महाराजा जवाहर सिंह

महाराजा जवाहर सिंह | 1763 ई. में सूरजमल की मृत्यु के बाद जवारहसिंह जाट राजा बना तथा अब के बाद से जाट राज्य की शक्ति कमजोर होने लग गयी थी

महाराजा जवाहर सिंह

1763 ई. में सूरजमल की मृत्यु के बाद जवारहसिंह जाट राजा बना तथा अब के बाद से जाट राज्य की शक्ति कमजोर होने लग गयी थी। उसे मराठों, रूहेलों तथा राजपूतों से लगातार संघर्ष करना पड़ा। सूरजमल के उत्तराधिकारी जवाहरसिंह ने नजीबुद्दौला के विरुद्ध दिल्ली की ओर प्रस्थान किया और दिल्ली की घेराबन्दी कर दी।

यह भी देखे :- महाराजा सूरजमल
महाराजा जवाहर सिंह
महाराजा जवाहर सिंह
यह भी देखे :- बदनसिंह जाट

लेकिन अपने ही साथियों का पूर्ण सहयोग न मिल पाने के कारण उसे अशातीत सफलता नहीं मिली। सूरजमल की मृत्यु के बाद जवाहरसिंह ने पाँच वर्ष राज्य किया। जवाहरसिंह के उत्तराधिकारी रतनसिंह ने केवल 9 माह शासन किया। उसके बाद उसका पुत्र केसरीसिंह शासक हुआ। इस समय जाट राज्य की अवनति तेजी से हुई।

जाटों की समृद्धि की तत्कालीन अवनति में सूरजमल की विधवा रानी किशोरी की मध्यस्थता से अन्ततः सुधार हुआ जिसमें नजफ खाँ को भरतपुर राज्य के पुनर्गठन का भार सौंपा।

यह भी देखे :- चूड़ामन जाट – भरतपुर

महाराजा जवाहर सिंह FAQ

Q 1. सूरजमल की मृत्यु कब हुई थी?

Ans – सूरजमल की मृत्यु 1763 ई. में हुई थी.

Q 2. सूरजमल की मृत्यु के बाद भरतपुर का शासक कौन बना था?

Ans – सूरजमल की मृत्यु के बाद जवारहसिंह जाट भरतपुर का शासक बना था.

Q 3. जवाहर सिंह ने कितने वर्षों तक शासन किया था?

Ans – जवाहर सिंह 5 वर्षों तक शासन किया था.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- राजाराम जाट

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published.