महाराजा डूंगरसिंह

महाराजा डूंगरसिंह | महाराजा सरदार सिंह के कोई पुत्र नहीं होने के कारण डूंगर सिंह को बीकानेर का शासक घोषित किया गया था. इन्होनें अंग्रजों से नमक नामक समझौता किया था

महाराजा डूंगरसिंह

महाराजा सरदारसिंह के एक खवासवाल पुत्र के सिवा कोई ‘पाटवी’ कुमार न था। इसलिए उन्होंने अपनी मृत्यु से कई वर्ष पूर्व सूरतसिंह के छोटे भाई की संतान में से डूंगर सिंह को अपने पास रख लिया और उसी को वसीयतनामे में अपना उत्तराधिकारी नियत कर गए।

यह भी देखे :- महाराजा रतनसिंह
महाराजा डूंगरसिंह
महाराजा डूंगरसिंह
यह भी देखे :- महाराजा सूरतसिंह

उसी वसीयतनामें के अनुसार महाराज की पटरानी भटियाणीजी ने डूंगर सिंह जी को गोद लेकर अंग्रेज सरकार से मंजूरी प्राप्त कर 1 जुलाई, 1872 को महाराजा डूंगरसिंह का राज्याभिषेक हुआ। इस प्रकार महाराजा डूंगरसिंह बीकानेर के पहले महाराजा थे जिनकी नियुक्ति की मान्यता अंग्रेज सरकार से प्राप्त हुई।

See also  मध्यकालीन सिंचाई के मुख्य यंत्र

इस समय महाराजा की उम्र साढ़े सत्रह वर्ष की थी, अतः यहां के पॉलिटिकल एजेन्ट कैप्टन ब्रिटेन की अध्यक्षता में रीजेण्ट कौसिल बनाई गई। वर्ष के अंत में कैप्टन ब्रेडफोर्ड बीकानेर आए जो महाराज को पूर्ण अधिकार मिलने का हुक्म लाए। जनवरी, 1873 में राजपूताना के ए.जी.जी. कर्नल ब्रुक ने मामूली खिलअत के साथ महाराज को राज्य का पूर्ण शासनाधिकार दिया।

यह भी देखे :- महाराजा अनूपसिंह

महाराजा डूंगरसिंह FAQ

Q 1. राजा सरदार सिंह के कोई पुत्र नहीं होने के कारण किसको बीकानेर का शासक घोषित किया गया था?
See also  श्री गंगानगर जिला

Ans – राजा सरदार सिंह के कोई पुत्र नहीं होने के कारण डूंगर सिंह को बीकानेर का शासक घोषित किया गया था.

Q 2. राजा डूंगरसिंह का राज्याभिषेक कब हुआ था?

Ans – राजा डूंगरसिंह का राज्याभिषेक 1 जुलाई, 1872 को हुआ था.

Q 3. बीकानेर के पहले महाराजा कौन थे जिनकी नियुक्ति की मान्यता अंग्रेज सरकार से प्राप्त हुई?

Ans – डूंगरसिंह बीकानेर के पहले महाराजा थे जिनकी नियुक्ति की मान्यता अंग्रेज सरकार से प्राप्त हुई.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- महाराजा गजसिंह बीकानेर

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment