महाराणा जगतसिंह द्वितीय

महाराणा जगतसिंह द्वितीय | संग्रामसिंह द्वितीय की मृत्यु के बाद जगतसिंह द्वितीय ने 1734 ई. में मेवाड़ की सत्ता संभाली। मराठों ने इन्हीं के शासन में मेवाड़ में पहली बार प्रवेश कर इनसे कर वसूल किया

महाराणा जगतसिंह द्वितीय

संग्रामसिंह द्वितीय की मृत्यु के बाद जगतसिंह द्वितीय ने 1734 ई. में मेवाड़ की सत्ता संभाली। इसके समय अफगान आक्रमणकारी नादिरशाह ने दिल्ली पर आक्रमण कर उसे लूटा। मराठों ने इन्हीं के शासन में मेवाड़ में पहली बार प्रवेश कर इनसे कर वसूल किया। जगतसिंह द्वितीय ने पिछोला झील में जगतनिवास महल बनवाया।

यह भी देखे :- महाराणा अमर सिंह द्वितीय
महाराणा जगतसिंह द्वितीय
महाराणा जगत सिंह द्वितीय

इनके दरबारी कवि नेकराम ने ‘जगतविलास’ ग्रंथ लिखा। इन्होंने मराठों के विरुद्ध राजस्थान के राजाओं को संगठित करने के उद्देश्य से 17 जुलाई, 1734 ई. को हुरड़ा (भीलवाड़ा) नामक स्थान पर राजपूताना राजाओं का सम्मेलन आयोजित कर एक शक्तिशाली मराठा विरोधी मंच बनाया। (हुरड़ा सम्मेलन की चर्चा कच्छवाहा राजवंश में की गई है।) इसके शासन काल में पेशवा बाजीराव प्रथम मेवाड़ आया और चौथ वसूलने का समझौता किया।

यह भी देखे :- राणा जयसिंह

महाराणा जगतसिंह द्वितीय ने माधोसिंह को जयपुर का राज्य दिलाने के लिए जयपुर के उत्तराधिकार संघर्ष में हस्तक्षेप किया।

राणा जगतसिंह द्वितीय के बाद महाराणा प्रतापसिंह (1751-1754 ई.), महाराणा राजसिंह द्वितीय (1754-1761 ई.), महाराणा अरिसिंह द्वितीय (1761-1773 ई.) और महाराणा हमीर सिंह द्वितीय (1773-1778 ई.) हुए।

यह भी देखे :- महाराणा जगतसिंह प्रथम

महाराणा जगतसिंह द्वितीय FAQ

Q 1. संग्रामसिंह द्वितीय की मृत्यु के बाद मेवाड़ की सत्ता किसने संभाली?

Ans – संग्रामसिंह द्वितीय की मृत्यु के बाद जगतसिंह द्वितीय ने मेवाड़ की सत्ता संभाली.

Q 2. जगतसिंह द्वितीय का राज्याभिषेक कब हुआ था?

Ans – जगतसिंह द्वितीय का राज्याभिषेक 1734 ई. में हुआ था.

Q 3. मराठों किसके शासन में मेवाड़ में पहली बार प्रवेश कर इनसे कर वसूल किया?

Ans – मराठों ने जगतसिंह द्वितीय के शासन में मेवाड़ में पहली बार प्रवेश कर इनसे कर वसूल किया।

Q 4. ‘जगतविलास’ ग्रंथ किसके द्वारा लिखा गया है?

Ans – ‘जगतविलास’ ग्रंथ कवि नेकराम द्वारा लिखा गया है.

Q 5. हुरड़ा सम्मलेन कब हुआ था?

Ans – हुरड़ा सम्मलेन 17 जुलाई, 1734 ई. को हुआ था.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- राणा कर्णसिंह

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *