राणा हम्मीर

राणा हम्मीर | 1326 ई. में सीसोदा शाखा के राणा अरिसिंह के पुत्र ‘राणा हम्मीर’ ने चित्तौड़गढ़ पर अधिकार कर लिया। तब से मेवाड़ के शासक महाराणा/राणा तथा वंश सिसोदिया कहलाने लगा

राणा हम्मीर

रतनसिंह के चित्तौड़ के घेरे के समय काम आने से समूची रावल शाखा की भी समाप्ति हो गयी। अलाउद्दीन ने चित्तौड़ को हस्तगत कर अपने बड़े बेटे के नाम पर इसका नाम ‘खिज्राबाद’ रखा एवं खिज्रखां को यहाँ का प्रशासक नियुक्त किया। खिलजी ने बाद में चौहानों की नियुक्ति की। यह विजय एक सैनिक विजय थी।

यह भी देखे :- रानी पद्मिनी की कथा

खिज्रखाँ से जब किला लेकर सोनगरा चौहान मालदेव को दिया गया तो वह भी अपना स्थायी अधिकार इस पर न जमा सका। किले के सिपाहियों और रक्षकों को, जैसा फरिश्ता लिखता है, स्थानीय लोगों ने मार दिया और 1326 ई. के लगभग किले की पुनः व्यवस्था स्थापित करने का श्रेय हम्मीर को मिला।

राणा हम्मीर
राणा हम्मीर
यह भी देखे :- रावल रतनसिंह

1326 ई. में सीसोदा शाखा के अरिसिंह के पुत्र ‘हम्मीर’ ने चित्तौड़गढ़ पर अधिकार कर लिया। तब से मेवाड़ के शासक महाराणा/राणा तथा वंश सिसोदिया कहलाने लगा। हम्मीर को ‘मेवाड़ का उद्दारक’ की संज्ञा दी जाती है।

See also  महाराजा सरदारसिंह

कुंभलगढ़ प्रशस्ति में हम्मीर को ‘विषम घाटी पंचानन’ (विकट आक्रमणों में सिंह के सदृश्य) कहा है। हम्मीर ने सिंगोली (बाँसवाड़ा) के युद्ध में मुहम्मद बिन तुगलक की सेना को परास्त किया। उसने चित्तौड़ में ‘अन्नपूर्णा माता का मंदिर’ बनवाया। हम्मीर का पुत्र क्षेत्रसिंह हुआ जो राणा खेता के नाम से प्रसिद्ध हुआ। हम्मीर ने चित्तौड़ को अपने अधिकार में कर लिया और धीरे-धीरे सम्पूर्ण मेवाड़ पर उसका प्रभुत्व जम गया।

यह भी देखे :- तेजसिंह

राणा हम्मीर FAQ

Q 1. अलाउद्दीन ने चित्तौड़ को हस्तगत कर इसका नाम क्या रखा?
See also  मोटाराजा उदयसिंह

Ans – अलाउद्दीन ने चित्तौड़ को हस्तगत कर अपने बड़े बेटे के नाम पर इसका नाम ‘खिज्राबाद’ रखा.

Q 2. अलाउद्दीन ने चित्तौड़ का प्रशासक किसे नियुक्त किया?

Ans – अलाउद्दीन ने चित्तौड़ का प्रशासक खिज्रखां को नियुक्त किया था.

Q 3. चित्तौड़ किले की पुनः व्यवस्था कब स्थापित की गई थी?

Ans – चित्तौड़ किले की पुनः व्यवस्था 1326 ई. में स्थापित की गई थी.

Q 4. चित्तौड़ किले की पुनः व्यवस्था स्थापित करने का श्रेय किसे मिला था?

Ans – चित्तौड़ किले की पुनः व्यवस्था स्थापित करने का श्रेय रना हम्मीर को मिला था.

See also  महाराजा गजसिंह
Q 5. राणा हम्मीर ने चित्तौड़गढ़ पर कब अपना अधिकार जमाया था?

Ans – राणा हम्मीर ने 1326 ई. में चित्तौड़गढ़ पर अपना जमा लिया था.

Q 6. हम्मीर के पिताजी का नाम क्या था?

Ans – हम्मीर के पिता जी का नाम राणा अरिसिंह था.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- जैत्रसिंह 

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment