महमूद गजनी के भारत पर आक्रमण

महमूद गजनी के भारत पर आक्रमण | 932 ई. में अलप्तगीन नामक तुर्क सरदार ने गजनी साम्राज्य की स्थापना की थी, जिसकी राजधानी गजनी थी

महमूद गजनी | Mahmud Ghazni’s invasion of India

प्रथम तुर्क आक्रमण के समय पंजाब के शाही वंश का शासक जयपाल था. अलप्तगीन का गुलाम तथा दामाद सुबुक्तगीन 977 ई. में गजनी की गद्दी पर बैठा था. महमूद गजनी सुबुक्तगीन का पुत्र था, जिसका जन्म 1 नवम्बर 971 ई. में हुआ था.

यह भी देखे :- लोदी राजवंश | Lodi dynasty

अपने पिता के काल में महमूद गजनी खुरासान का शासक था. महमूद गजनी 27 वर्ष की अवस्था में में 998 ई. में गद्दी पर बैठा था. बगदाद का खलीफा अल- आदिर बिल्लाह ने महमूद गजनी के पद की मान्यता प्रदान करते हुए यमीन-उद-दौला तथा यमीन-ऊल-मिल्लाह की उपाधि प्रदान की.

महमूद गजनी के भारत पर आक्रमण
महमूद गजनी के भारत पर आक्रमण

महमूद गजनी के भारत पर आक्रमण

महमूद गजनी ने भारत पर 17 बार आक्रमण किया था. महमूद का भारतीय आक्रमण का वास्तविक उद्देश्य धन प्राप्ति थी. महमूद एक मूर्तिभंजक आक्रमणकारी था. महमूद गजनी ने भारत पर प्रथम आक्रमण 1000 ई. में किया तथा पेशावर के कुछ भागों पर अधिकार कर अपने देश वापस लौट गया.

महमूद गजनी ने 1001 ई. में शाही राजा जयपाल के विरुद्ध आक्रमण किया था, इस युद्ध में जयपाल की पराजय हुई थी. महमूद गजनी का 1008ई. में नगरकोट के विरुद्ध हमले को मुर्तिवाद के विरुद्ध प्रथम विजय मानी जाती है.

यह भी देखे :- गुर्जर प्रतिहार राजवंश | Gurjara Pratihara Dynasty

महमूद गजनी ने थानेसर के चक्रस्वमिन की कांस्य निर्मित आदमकद प्रतिमा को गजनी भेजकर रंगभूमि में रखा गया था. महमूद गजनी का सबसे चर्चित आक्रमण 1025 ई. में सोमनाथ मंदिर पर हुआ था. इस मंदिर को लूट में उसे करीब 20 लाख दिनार की सम्पति हाथ लगी थी. सोमनाथ की रक्षा में सहायता करने के कारण अन्हिलवाडा के शासक पर महमूद ने आक्रमण किया था.

See also  मध्यकालीन भूमि का वर्गीकरण

सोमनाथ मंदिर की लूट ले जाने के क्रम में महमूद पर जाटों ने आक्रमण किया तथा कुछ सम्पति लूट ली थी.

महमूद गजनी का अंतिम भारतीय आक्रमण 1027 ई. में जाटों के विरुद्ध था. महमूद गजनी की मृत्यु 1030 ई. में हो गई थी. सुल्तान की उपाधि धारण करने वाला प्रथम शासक महमूद गजनी था. सुल्तान की सेना में सेवन्दराय तथा तिलक जैसे हिन्दू उच्च पदों पर आसीन थे. अलबरुनी, फिरदौसी, उत्बी तथा फरुखी महमूद गजनी के दरबार में रहते थे.

यह भी देखे :- गहड़वाल राजवंश | Gahadwal dynasty

महमूद गजनी के भारत पर आक्रमण FAQ

Q 1. गजनी साम्राज्य की स्थापना किसने की थी?
See also  दास प्रथा

Ans अलप्तगीन नामक तुर्क सरदार ने गजनी साम्राज्य की स्थापना की थी.

Q 2. गजनी साम्राज्य की स्थापना कब हुई थी?

Ans 932 ई. में गजनी साम्राज्य की स्थापना की थी.

Q 3. गजनी साम्राज्य की राजधानी कहाँ स्थित थी?

Ans गजनी साम्राज्य की राजधानी गजनी थी.

Q 4. भारत पर प्रथम गजनी आक्रमण किसने किया था?

Ans भारत पर प्रथम गजनी आक्रमण पिरीतिगीन ने की थी.

Q 5. प्रथम तुर्क आक्रमण के समय पंजाब के शाही वंश का शासक कौन था?

Ans प्रथम तुर्क आक्रमण के समय पंजाब के शाही वंश का शासक जयपाल था.

Q 6. महमूद गजनी किसका पुत्र था?

Ans महमूद गजनी सुबुक्तगीन का पुत्र था.

Q 7. महमूद गजनी का जन्म कब हुआ था?

Ans महमूद गजनी का जन्म 1 नवम्बर 971 ई. में हुआ था.

Q 8. अपने पिता के काल में महमूद गजनी कहाँ का शासक था?

Ans अपने पिता के काल में महमूद गजनी खुरासान का शासक था.

Q 10. महमूद गजनी कब गद्दी पर बैठा था?

Ans महमूद गजनी. में 998 ई. में गद्दी पर बैठा था

Q 11. महमूद गजनी ने भारत पर कितनी बार आक्रमण किया था?

Ans महमूद गजनी ने भारत पर 17 बार आक्रमण किया था.

Q 12. महमूद का भारतीय आक्रमण का वास्तविक उद्देश्य क्या प्राप्ति थी?

Ans महमूद का भारतीय आक्रमण का वास्तविक उद्देश्य धन प्राप्ति थी.

Q 13. महमूद गजनी ने भारत पर प्रथम आक्रमण कब किया था?

Ans महमूद गजनी ने भारत पर प्रथम आक्रमण 1000 ई. में किया था.

Q 14. महमूद गजनी का अंतिम भारतीय आक्रमण कब हुआ था?

Ans महमूद गजनी का अंतिम भारतीय आक्रमण 1027 ई. में हुआ था.

Q 15. महमूद गजनी का अंतिम भारतीय आक्रमण किसके विरुद्ध था

Ans महमूद गजनी का अंतिम भारतीय आक्रमण जाटों के विरुद्ध था.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- सेन राजवंश | Sen dynasty

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment