नागौर के राजवंश

नागौर के राजवंश | महाभारत में नागौर का अहिच्छत्र राज्य के रूप में उल्लेख मिलता है जिसे अर्जुन ने जीतकर अपने गुरु द्रोणाचार्य को समर्पित किया

नागौर के राजवंश

महाभारत में नागौर का अहिच्छत्र राज्य के रूप में उल्लेख मिलता है जिसे अर्जुन ने जीतकर अपने गुरु द्रोणाचार्य को समर्पित किया। यह क्षेत्र छापर चूरू के नाम से जाना गया जो प्राचीन काल में द्रोणपुर या द्रोणक के नाम से जाना जाता था। बिजौलिया अभिलेख 1170 ईस्वी में नागौर का उल्लेख किया गया है।

यह भी देखे :- टोंक का मुस्लिम राज्य
नागौर के राजवंश
नागौर के राजवंश
यह भी देखे :- भीनमाल का चावड़ा राजवंश

प्राचीन समय में यह कस्बा नागपुर नाम से जाना गया जो चौहानों द्वारा शासित था। नागौर की पहचान जाटों के रोम के रूप में की जाती है। 7वीं सदी के लगभग यहां नागवंशी जाटों ने शासन किया। तत्पश्चात् चौहानों ने अपना राज्य कायम किया जो सपादलक्ष में सम्मिलित किया गया।

See also  भारत के यवन राज्य | yavan states of India

नागौर शहर मध्य एशिया के मुस्लिम आक्रमणकारियों का मुख्य केन्द्र था। नागौर मीरा और अबुल फजल का जन्म स्थल भी रहा है। नागौर में पाश्वनार्थ एवं चारभुजा मंदिर तथा सूफी संत तारकिन को दरगाह बड़े प्रसिद्ध स्थल है।

यह भी देखे :- करौली के यदुवंशी

नागौर के राजवंश FAQ

Q 1. नागौर का अहिच्छत्र राज्य के रूप में उल्लेख कहाँ मिलता है?

Ans – महाभारत में नागौर का अहिच्छत्र राज्य के रूप में उल्लेख मिलता है.

Q 2. नागौर प्राचीन समय में किस नाम से जाना जातास था?
See also  मध्यकालीन स्त्रियों की दशा

Ans – नागौर प्राचीन समय में द्रोणपुर या द्रोणक के नाम से जाना जाता था.

Q 3. नागौर की पहचान किसके रूप में की जाती है?

Ans – नागौर की पहचान जाटों के रोम के रूप में की जाती है.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- जैसलमेर का भाटी राजवंश

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment