माधोसिंह हाड़ा

माधोसिंह हाड़ा | राव रतन ने अपने पुत्र माधोसिंह को 1625 ई. को कोटा राज्य सौंप दिया था. उसने 15 वर्ष की उम्र से ही अपने पिता के साथ मुगलों के अधीन रह कर युद्ध लड़ने शुरू कर दिए थे

माधोसिंह हाड़ा

जब जहाँगीर के पुत्र खुरंम को बंदी बनाया गया तो उसे बूंदी के राव रतनसिंह एवं उसके पुत्र माधोसिंह की देखरेख में रखा गया। माधोसिंह ने बंदी शाहजादे खुर्रम के साथ बहुत अच्छा बर्ताव किया तथा अंतिम समय में बंदीगृह से गुप्त रूप से मुक्त किया। इसे शहजादे खुर्रम ने बहुत बड़ा एहसान माना।

यह भी देखे :- कोटा के हाड़ा चौहान
माधोसिंह हाड़ा
माधोसिंह हाड़ा
यह भी देखे :- राव उम्मेदसिंह हाड़ा

जब खुर्रम मुगल सम्राट बना तो उसने ‘माधोसिंह हाड़ा’ के नाम से कोटा राज्य का फरमान जारी कर दिया। 1631 ई. में राव रतनसिंह की मृत्यु के बाद माधोसिंह को पृथक् रूप से कोटा का शासक स्वीकार कर लिया। माधोसिंह ने मुगल सेवा में अपना नाम कमाया।

See also  अकबर की राजपूत नीति

बल्ख और बदख्शां में शहजादा मुरादबख्श के नेतृत्व में एक अभियान का आयोजन हुआ। माधोसिंह को भी 1646 ई. में इसमें सम्मिलित होने का आदेश हुआ। जब सम्राट ने मुराद के द्वारा माधोसिंह की वीरता और कुशलता की प्रशंसा सुनी तो उसके लिए चांदी के साज और आभूषणों से अलंकृत ‘बाद-रफ्तार’ नामक घोड़ा भेजा। कोटा लौटने पर 1648 ई. में लगभग 48 वर्ष की अवस्था में उसकी मृत्यु हो गयी।

यह भी देखे :- राव अनिरुद्ध हाड़ा

माधोसिंह हाड़ा FAQ

Q 1. राव रतन ने अपने पुत्र माधोसिंह को कोटा राज्य कब सौंप दिया था?
See also  विधवा विवाह

Ans – राव रतन ने अपने पुत्र माधोसिंह को 1625 ई. को कोटा राज्य सौंप दिया था.

Q 2. शाहजादे खुर्रम को अंतिम समय में बंदीगृह से गुप्त रूप से किसने मुक्त किया था?

Ans – शाहजादे खुर्रम को अंतिम समय में बंदीगृह से गुप्त रूप से माधोसिंह ने मुक्त किया था.

Q 3. जब खुर्रम मुगल सम्राट बना तो उसने किसके नाम से कोटा राज्य का फरमान जारी कर दिया था?

Ans – जब खुर्रम मुगल सम्राट बना तो उसने ‘माधोसिंह हाड़ा’ के नाम से कोटा राज्य का फरमान जारी कर दिया.

See also  महाराणा भीमसिंह
Q 4. माधोसिंह को पृथक् रूप से कोटा का शासक कब स्वीकार कर लिया गया था?

Ans – माधोसिंह को पृथक् रूप से कोटा का शासक 1631 ई. में राव रतनसिंह की मृत्यु के बाद स्वीकार कर लिया गया था.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- राव भावसिंह हाड़ा

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment