महाराणा स्वरूपसिंह

महाराणा स्वरूपसिंह | महाराणा सरदारसिंह के बाद उसका छोटा भाई स्वरूप सिंह मेवाड़ की राजगद्दी पर बैठा था. इसके शासनकाल में कई समाज सुधार के कार्य किए गए थे

महाराणा स्वरूपसिंह

महाराणा सरदारसिंह के बाद उसका छोटा भाई स्वरूप सिंह मेवाड़ की राजगद्दी पर बैठा था. महाराणा ने जाली सिक्कों से व्यापार को नुकसान होने पर नये ‘स्वरूपशाही’ सिक्कों का प्रचलन किया। इन सिक्कों पर एक ओर ‘चित्रकूट उदयपुर’ और दूसरी ओर ‘दोस्ती लंघन’ लिखा हुआ था।

यह भी देखे :- महाराणा भीमसिंह

इनके समय में विजय स्तम्भ पर बिजली गिरने से वह क्षतिग्रस्त हो गया था, अतः महाराणा ने उसको पुनर्निर्मित करवाया।

महाराणा स्वरूपसिंह
महाराणा स्वरूपसिंह
यह भी देखे :-  महाराणा जगतसिंह द्वितीय

इन्होंने 1844 ई. में कन्यावध को निषेध कर दिया तथा 1853 ई. में डाकन प्रथा की समाप्ति कर दी। लेकिन पूर्ण समाप्ति महाराणा शंभूसिंह के काल में हुई। 15 अगस्त, 1861 को महाराणा ने सती प्रथा पर रोक लगाने का हुक्म जारी किया। महाराणा ने समाधि प्रथा पर भी रोक लगाई।

इनकी मृत्यु 1861 ई. में हुई। स्वरूपसिंह के साथ पासवान ऐंजाबाई सती हुई। यह मेवाड़ महाराणाओं के साथ सती होने की अंतिम घटना थी। स्वरूपसिंह के बाद शंभूसिंह (1861-1872 ई.) मेवाड़ का महाराणा बना। इनके समय अनेक सामाजिक सुधार किए गए। इन्होंने सती प्रथा को पूर्णतः प्रतिबंधित कर दिया।

यह भी देखे :-  महाराणा अमर सिंह द्वितीय

महाराणा स्वरूपसिंह FAQ

Q 1. महाराणा सरदारसिंह के बाद मेवाड़ की राजगद्दी पर कौन बैठा था?

Ans – महाराणा सरदारसिंह के बाद उसका छोटा भाई स्वरूप सिंह मेवाड़ की राजगद्दी पर बैठा था.

Q 2. कन्यावध को कब निषेध कर दिया गया था?

Ans – 1844 ई. में कन्यावध को निषेध कर दिया गया था.

Q 3. कन्यावध को किसके द्वारा निषेध कर दिया गया था?

Ans – कन्यावध को राणा स्वरूप सिंह के द्वारा निषेध कर दिया गया था.

Q 4. डाकन प्रथा की समाप्ति कब कर दी गई थी?

Ans – 1853 ई. में डाकन प्रथा की समाप्ति कर दी गई थी.

Q 5. महाराणा ने सती प्रथा पर रोक लगाने का हुक्म जारी कब किया था?

Ans – 15 अगस्त, 1861 को महाराणा ने सती प्रथा पर रोक लगाने का हुक्म जारी किया था.

Q 6. राणा स्वरूप सिंह की मृत्यु कब हुई थी?

Ans – राणा स्वरूप सिंह की मृत्यु 1861 ई. को हुई थी.

Q 7. स्वरूप सिंह के बाद मेवाड़ का महाराणा कौन बना?

Ans – स्वरूपसिंह के बाद शंभूसिंह (1861-1872 ई.) मेवाड़ का राणा बना.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- राणा जयसिंह

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published.