सिरोही राव जगमाल की पुत्री) इसके तीन पुत्र-मालदेव, मानसिंह और वैरसल (वैरिशाल) तथा एक पुत्री सोनबाई थी जिसका विवाह जैसलमेर के रावल लूणकरण के साथ हुआ था। 4. भटियाणी फूलांबाई इसके एक पुत्रो राजकुंवरबाई हुई जिसका विवाह चित्तौड़ के राणा विक्रमादित्य से हुआ। भटियाणी लाडबाई से किशनसिंह हुआ। 6. कुडवाही चन्द्रावलबाई, 7. सोनगरी सबीराबाई से एक पुत्री चम्पाबाई हुई जिसका विवाह सिरोही के देवड़ा रायसिंह के साथ हुआ। 8. देवड़ी जेवंताबाई के शार्दुल एवं कान्ह पुत्र हुए। 9. झाली प्रेमदे थी।

सिरोही के महाराव जगमाल की सीसोदी रानी आनन्दाबाई से तीन पुत्र अखैराज, मेहाजल और देदा तथा एक पुत्री पद्मावती हुए। पुत्री पद्मावती का विवाह जोधपुर के महाराव गांगा से हुआ था जिससे प्रसिद्ध मालदेव तथा उनके भाई बेरसल व मानसिंह और एक कुबरी सोनाबाई उत्पन्न हुई थी। पद्मावती ने जोधपुर में पदमलसर तालाब बनवाया और वह अपने पति के साथ ई.स. 1531 में सती हो इसका ससुराल का नाम माणिकदे था।

यह भी देखे :- राव चूँडा (चामुंडाराय)

राव गांगा FAQ

Q 1. राव सूजा के बाद मारवाड़ का शासक कौन बना?

Ans – राव सूजा के बाद उसका पौत्र राव गांगा मारवाड़ का शासक बना.

Q 2. गंगा ने किससे मित्रता कर अपनी समस्याओं का अंत किया था?

Ans – गंगा ने राणा सांगा से मित्रता कर अपनी समस्याओं का अंत किया.

Q 3. खानवा का युद्ध कब हुआ था?

Ans – खानवा का युद्ध 1527 ई. को हुआ था.

Q 4. गंगा की मृत्यु कब हुई थी?

Ans – गंगा की मृत्यु 1532 ई. को हुई थी.

Q 5. ‘जोधपुर राज्य की ख्यात’ के अनुसार गांगा की कितनी रानियाँ थी?

Ans – ‘जोधपुर राज्य की ख्यात’ के अनुसार गांगा के नौ रानिया थी.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- राठौड़ राजवंश

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *