नागभट्ट प्रथम : गुर्जर-प्रतिहार वंश

नागभट्ट प्रथम : गुर्जर-प्रतिहार वंश | नागभट्ट प्रथम को जालौर, अवन्ति तथा कन्नौज के गुर्जर-प्रतिहार वंश का संस्थापक कहा जाता है. इसे “हरीशचंद्र” के नाम से जाना जाता था. इसकी राजधानी कन्नौज थी. इसकी मृत्यु 760 ई. में हुई थी

नागभट्ट प्रथम : गुर्जर-प्रतिहार वंश

नागभट्ट प्रथम को जालौर, अवन्ति तथा कन्नौज के गुर्जर-प्रतिहार वंश का संस्थापक कहा जाता है. इसे “हरीशचंद्र” के नाम से जाना जाता था. इसकी राजधानी कन्नौज थी. इसकी मृत्यु 760 ई. में हुई थी.

नागभट्ट का समय 730 ई. से 760 ई. तक माना जाता है. जालौर-अवंती-कन्नौज प्रतिहारों की नामवाली नागभट्ट से शुरू होती है. इस वंश के प्रवर्तक नागभट्ट को “नागावलोक” भी कहा जाता है. इसका दरबार “नागावलोक का दरबार” कहलाता था.

यह भी देखे :- गुर्जर प्रतिहार राजवंश | Gurjara Pratihara Dynasty

राष्ट्रकुटों से युद्ध :- ऐसा प्रतीत होता है की नागभट्ट को अपने समकालीन दक्षिण भारत के राष्ट्रकुटों से भी लोहा लेना पड़ा था. राष्ट्रकूट नरेश दन्तिदुर्ग ने कोसल, कलिंग, श्रीशैल, मालवा, तत्ता, टंक, सिंध तथा कांची पर अपना अधिकार कर लिया था. दन्तिदुर्ग ने उज्जैन में हिरण्यगर्भ यज्ञ किया था तथा इस अवसर पर उसने गुर्जर नरेश को प्रतिहार {द्वारपाल} नियुक्त किया था. यह नरेश नागभट्ट प्रथम प्रतीत होता है. इसने भृगुकच्छ पर अपना अधिकार कर लिया था.

नागभट्ट प्रथम के बाद उसका भतीजा ककुस्थ सिंहासन पर बैठा था. इसे कक्कुक भी कहते है. ककुस्थ की मृत्यु के बाद उसका भाई देवराज सिंहासन पर बैठा था. वराह अभिलेख में इसे देलशक्ति के नाम से पुकारा गया है. ऐसा प्रतीत होता है की इसे कुछ युद्ध करने पड़े थे. ग्वालियर अभिलेख से प्रकट होता है की इसने अपने वेग से अनेक राजाओं को तितर-बितर कर दिया था. यह धर्मावलम्बी था. उसकी पत्नी भुयिकादेवी से वत्सराज का जन्म हुआ था.

नागभट्ट प्रथम : गुर्जर-प्रतिहार वंश
नागभट्ट प्रथम : गुर्जर-प्रतिहार वंश
यह भी देखे :- गहड़वाल राजवंश | Gahadwal dynasty 

नागभट्ट प्रथम FAQ

Q 1. जालौर, अवन्ति तथा कन्नौज के गुर्जर-प्रतिहार वंश का संस्थापक किसे कहा जाता है?

Ans नागभट्ट प्रथम को जालौर, अवन्ति तथा कन्नौज के गुर्जर-प्रतिहार वंश का संस्थापक कहा जाता है

Q 2. नागभट्ट को किस नाम से जाना जाता था?

Ans नागभट्ट को “हरीशचंद्र” के नाम से जाना जाता था.

Q 3. नागभट्ट की राजधानी कहाँ थी?

Ans नागभट्ट की राजधानी कन्नौज थी.

Q 4. नागभट्ट की मृत्यु कब हुई थी?

Ans नागभट्ट की मृत्यु 760 ई. में हुई थी.

Q 5. नागभट्ट का समय कब से कब तक का माना जाता है?

Ans नागभट्ट का समय 730 ई. से 760 ई. तक माना जाता है.

Q 6. जालौर-अवंती-कन्नौज प्रतिहारों की नामवाली किससे शुरू होती है?

Ans जालौर-अवंती-कन्नौज प्रतिहारों की नामवाली नागभट्ट से शुरू होती है.

Q 7. “नागावलोक” किसे कहा जाता था?

Ans नागभट्ट को “नागावलोक” कहा जाता था.

Q 8. नागभट्ट के दरबार को क्या कहा जाता था?

Ans नागभट्ट के दरबार को “नागावलोक का दरबार” कहा जाता था.

Q 9. राष्ट्रकूट नरेश दन्तिदुर्ग ने कहाँ-कहाँ पर अपना अधिकार कर लिया था?

Ans राष्ट्रकूट नरेश दन्तिदुर्ग ने कोसल, कलिंग, श्रीशैल, मालवा, तत्ता, टंक, सिंध तथा कांची पर अपना अधिकार कर लिया था.

Q 10. दन्तिदुर्ग ने उज्जैन में कौनसा यज्ञ किया था?

Ans दन्तिदुर्ग ने उज्जैन में हिरण्यगर्भ यज्ञ किया था.

Q 11. नागभट्ट प्रथम के बाद कौन सिंहासन पर बैठा था?

Ans नागभट्ट प्रथम के बाद उसका भतीजा ककुस्थ सिंहासन पर बैठा था.

Q 12. ककुस्थ को और किस नाम से भी जाना जाता था?

Ans ककुस्थ को “कक्कुक” नाम से भी जाना जाता था.

Q 13. ककुस्थ की मृत्यु के बाद सिंहासन पर कौन बैठा था?

Ans ककुस्थ की मृत्यु के बाद उसका भाई देवराज सिंहासन पर बैठा था.

Q 14. वराह अभिलेख में देवराज को किस नाम से पुकारा गया है?

Ans वराह अभिलेख में देवराज को “देलशक्ति” के नाम से पुकारा गया है.

Q 15. किस अभिलेख से यह प्रकट होता है की देवराज ने अपने वेग से अनेक राजाओं को तितर-बितर कर दिया था?

Ans ग्वालियर अभिलेख से यह प्रकट होता है की देवराज ने अपने वेग से अनेक राजाओं को तितर-बितर कर दिया था.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- सेन राजवंश | Sen dynasty

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *