राणा मोकल

राणा मोकल | महाराणा लाखा के देहान्त के समय मोकल लगभग 12 वर्ष का था जिसके कारण राज्य का सभी कार्य बड़ी कुशलता से उसका भाई चुँडा चलाता रहा

राणा मोकल

महाराणा लाखा के देहान्त के समय मोकल लगभग 12 वर्ष का था जिसके कारण राज्य का सभी कार्य बड़ी कुशलता से उसका भाई चुँडा चलाता रहा। परन्तु मोकल की माँ हंसाबाई को धीरे-धीरे व्यर्थ में ही चूँडा पर सन्देह होने लगा।

यह भी देखे :- राणा लाखा 

जब इस मनोवृत्ति का आभास स्वाभिमानी चूँडा को हुआ तो वह माण्डू के दरबार में पहुँच गया जहाँ उसको सम्मानपूर्वक रखा गया। रानी ने शीघ्र ही मारवाड़ से अपने भाई रणमल को बुला लिया और उसे राज्य का भार सुपुर्द कर दिया।

भाग्यवश मारवाड़ का शासक राव चूँडा मर गया तो मेवाड़ की सेना की सहायता से रणमल ने विरोधियों को परास्त किया। इसी अर्से में मोकल ने अपनी शक्ति का संगठन करना आरम्भ कर दिया और एक के बाद दूसरे शत्रु पर विजय प्राप्त कर ली।

राणा मोकल
राणा मोकल
यह भी देखे :- राणा हम्मीर 

मोकल ने 1428 ई. में रामपुरा (भीलवाड़ा) के युद्ध में नागौर के फिरोज खाँ को परास्त किया। उसके दरबार में कई शिल्पी और विद्वान आश्रय पाते थे जिनमें मना, फना, विसल जैसे शिल्पियों के नाम तथा ‘योगेश्वर’ और ‘भट्टविष्णु’ जैसे प्रकाण्ड विद्वानों के नाम विशेष उल्लेखनीय है।

See also  बागड़ का परमार राजवंश

राणा मोकल ने चित्तौड़ में विष्णु मंदिर (द्वारिकानाथ) का निर्माण करवाया। तथा परमार भोज द्वारा बनवाये गये त्रिभुवननारायण मंदिर का जीर्णोद्धार करवाया। तभी इस मंदिर को ‘मोकल का मंदिर’/समिद्धेश्वर मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। उसने एकलिंगजी के मंदिर के चारों ओर परकोटा बनवाकर, उस मंदिर की सुरक्षा की समुचित व्यवस्था की।

महाराणा खेता की उपपत्नी के पुत्र, चाचा व मेरा ने अवसर पाकर 1433 ई. में झीलवाड़ा (भीलवाड़ा) में राणा मोकल की हत्या कर दी। इस हत्या को कराने के पक्ष में महपा पवार आदि कई सरदार भी सम्मिलित थे।

यह भी देखे :-  रानी पद्मिनी की कथा

राणा मोकल FAQ

Q 1. महाराणा लाखा के देहान्त के समय मोकल लगभग कितने वर्ष का था?
See also  महाराजा अजीत सिंह

Ans – महाराणा लाखा के देहान्त के समय मोकल लगभग 12 वर्ष का था.

Q 2. मोकल की कम उम्र के समय राज-काज किसने संभाला था?

Ans – मोकल की कम उम्र के समय राज-काज उसके भाई चुँडा ने संभाला था.

Q 3. राणा मोकल की मां का नाम क्या था?

Ans – राणा मोकल की माँ का नाम हंसाबाई था.

Q 4. मोकल ने रामपुरा (भीलवाड़ा) के युद्ध में नागौर के फिरोज खाँ को कब परास्त किया?

Ans – मोकल ने 1428 ई. में रामपुरा (भीलवाड़ा) के युद्ध में नागौर के फिरोज खाँ को परास्त किया.

See also  मध्यकालीन कृषक वर्ग
Q 5. चित्तौड़ में विष्णु मंदिर (द्वारिकानाथ) का निर्माण किसने करवाया था?

Ans – राणा मोकल ने चित्तौड़ में विष्णु मंदिर (द्वारिकानाथ) का निर्माण करवाया था.

Q 6. राणा मोकल की हत्या कब व कहाँ कर दी गई थी?

Ans – राणा मोकल की हत्या 1433 ई. में झीलवाड़ा (भीलवाड़ा) में कर दी गई थी.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- रावल रतनसिंह 

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment