भारत का प्रागैतिहासिक काल

भारत का प्रागैतिहासिक काल | इतिहास का विभाजन तीन भागों में किया गया है:- प्रागैतिहासिक, आद्य इतिहास व इतिहास में किया गया है. जिस काल मं मनुष्य ने कोई विवरण उद्धृत नहीं किया उसे प्रागैतिहासिक काल कहा गया है

भारत का प्रागैतिहासिक काल

इतिहास का विभाजन तीन भागों में किया गया है:- प्रागितिहास, आद्य इतिहास व इतिहास. जिस काल मं मनुष्य ने कोई विवरण उद्धृत नहीं किया उसे प्रागैतिहासिक काल कहा गया है. आद्य इतिहास काल उस काल को कहते है, जिस काल में लेखन कला के प्रचलन के बाद उपलब्ध लेख पढ़े नहीं जा सकते है.

मानव विकास के उस काल को इतिहास कहा जाता है, जिसका विवरण लिखित रूप में उपलब्ध है. पूर्व-पाषाण युग या पूरा पाषाण काल के मानव की जीविका का मुख्य आधार शिकार था. पूरा पाषाण काल के लोगों का मनोरंजन शिकार करना भी था.

आग का अविष्कार पूरा पाषाण काल में व पहिये का अविष्कार नव पाषाण काल में हुआ था. मनुष्य के स्थाई निवास की प्रवृति नव-पाषाण काल में हुई व सबसे पहले मनुष्य ने कुत्ते को अपना पालतू पशु बनाया था. मनुष्य ने सर्वप्रथम तांबा धातु का प्रयोग किया तथा उसके द्वारा बनाया जाने वाला प्रथम औजार कुल्हाड़ी था.

यह भी देखे :- पुरातत्व से मिलने वाला प्राचीन भारत का इतिहास

कृषि का अविष्कार नव-पाषाण काल में हुआ. प्रागैतिहासिक अन्न उत्पादक स्थल मेहरगढ़ पश्चिमी बलूचिस्तान में है. कृषि के लिए अपने गई सबसे प्राचीन फसल गेहूं व जौ थी लेकिन मानव द्वारा सर्वप्रथम प्रयुक्त अनाज चावल था. कृषि का प्रथम उदहारण मेहरगढ़ में प्राप्त हुआ था.

भारत का प्रागैतिहासिक काल
भारत का प्रागैतिहासिक काल
यह भी देखे :- प्राचीन भारत में यात्रा के दौरान अरबी लेखकों का विवरण

प्रागैतिहासिक काल

  1. भारत में पूर्व स्तर युग के अधिकांश औजार स्फटिक के बने थे.
  2. रॉबर्ट ब्रूस फुट पहले व्यक्ति थे जिन्होंने 1863 ई. में भारत में पूरा पाषाण कालीन औजारों की खोज की थी.
  3. पल्लावरम नामक स्थान पर प्रथम भारतीय पूरा पाषाण कलाकृति की खोज की थी.
  4. भारत में मध्य पाषाण काल के विषय में जानकारी 1867ई. में हुई थी.
  5. भारत में नव पाषाण कालीन सभ्यता का प्रारंभ ईसा पूर्व चार हजार के लगभग हुआ था.
  6. भारत का सबसे प्राचीन नगर मोहनजोदड़ो था, सिन्धी भाषा में जिसका अर्थ मृतकों का टीला है.
  7. भारत में शिवालिक की पहाड़ी से जीवश्मा का प्रमाण मिला है.
  8. भारत में मनुष्य संबंधी सबसे पहला प्रमाण नर्मदा घटी में मिलता है.
यह भी देखे :- प्राचीन भारत में यात्रा के दौरान चीनी लेखकों का विवरण

प्रागैतिहासिक काल FAQ

Q 2. इतिहास का विभाजन किन-किन भागों में किया गया है?

Ans इतिहास का विभाजन निम्न भागों में किया गया है:- प्रागितिहास, आद्य इतिहास व इतिहास.

Q 3. प्रागैतिहासिक काल किसे कहा गया है?

Ans जिस काल मं मनुष्य ने कोई विवरण उद्धृत नहीं किया उसे प्रागैतिहासिक काल कहा गया है.

Q 4. आद्य इतिहास काल किस काल को कहते है?

Ans आद्य इतिहास काल उस उस काल को कहते है, जिस काल में लेखन कला के प्रचलन के बाद उपलब्ध लेख पढ़े नहीं जा सकते है.

See also  शक संवत्
Q 5. इतिहास किसे कहा जाता है?

Ans मानव विकास के उस काल को इतिहास कहा जाता है.

Q 6. पूर्व-पाषाण युग या पूरा पाषाण काल के मानव की जीविका का मुख्य आधार क्या था?

Ans पूर्व-पाषाण युग या पूरा पाषाण काल के मानव की जीविका का मुख्य आधार शिकार था.

Q 7. आग का अविष्कार किस काल में हुआ था?

Ans आग का अविष्कार पूरा पाषाण काल में हुआ था.

Q 8. पहिये का अविष्कार किस काल में हुआ था?

Ans पहिये का अविष्कार नव पाषाण काल में हुआ था.

Q 9. सबसे पहले मनुष्य ने किसको अपना पालतू पशु बनाया था?

Ans सबसे पहले मनुष्य ने कुत्ते को अपना पालतू पशु बनाया था.

Q 10. मनुष्य ने सर्वप्रथम किस धातु का प्रयोग किया तथा उसके द्वारा बनाया जाने वाला प्रथम औजार कौनसा था?
See also  ब्राह्मण साम्राज्य | Brahmin kingdom

Ans मनुष्य ने सर्वप्रथम तांबा धातु का प्रयोग किया तथा उसके द्वारा बनाया जाने वाला प्रथम औजार कुल्हाड़ी था.

Q 11. कृषि का अविष्कार किस काल में हुआ था?

Ans कृषि का अविष्कार नव-पाषाण काल में हुआ था.

Q 12. कृषि का प्रथम उदहारण कहाँ प्राप्त हुआ था?

Ans कृषि का प्रथम उदहारण मेहरगढ़ में प्राप्त हुआ था.

Q 13. भारत में पूर्व स्तर युग के अधिकांश औजार किसके बने थे?

Ans भारत में पूर्व स्तर युग के अधिकांश औजार स्फटिक के बने थे.

Q 14. भारत में मध्य पाषाण काल के विषय में जानकारी कब प्राप्त हुई थी?

Ans भारत में मध्य पाषाण काल के विषय में जानकारी 1867ई. में प्राप्त हुई थी.

Q 15. भारत का सबसे प्राचीन नगर कौनसा था, जिसका अर्थ सिन्धी भाषा में क्या है

Ans भारत का सबसे प्राचीन नगर मोहनजोदड़ो था, सिन्धी भाषा में जिसका अर्थ मृतकों का टीला है.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- प्राचीन भारत में यात्रा के दौरान यूनानी रोमन लेखकों का विवरण

केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment