मध्यकालीन सिंचाई के मुख्य यंत्र

मध्यकालीन सिंचाई के मुख्य यंत्र | कुओं और अन्य स्थानों से पानी प्राप्त करने के लिए ‘रेंट’, ‘पावटी’ या ‘रिया’, ‘चड्स’, ‘ढीकळी’ , इडोणी या झांपल्या और कुतुम्बा का उपयोग होता है

मध्यकालीन सिंचाई के मुख्य यंत्र

कुओं और अन्य स्थानों से पानी प्राप्त करने के लिए ‘रेंट’, ‘पावटी’ या ‘रिया’, ‘चड्स’, ‘ढीकळी’ , इडोणी या झांपल्या और कुतुम्बा का उपयोग होता है। कुओं, बावड़ियों और डोरियों आदि से खेतों की सिंचाई के लिए खालड़े का बना एक बड़ा पात्र, जिसके पैदे में हाथी की सूण्ड की तरह एक सूंड लगी होती है, चड्स, चर्ड या छर्ड कहा जाता है।

यह भी देखे :- मध्यकालीन राजस्व प्रशासन
मध्यकालीन सिंचाई के मुख्य यंत्र
मध्यकालीन सिंचाई के मुख्य यंत्र
यह भी देखे :- सामन्ती संस्कृति का प्रतिकूल प्रभाव

चड़स बनाने का काम ‘रेगर’ करते थे। उदयपुर के पास इन्हें ‘मैंतर’ (महतर) कहते हैं। रेगरों का खाल और चमड़ा पकाने का स्थान कारखाना या ‘आडाँ’ कहलाता है। वेदों में प्राप्त अरगराट शब्द का अर्थ ‘अरघट जलयन्त्र’ हो सकता है। ऐसा कुआँ जिस पर रहँट से सिंचाई होती है ‘आट’ कहा जाता है। रहँट का उपयोग केवल पर्वतीय स्थानों में होता है। जहाँ लम्बा फेरा बनाने के लिए स्थान की कमी हो।

छोटे खेतों की सिंचाई और ढूंढ में भेड़-बकरियों को पानी पिलाने के लिए कुएँ पर एक धूणी के सिर व बलींडी लगाकर उसके एक सिरे पर रस्सी में डोल बाँधकर सहायता ली जाती थी। बलींडी के ऊपर नीचे आने से पानी से भर कर चमड़े का बना एक ढ़ोल जिसे ‘चड़सी’ कहते हैं, ऊपर आता है। कुएँ पर लगा हुआ लकड़ी का यह तुला यन्त्र ढिकळी कहलाता था।

यह भी देखे :- मध्यकालीन जागीर के प्रकार

मध्यकालीन सिंचाई के मुख्य यंत्र FAQ

Q 1. कुओं और अन्य स्थानों से पानी प्राप्त करने के लिए किसका प्रयोग किया जाता था?

Ans – कुओं और अन्य स्थानों से पानी प्राप्त करने के लिए ‘रेंट’, ‘पावटी’ या ‘रिया’, ‘चड्स’, ‘ढीकळी’ , इडोणी या झांपल्या और कुतुम्बा का उपयोग होता था.

Q 2. चड़स बनाने का काम कौन करते थे?

Ans – चड़स बनाने का काम ‘रेगर’ करते थे.

Q 3. वेदों में प्राप्त अरगराट शब्द का अर्थ क्या हो सकता है?

Ans – वेदों में प्राप्त अरगराट शब्द का अर्थ ‘अरघट जलयन्त्र’ हो सकता है.

Q 4. रहँट का उपयोग केवल कैसे स्थानों में होता है?

Ans – रहँट का उपयोग केवल पर्वतीय स्थानों में होता है.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- सामंतों के विशेषाधिकार

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *