मध्यकालीन खान-पान

मध्यकालीन खान-पान | गेहूं, चावल, दाल, जौ, ज्वार, तेल, घी, मसाले और गोश्त का प्रयोग भोज्य पदार्थों के रूप में किया जाता था। शाकाहारी व्यक्ति दूध तथा दूध से तैयार किए हुए रुचिकर व्यंजनों का प्रयोग बड़े चाव से करते थे।

मध्यकालीन खान-पान

मध्यकाल में गेहूं, चावल, दाल, जौ, ज्वार, तेल, घी, मसाले और गोश्त का प्रयोग भोज्य पदार्थों के रूप में किया जाता था। जैन धर्म के बढ़ते हुए प्रभाव के कारण माँसाहार कम होने लगा और यहां के निवासी शाकाहारी बनने लगे। इसीलिए यहां के ग्रंथों में लिखा हुआ मिलता है कि जो लोग पशु-पक्षियों का माँस-प्राप्ति के लिए शिकार करते थे उन्हें दण्ड दिया जाता था।

यह भी देखे :- मध्यकालीन स्त्रियों की दशा
मध्यकालीन खान-पान
यह भी देखे :- मध्यकालीन सामाजिक स्थिति

शाकाहारी व्यक्ति दूध तथा दूध से तैयार किए हुए रुचिकर व्यंजनों का प्रयोग बड़े चाव से करते थे। भारतीय भोजन में मध्यकालीन युग बहुत ही प्रभावशाली था. उस समय दुनिया के विभिन्न हिस्सों से आक्रमणकारी व यात्री भारत आए व विभिन्न व्यंजनों के अद्भव में अपना योगदान दिया.

See also  नाडोल के चौहान

मुगल साम्राज्य ने 500-1800 के मध्य भारतीय उपमहाद्वीप पर शासन किया और मुगलई व्यंजनों का उदय शासकों से जुड़ा था। भारतीय भोजन में मध्यकालीन युग को समृद्ध बनाने चीन, तिब्बत और अन्य पड़ोसी देशों के यात्रियों ने अपना योगदान दिया है.

यह भी देखे :- मध्यकालीन प्रमुख लाग-बाग

मध्यकालीन खान-पान FAQ

Q 1. मध्यकाल में भोज्य पदार्थों के रूप में किस-किस का प्रयोग किया जाता था?

Ans – मध्यकाल में गेहूं, चावल, दाल, जौ, ज्वार, तेल, घी, मसाले और गोश्त का प्रयोग भोज्य पदार्थों के रूप में किया जाता था.

See also  करौली के यदुवंशी
Q 2. भारतीय भोजन में मध्यकालीन युग को समृद्ध बनाने किन-किन पड़ोसी देशों के यात्रियों ने अपना योगदान दिया है?

Ans – भारतीय भोजन में मध्यकालीन युग को समृद्ध बनाने चीन, तिब्बत और अन्य पड़ोसी देशों के यात्रियों ने अपना योगदान दिया है.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- मध्यकालीन कृषक वर्ग

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment