मुगल शासन व्यवस्था part 2 | Mughal rule

मुगल शासन व्यवस्था part 2 | Mughal rule | 1570-71 ई. में टोडरमल ने खालसा भूमि पर भू-राजस्व की नवीन प्रणाली जब्ती प्रारंभ की

मुगल शासन व्यवस्था part 2 | Mughal rule

औरंगजेब ने अपने शासनकाल में नस्क प्रणाली को अपनाया व भू-राजस्व को उपज का आधा कर दिया गया था. मुग़ल काल में कृषक 3 वर्गों में विभाजित थे :-

  1. खुदकाश्त :- ये किसान उसी गाँव की भुमि पर खेती करते जहाँ वे निवास करते है.
  2. पाही काश्त :- ये किसान दुसरे गाँव जाकर खेती कार्य करते थे.
  3. मुजारियन :- ये किसान खुदकाश्त कृषकों भूमि किराये पर लेकर खेती करते थे.
मुगल शासन व्यवस्था part 2 | Mughal rule
मुगल शासन व्यवस्था part 2 | Mughal rule

मुगल काल में रूपये की सर्वाधिक ढलाई औरंगजेब के समय में हुई थी. आना सिक्के का प्रचलन शाहजहाँ ने करवाया था. जहाँगीर ने अपने समय में सिक्कों पर अपनी आकृति बनवाई, साथ ही ही उस पर अपना व नूरजहाँ का नाम भी अंकित करवाया था.

यह भी देखे :- मुगल शासन व्यवस्था part 1 | Mughal rule

मुगलकालीन लगान वसूलने की व्यस्थाएं

गल्ला बख्शी :- इसमें फसल का कुछ बैग सरकार द्वारा ले लिया जाता था.
नसक :- इसमें खड़ी फसल के आधार पर लगान का अनुमान लगाकर उसे फसल काटने के समय उसे ले लिया जाता था. यह व्यवस्था बंगाल में थी.
जब्ती :- इसमें बाई गई फसल के आधार पर लगान का निश्चय किया जाता था, जो नकद लिया जाता था.

See also  मध्यकालीन भू-राजस्व प्रशासन

सबसे बड़ा सिक्का शंसब सोने का था. स्वर्ण का सबसे प्रचलित सिक्का इलाही था. मुगलकालीन अर्थव्यवस्था का आधार चांदी का रुपया था. दैनिक लेन-देन के लिए तांबे के दाम का प्रयोग होता था. एक रूपये में 40 दाम होते थे.

मुग़ल सेना चार भागों में विभजित थी :- 1. पैदल सेना 2. घुड़सवार सेना 3. तोपखाना 4. हाथी सेना

यह भी देखे :- शेरशाह सूरी | Sher Shah Suri

मुगलकालीन सैन्य व्यवस्था पूर्णतः मनसबदार पर आधारित थी. इसे अकबर ने प्रारंभ किया था. 10 से 500 तक मनसब प्राप्त करने वाले मनसबदार, 500 से 2500 मनसब प्राप्त करने वाले को उमरा, 2500 से ऊपर मनसब प्राप्त करने वाले अमीर-ए-आजम कहलाते थे.

जात से व्यक्ति के वेतन व प्रतिष्ठा का ज्ञान होता था. संवार पद से घुड़सवार दस्तों की संख्या का ज्ञान होता था.

अकबर के शासनकाल में 29 ऐसे मनसबदार थे जो 500 जात की पदवी के थे. औरंगजेब के शासनकाल तक ऐसे मनसबदारों की संख्या 79 थी. 

जहाँगीर ने सवार पद में दो-अस्पा एवं सिह-अस्पा की व्यवस्था की थी. सर्वप्रथम यह पद महाबत खां को दिया गया था.

यह भी देखे :- मुगल शासक हुमायूँ | Humayun Mughal Ruler

मुगल शासन व्यवस्था part 2 FAQ

Q 1. भूमि पर भू-राजस्व की नवीन प्रणाली जब्ती किसने प्रारंभ की थी?
See also  तुगलक वंश के शासक part 2 | Rulers of Tughlaq Dynasty

Ans डरमल ने खालसा भूमि पर भू-राजस्व की नवीन प्रणाली जब्ती प्रारंभ की थी.

Q 2. भूमि पर भू-राजस्व की नवीन प्रणाली जब्ती कब प्रारंभ की गई थी?

Ans 1570-71 ई. में पर भू-राजस्व की नवीन प्रणाली जब्ती प्रारंभ की गई थी.

Q 3. जब्ती में कर निर्धारण की कितनी श्रेणियां थी?

Ans जब्ती में कर निर्धारण की दो श्रेणियां थी.

Q 4. जब्ती में कर निर्धारण की कौन-कौनसी श्रेणियां थी?

Ans जब्ती में कई निधर्न की श्रेणियां निम्न थी :- एक को ताखशीस व दूसरी की तहसील.

Q 5. मुग़ल काल में कृषक कितने वर्गों में विभाजित थे?

Ans मुग़ल काल में कृषक 3 वर्गों में विभाजित थे.

Q 6. मुगल काल में रूपये की सर्वाधिक ढलाई किसके समय में हुई थी?

Ans मुगल काल में रूपये की सर्वाधिक ढलाई औरंगजेब के समय में हुई थी.

Q 7. आना सिक्के का प्रचलन किसने करवाया था?

Ans आना सिक्के का प्रचलन शाहजहाँ ने करवाया था.

Q 8. जहाँगीर ने अपने समय में सिक्कों पर किसकी आकृति बनवाई थी?

Ans जहाँगीर ने अपने समय में सिक्कों पर स्वयं की आकृति बनवाई थी.

See also  खिलजी वंश के शासक | Rulers of Khilji Dynasty
Q 9. जहाँगीर ने अपने समय में सिक्कों किन-किन का नाम अंकित करवाया था?

Ans जहाँगीर ने अपने समय में सिक्कों परअपना व नूरजहाँ का नाम भी अंकित करवाया था.

Q 10. सबसे बड़ा सिक्का किस सोने का था

Ans सबसे बड़ा सिक्का शंसब सोने का था.

Q 11. स्वर्ण का सबसे प्रचलित सिक्का कौनसा था?

Ans स्वर्ण का सबसे प्रचलित सिक्का इलाही था.

Q 12. मुगलकालीन अर्थव्यवस्था का आधार किसका रुपया था?

Ans मुगलकालीन अर्थव्यवस्था का आधार चांदी का रुपया था.

Q 13. मुग़ल सेना कितने भागों में विभजित थी?

Ans मुग़ल सेना चार भागों में विभजित थी :- 1. पैदल सेना 2. घुड़सवार सेना 3. तोपखाना 4. हाथी सेना.

Q 14. मुगलकालीन सैन्य व्यवस्था पूर्णतः किस पर आधारित थी?

Ans मुगलकालीन सैन्य व्यवस्था पूर्णतः मनसबदार पर आधारित थी.

Q 15. मनसबदार की शुरुआत किसने की थी?

Ans मनसबदार की शुरुआत अकबर ने की थी.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- मुगल साम्राज्य | Mughal Empire

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment