महाराजा भीमसिंह

महाराजा भीमसिंह | महाराजा भीम सिंह का राजतिलक 20 जुलाई, 1793 को किया गया था. इनके उत्तराधिकारी का नाम मान सिंह है. 19 अक्टूबर, 1803 को इनका देहांत गया था

महाराजा भीमसिंह

20 जुलाई, 1793 को भीमसिंह ने सिंहासनासीन होने के पश्चात् सिंघवी बनराज को मेड़ता भेजा उसने वहां पहुंचकर समुचित प्रबंध किया। भीमसिंह को अपने भाइयों की तरफ से सदैव खटका बना रहता था, अतएवं उसने अवसर प्राप्त होते ही शेरसिंह एवं सावंतसिंह तथा उसके पुत्र सूरसिंह को मरवा डाला और इस प्रकार निरपराध व्यक्तियों की हिंसा का पाप उठाकर उसने अपना मार्ग निष्कंटक किया। 1

यह भी देखे :- महाराजा विजयसिंह

चचेरा भाई मानसिंह जालौर में रहकर अपने को स्वतंत्र राजा मानता था। ई.सं. 1797 में महाराजा ने फौज देकर बख्शी सिंघवी अखैराज को जालौर पर भेजा। जालौर पर घेरा पड़ा हुआ था, उन्हीं दिनों महाराजा को अदीठ की बीमारी हुई और उसी से 19 अक्टूबर, 1803 को उसका देहांत हो गया।

महाराजा भीमसिंह
महाराजा भीमसिंह
यह भी देखे :- महाराजा अजीत सिंह

महाराजा के उस समय कोई संतान न होने से उस समय गढ़ में उपस्थित कार्यकर्ताओं ने तत्काल राजकीय कोठारों में मोहर लगा दी।

See also  सिरोही जिला

महाराजा भीमसिंह के वर्णन का बीस सर्गों का “भीमप्रबंध” नाम का एक संस्कृत काव्य मिला है जिसका महाराजा भीमसिंह की आज्ञा से भट्ट हरिवंश ने बनाया था।

यह भी देखे :- महाराजा जसवंतसिंह प्रथम

महाराजा भीमसिंह FAQ

Q 1. महाराजा भीम सिंह का राजतिलक कब किया गया था?

Ans – महाराजा भीम सिंह का राजतिलक 20 जुलाई, 1793 को किया गया था.

Q 2. भीम सिंह के उत्तराधिकारी का नाम क्या था?

Ans – भीम सिंह के उत्तराधिकारी का नाम मान सिंह था.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- राव चन्द्रसेन

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment