मोरबी जिला

मोरबी जिला भारत के गुजरात राज्य का एक जिला है. इस जिले का मुख्यालय मोरबी में स्थित है. यह गुजरात के उत्तरी हिस्से में स्थित है

मोरबी जिला

मोरबी भारत के गुजरात राज्य का एक जिला है. इस जिले का मुख्यालय मोरबी में स्थित है. यह गुजरात के उत्तरी हिस्से में स्थित है.

इस जिले के उत्तर में कच्छ जिला, पूर्व में सुरेंद्रनगर जिला, दक्षिण में राजकोट जिला, पश्चिम में जामनगर जिला तथा उत्तर-पश्चिम में अरब सागर स्थित है.

यह भी देखे :- मेहसाणा जिला

जिले का इतिहास

इस जिले का इतिहास बहुत ही रुचिकर है. इस जिले का नाम वास्तव में मोरनिओ का अपभ्रंश रूप है, जो की किसी समय भुज में बहुत ही अधिक मात्र में थी. इस जिले को भुज जिले से ही विभाजित किया गया है. यह एक समृद्ध रियासत थी, जिसका वैभव अंग्रेजों के शासनकाल में भी कम नहीं हुआ था. यहाँ के शासक जडेजा राजवंश से थे.

मोरबी जिला
मोरबी जिले का नक्शा
यह भी देखे :- महीसागर जिला

सामान्य परिचय

नामजानकारी
जनसँख्या10 लाख
जनसँख्या घनत्व 205/वर्ग किमी
क्षेत्रफल4871 वर्ग किमी
साक्षरता84.59%
लिंगानुपात924
विधानसभा सदस्य संख्या3
नगरपालिकाएं  3
यह भी देखे :- खेड़ा जिला

मोरबी FAQ

Q 2. मोरबी का मुख्यालय कहाँ स्थित है?

Ans – मोरबी का मुख्यालय मोरबी में स्थित है.

Q 3. मोरबी जिला गुजरात किस हिस्से में स्थित है?

Ans – मोरबी जिला गुजरात के उत्तरी हिस्से में स्थित है.

Q 4. मोरबी की जनसँख्या कितनी है?

Ans – मोरबी की जनसँख्या 10 लाख है.

Q 5. मोरबी जिले का जनसँख्या घनत्व कितना है?

Ans – मोरबी जिले का जनसँख्या घनत्व 205 है.

Q 6. मोरबी का क्षेत्रफल कितना है?

Ans मोरबी का क्षेत्रफल 4871 वर्ग किमी है.

Q 8. मोरबी का लिंगानुपात कितना है?

Ans – मोरबी का लिंगानुपात 924 है.

Q 9. मोरबी में विधानसभा सदस्य संख्या कितनी है?

Ans – मोरबी में विधानसभा सदस्य संख्या 3 है.

Q 10. मोरबी में नगरपालिकाएं कितनी है?

Ans – मोरबी में 3 नगरपालिकाएं है.

लेख को पूरा पढने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद | अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे अपने रिश्तेदारों व मित्रों के साथ में शेयर करना मत भूलना…..

यह भी देखे :- कच्छ जिला

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment