बागड़ का परमार राजवंश

बागड़ का परमार राजवंश | मेवाड़ का डूंगरपुर व् बाँसवाड़ा का क्षेत्र बागड़ कहलाता है. इस क्षेत्र पर डबरसिंह परमार ने 10वीं सदी की शुरुआत में राज्य की स्थापना की थी

बागड़ का परमार राजवंश

मेवाड़ का डूंगरपुर व् बाँसवाड़ा का क्षेत्र बागड़ कहलाता है. इस क्षेत्र पर डबरसिंह परमार ने 10वीं सदी की शुरुआत में राज्य की स्थापना की थी

यह भी देखे :- किराडू का परमार राजवंश
बागड़ का परमार राजवंश
बागड़ का परमार राजवंश
यह भी देखे :- जालौर का परमार राजवंश

इस वंश के शासकों में धनिक-कंकदेव, सत्यराज, मण्डलीक चामुण्डराज, विजयराज आदि हुए। इस शाखा का अंतिम शासक सम्भवतः विजयराज था। लगभग 1179 ई. में गुहिल नरेश सामन्तसिंह ने बागड़ पर अधिकार कर इस राज्य पर परमारों के शासन को ही समाप्त कर दिया।

See also  हल्दीघाटी का युद्ध

बागड़ के परमार वंश ने बहुत कम समय के लिए शासन किया था. अथूणा बागड़ परमारों की राजधानी थी जिसके खण्डर परमारों के पराक्रम को आज भी प्रदर्शित करते हैं।

यह भी देखे :- राजा भोज

बागड़ का परमार राजवंश FAQ

Q 1. मेवाड़ का कौनसा क्षेत्र बागड़ कहलाता है?

Ans – मेवाड़ का डूंगरपुर व् बाँसवाड़ा का क्षेत्र बागड़ कहलाता है.

Q 2. बागड़ के परमार वंश का शासन कब समाप्त हुआ था.

Ans – बागड़ के परमार वंश का शासन 1179 ई. को समाप्त हुआ था.

Q 3. बागड़ के परमार वंश का शासन किसने समाप्त किया था?
See also  जालौर का परमार राजवंश

Ans – बागड़ के परमार वंश का शासन गुहिल नरेश सामन्तसिंह ने समाप्त किया था.

Q 4. बागड़ परमारों की राजधानी कहाँ थी?

Ans – बागड़ परमारों की राजधानी अथूणा थी.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- मालवा का परमार राजवंश

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment