महाराजा सूरसिंह

महाराजा सूरसिंह | सूर सिंह महाराजा रायसिंह के छोटे पुत्र थे. सूर सिंह का राज्याभिषेक 1613 ई. को किया गया था. बुरहानपुर में 1631 ई. को इनका देहांत हो गया था

महाराजा सूरसिंह

महाराजा रायसिंह बड़े पुत्र दलपतसिंह की बजाय सूरसिंह को अपना उत्तराधिकारी बनाना चाहते थे। परन्तु जहाँगीर ने रायसिंह की इच्छा के विरुद्ध दलपतसिंह को टीका भेजकर बीकानेर का शासक स्वीकार किया। दलपतसिंह का आचरण सम्राट के प्रतिकूल होने के कारण जहाँगीर ने रायसिंह के छोटे पुत्र सूरसिंह को टीका भेजा और दलपतसिंह को कैद कर मृत्युदण्ड दिया गया।

यह भी देखे :- महाराजा रायसिंह

जब शहजादा खुरंम ने विद्रोह किया तो जहाँगीर ने उसके विरुद्ध सूरसिंह को भेजा, जिसमें उसे सफलता मिली। परन्तु जब खुर्रम शाहजहाँ के नाम से मुगल सम्राट बना तो शाहजहाँ ने सूरसिंह का मनसब बढ़ाकर 4000 जात / 4000 सवार कर दिया।

महाराजा सूरसिंह
महाराजा सूरसिंह

1626 ई. में बादशाह ने सूरसिंह की नियुक्ति बुरहानपुर में कर दी। 1627 ई. में ‘नागौर का परगना’ तथा अन्य परगने अ के हटाए जाने पर सूरसिंह को जागीर में दिए गए। 1628 ई. में थट्टा के बागियों के दमन के लिए बादशाह शाहजहां ने शेर ख्वाजा के साथ सूरसिंह को भी जाने की आज्ञा दी। 1628 ई. में काबुल का विद्रोह दबाने के लिए सूरसिंह को भेजा गया जिसमें वह सफल रहा। इसी प्रकार ओरछा के शासक झुंझारसिंह बुंदेला का विद्रोह दबाया तथा उसे दरबार में हाजरी देने पर मजबूर किया।

यह भी देखे :- राव कल्याणमल

1629 में सूरसिंह को दक्कन में खानजहां लोदी के विरुद्ध भेजा। मिर्जा राजा जयसिंह के साथ मिलकर राजारो के युद्ध में खानजहां को मार भगाया। 28 मार्च, 1630 को बादशाह ने उसके विरूद्ध आचरण करने वाले लोगों को दंड देने के लिए दक्षिण में शाही अफसर भेजे गए उनमें सूरसिंह भी था जिसने इस कार्य में बड़ी तत्परता और वीरता दिखलाई। इस तरह सूरसिंह की अन्य स्थानों पर भी नियुक्ति होती रही।

बुरहानपुर में वि.स. 1688 (ई.स. 1631) में बौहरी गांव में सूरसिंह का देहांत हो गया, महाराजा सूरसिंह के तीन पुत्र कर्णसिंह, शत्रुसाल और अर्जुनसिंह हुए। कर्णसिंह का जन्म राजा मानसिंह के पुत्र हिम्मतसिंह की पुत्री स्वरूपदे के गर्भ से हुआ।

यह भी देखे :- राव जैतसी

महाराजा सूरसिंह FAQ

Q 1. सूर सिंह किसके पुत्र थे?

Ans – सूर सिंह महाराजा रायसिंह के छोटे पुत्र थे.

Q 2. सूर सिंह का राज्याभिषेक कब किया गया था?

Ans –सूर सिंह का राज्याभिषेक 1613 ई. को किया गया था. 

Q 3. सूरसिंह का देहांत कब हुआ था?

Ans – सूरसिंह का देहांत 1631 ई. को हुआ था.

Q 4. सूरसिंह का देहांत कहाँ हुआ था?

Ans – सूरसिंह का देहांत बुरहानपुर में हुआ था.

Q 5. राजा सूरसिंह के कितने पुत्र थे?

Ans – राजा सूरसिंह के तीन पुत्र थे.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- राव लूणकर्ण

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published.