प्रताप सिंह बारहठ | Pratap Singh Barath

प्रताप सिंह बारहठ | Pratap Singh Barath | 1893 ई. में शाहपुरा में जन्मे कुंवर प्रताप सिंह को देशभक्ति विरासत में मिली थी. इनके पिता केसरी सिंह बारहठ व चाचा जोरावर सिंह बारहठ प्रसिद्द क्रांतिकारी थे

प्रताप सिंह बारहठ | Pratap Singh Barath

1893 ई. में शाहपुरा में जन्मे कुंवर प्रताप सिंह को देशभक्ति विरासत में मिली थी. इनके पिता केसरी सिंह बारहठ व चाचा जोरावर सिंह बारहठ प्रसिद्द क्रांतिकारी थे. क्रांतिकारी मास्टर अमीरचंद से प्रेरणा लेकर देश को स्वतंत्र करवाने में जुट गए थे.

वे रासबिहारी बोस का अनुसरण करते हुए क्रांतिकारी आन्दोलन में सम्मलित हुए थे. रास बिहारी बोस का प्रताप सिंह पर बहुत विश्वास था.

प्रताप सिंह को बनारस कांड के सन्दर्भ में गिरफ्तार किया गया व सन 1917 ई. में बनारस षड्यंत्र अभियोग चलाकर उन्हें 5 वर्ष की सश्रम सजा हुई थी. बरेली के केद्रीय कारागार में उन्हें अमानवीय यातनाएं दी गई, ताकि अपने सहयोगियों का नाम उनसे पता किया जा सके, किन्तु उन्होंने किसी का नाम नहीं लिया था.

यह भी देखे :- 1857 ई. की महान क्रांति

भारत सरकार के गुप्तचर निदेशक चार्ल्स क्लीवलैंड के प्रताप को घोर यातनाएं दी थी. यह सभी यातनाएं प्रताप को नहीं तोड़ पाई थी. बरेली में ही क्लीवलैंड ने प्रताप सिंह को राज उगलवाने के लिए कहा कि :- “तुम्हारी माँ तुम्हारे लिए बहुत रोती है”. तब प्रताप ने जवाब दिया की :- “लेकिन मै सैकड़ो माताओं के रोने का कारण नहीं बन सकता हूँ”, “मेरी माँ को रोने दो जिससे अन्य कोई न रोए”.

प्रताप सिंह बारहठ | Pratap Singh Barath
प्रताप सिंह बारहठ | Pratap Singh Barath

अमानुषिक यातनाओं के कारण 1918 ई. में मात्र 22 वर्ष की आयु में प्रताप सिंह शहीद हो गए थे. हार कर क्लीवलैंड को यह कहना पड़ा की “मैंने आज तक कुंवर प्रताप जैसा युवक नहीं देखा”

यह भी देखे :- केसरीसिंह बारहठ | Kesari Singh Barath

प्रताप सिंह बारहठ FAQ

Q 1. कुंवर प्रताप सिंह का जन्म कब हुआ था?

Ans 1893 ई. में कुंवर प्रताप सिंह का जन्म हुआ था.

Q 2. कुंवर प्रताप सिंह का जन्म कहाँ हुआ था?

Ans कुंवर प्रताप सिंह का जन्म शाहपुरा में हुआ था.

Q 3. प्रताप सिंह के पिता का नाम क्या था?

Ans प्रताप सिंह के पिता का नाम केसरी सिंह था.

Q 4. प्रताप सिंह के चाचा जोरावर सिंह बारहठ का नाम क्या था?

Ans प्रताप सिंह के चाचा का नाम जोरावर सिंह बारहठ था.

Q 5. किससे प्रेरणा लेकर प्रताप, देश को स्वतंत्र करवाने में जुट गए थे?

Ans क्रांतिकारी मास्टर अमीरचंद से प्रेरणा लेकर प्रताप, देश को स्वतंत्र करवाने में जुट गए थे.

Q 6. प्रताप किसका अनुसरण करते हुए क्रांतिकारी आन्दोलन में सम्मलित हुए थे?

Ans प्रताप, “रासबिहारी बोस” का अनुसरण करते हुए क्रांतिकारी आन्दोलन में सम्मलित हुए थे.

Q 7. प्रताप सिंह को किस सन्दर्भ में गिरफ्तार किया गया था?

Ans प्रताप सिंह को बनारस कांड के सन्दर्भ में गिरफ्तार किया गया था.

Q 8. प्रताप को कब गिरफ्तार किया गया था?

Ans 1917 ई. में प्रताप को गिरफ्तार किया गया था.

Q 9. प्रताप को कितने वर्ष की सजा हुई थी?

Ans प्रताप को 5 वर्ष की सजा हुई थी.

Q 10. प्रताप सिंह पर कौनसा अधियोग चलाकर गिरफ्तार किया गया था?

Ans षड्यंत्र अभियोग चलाकर प्रताप सिंह को गिरफ्तार किया गया था.

Q 11. प्रताप को किसने घोर यातनाएं दी थी?

Ans प्रताप को भारत सरकार के गुप्तचर निदेशक चार्ल्स क्लीवलैंड के प्रताप को घोर यातनाएं दी थी.

Q 12. बरेली में ही क्लीवलैंड ने प्रताप सिंह को राज उगलवाने के लिए क्या कहा था?

Ans बरेली में ही क्लीवलैंड ने प्रताप सिंह को राज उगलवाने के लिए कहा कि :- “तुम्हारी माँ तुम्हारे लिए बहुत रोती है”.

Q 13. क्लीवलैंड के कहने पर प्रताप सिंह ने क्या उत्तर दिया था?

Ans क्लीवलैंड के कहने पर प्रताप सिंह ने कहा की :- “लेकिन मै सैकड़ो माताओं के रोने का कारण नहीं बन सकता हूँ”, “मेरी माँ को रोने दो जिससे अन्य कोई न रोए”.

Q 14. प्रताप सिंह शहीद कब व किस कारण से हुए थे?

Ans अमानुषिक यातनाओं के कारण 1918 ई. में प्रताप सिंह शहीद हो गए थे.

Q 15. कितने वर्ष की आयु में प्रताप सिंह शहीद हो गए थे?

Ans मात्र 22 वर्ष की आयु में प्रताप सिंह शहीद हो गए थे.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- प्रथम विश्वयुद्ध | First world war

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *