नागभट्ट द्वितीय : गुर्जर-प्रतिहार वंश

नागभट्ट द्वितीय : गुर्जर-प्रतिहार वंश | वत्सराज की मृत्यु के बाद उसका पुत्र नागभट्ट द्वितीय शासक बना था. इसकी माता का नाम सुन्दरदेवी था. इसने 795 ई. से 833 ई. तक शासन किया था

नागभट्ट द्वितीय : गुर्जर-प्रतिहार वंश

वत्सराज की मृत्यु के बाद उसका पुत्र नागभट्ट द्वितीय शासक बना था. इसकी माता का नाम सुन्दरदेवी था. इसने 795 ई. से 833 ई. तक शासन किया था. अपने इन 38 वर्षों के शासन के दौरान प्रतिहार राज्य को एक शक्तिशाली साम्रज्य में परिवर्तित कर दिया था.

इसने कन्नौज को जीतकर अपनी राजधानी बनाई थी. इसका दरबार भी “नागावलोक का दरबार” कहलाता था. इसने सम्पूर्ण उत्तरी भारत की विजय की जिसमें उसके सामंतों, गुहिलों व चहमानों ने पूरा सहयोग दिया था.

राष्ट्रकूट आक्रमण :- इसके शासनकाल में दक्षिणी भारतवर्ष के राष्ट्रकूट नरेश गोविन्द तृतीय ने उत्तरी भारत पर आक्रमण किया व नागभट्ट द्वितीय को पराजित कर दिया था. अपने उत्तरी भारतवर्ष के अभियान के दौरान गोविन्द तृतीय ने बंगाल के पाल नरेश धर्मपाल को भी पराजित किया था. तत्पश्चात व अपने राज्य लौट गया था.

यह भी देखे :- चालुक्य राजवंश | Chalukya dynasty

कन्नौज विजय :- गोविन्द तृतीय के वापस चले जाने के बाद नागभट्ट द्वितीय ने पुनः अपनी शक्ति संगठित की व कान्यकुब्ज पर आक्रमण कर दिया था. कान्यकुब्ज नरेश चक्रायुध पराजित हुआ व कान्यकुब्ज पर नागभट्ट द्वितीय का अधिकार हो गया था. नागभट्ट द्वितीय की विजय का वर्णन ग्वालियर अभिलेख में मिलता है. इस विजय के परिणामस्वरूप कान्यकुब्ज [कन्नौज] प्रतिहार राजवंश की राजधानी बन गई थी.

पालों से युद्ध :- कान्यकुब्ज का चक्रायुध पाल नरेश धर्मपाल के संरक्षण में शासन कर रहा था. अतः उसकी पराजय की सूचना पाते ही धर्मपाल ने नागभट्ट द्वितीय के विरुद्ध युद्ध की घोषण कर दी थी. किन्तु इस युद्ध के दौरान धर्मपाल नागभट्ट द्वितीय से पराजित हो गया व बंगाल भाग गया था. चाकसू अभिलेख के अनुसार शंकरगण ने गौड़ नरेश को हराया व समस्त विश्व को जीत कर अपने स्वामी को समर्पित कर दिया था.

इस प्रकार नागभट्ट द्वितीय ने कन्नौज के आयुध वंश व बंगाल के पाल वंश को पराजित करके उत्तरी भारतवर्ष पर अपना अधिकार जमा लिया था. बकुला अभिलेख में उसे “परमभट्टारक महाराजाधिराज परमेश्वर” कहा गया है.

यह भी देखे :- कश्मीर के राजवंश | dynasty of Kashmir

अन्य विजय :- ग्वालियर अभिलेख का कथन है की जिस प्रकार पतंगे अग्नि में गिरते है, उसी प्रकार अंदर, सिन्धु, विदर्भ व् कलिंग के नरेश नागभट्ट द्वितीय की ओर खींचते चले आए थे. इसी अभिलेख का कथन है की नागभट्ट द्वितीय ने निम्न प्रदेशों पर बलात् अधिकार कर लिया था :- 1. आनर्त उत्तरी कठियावाड़ 2. मालवा-मध्यप्रदेश 3. किरात-हिमाचल का कोई भाग 4. तुरुष्क- पश्चिमी भारत के मुस्लिम राज्य 5. वत्स-कौशाम्बी प्रदेश 6. मत्स्य-पूर्वी राजस्थान.

इस आधार पर डॉ. त्रिपाठी ने यह निष्कर्ष निकला है की नागभट्ट द्वितीय के साम्राज्य में कम से कम राजपुताना का कुछ भाग, उत्तर प्रदेश का एक बड़ा भू-भाग, मध्य भारत, संभवतः कठियावाड़, कौशाम्बी तथा उसके पडौस में कुछ दक्षिणी-पूर्वी प्रदेश सम्मलित थे.

नागभट्ट द्वितीय : गुर्जर-प्रतिहार वंश
नागभट्ट द्वितीय : गुर्जर-प्रतिहार वंश

नागभट्ट द्वितीय की मृत्यु के बाद में उसका पुत्र रामभद्र शासक बना था. उसने 833 ई. से 836 ई. तक शासन किया था. यह अत्यंत निर्बल शासक सिद्ध हुआ था. इसका शासनकाल प्रतिहार वंश की अवनति के काल था. इस काल में प्रतिहार राज्य के अनेक भाग स्वतंत्र हो गए थे. इनमें विशेष रूप से उल्लेखनीय कालिंजर मंडल था. वराह अभिलेख से प्रकट होता है की यहाँ नागभट्ट द्वितीय ने दान दिया था. परन्तु उस दान का अनुमोदन रामभद्र के शासन में नहीं हो सका था.

यह भी देखे :- राष्ट्रकूट वंश | Rashtrakuta dynasty

नागभट्ट द्वितीय : गुर्जर-प्रतिहार वंश FAQ

Q 1. वत्सराज की मृत्यु के बाद शासक कौन बना था?

Ans वत्सराज की मृत्यु के बाद उसका पुत्र नागभट्ट द्वितीय शासक बना था.

Q 2. नागभट्ट द्वितीय की माता का नाम क्या था

Ans नागभट्ट द्वितीय की माता का नाम सुन्दरदेवी था.

Q 3. नागभट्ट द्वितीय ने कब से कब तक शासन किया था?

Ans नागभट्ट द्वितीय ने 795 ई. से 833 ई. तक शासन किया था.

Q 4. नागभट्ट द्वितीय ने कितने वर्षों तक शासन किया था?

Ans नागभट्ट द्वितीय ने 38 साल तक शासन किया था.

Q 5. नागभट्ट द्वितीय ने अपनी राजधानी कहाँ स्थापित की थी?

Ans नागभट्ट द्वितीय ने अपनी राजधानी कन्नौज स्थापित की थी.

Q 6. नागभट्ट द्वितीय के दरबार को किस नाम से जाना जाता था?

Ans नागभट्ट द्वितीय के दरबार को “नागावलोक का दरबार” के नाम से जाना जाता था.

Q 7. नागभट्ट द्वितीय की कन्नौज विजय का वर्णन किस अभिलेख में मिलता है?

Ans नागभट्ट द्वितीय की कन्नौज विजय का वर्णन ग्वालियर अभिलेख में मिलता है.

Q 8. कन्नौज विजय के बाद प्रतिहार वंश की राजधानी कहाँ स्थापित की गई थी?

Ans कन्नौज विजय के बाद प्रतिहार वंश की राजधानी कन्नौज स्थापित की गई थी.

Q 9. बकुला अभिलेख में नागभट्ट द्वितीय को क्या कहा गया है?

Ans बकुला अभिलेख में नागभट्ट द्वितीय “परमभट्टारक महाराजाधिराज परमेश्वर” कहा गया है.

Q 10. ग्वालियर अभिलेख के अनुसार नागभट्ट द्वितीय ने कहाँ-कहाँ बलात् अधिकार कर लिया था?

Ans ग्वालियर अभिलेख के अनुसार नागभट्ट द्वितीय ने निम्न प्रदेशों पर बलात् अधिकार कर लिया था :- 1. आनर्त उत्तरी कठियावाड़ 2. मालवा-मध्यप्रदेश 3. किरात-हिमाचल का कोई भाग 4. तुरुष्क- पश्चिमी भारत के मुस्लिम राज्य 5. वत्स-कौशाम्बी प्रदेश 6. मत्स्य-पूर्वी राजस्थान.

Q 11. नागभट्ट द्वितीय की मृत्यु के बाद कौन शासक बना था?

Ans नागभट्ट द्वितीय की मृत्यु के बाद में उसका पुत्र रामभद्र शासक बना था.

Q 12. रामभद्र ने कब से कब तक शासन किया था?

Ans रामभद्र ने 833 ई. से 836 ई. तक शासन किया था.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- चंदेल राजवंश | Chandela Dynasty

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.