लॉर्ड वेलिंगटन | lord wellington

लॉर्ड वेलिंगटन | lord wellington | इसके समय में लन्दन में 7 सितम्बर से 1 दिसंबर 1931 ई. तक द्वितीय गोलमेज सम्मलेन का आयोजन हुआ था. इस सम्मलेन में कांग्रेस ने भी भाग लिया था

लॉर्ड वेलिंगटन | lord wellington

इसके समय में लन्दन में 7 सितम्बर से 1 दिसंबर 1931 ई. तक द्वितीय गोलमेज सम्मलेन का आयोजन हुआ था. इस सम्मलेन में कांग्रेस ने भी भाग लिया था. कांग्रेस का प्रतिनिधित्व महात्मा गाँधी ने किया था. दुसरे गोलमेज सम्मलेन की असफलता के बाद गाँधीजी ने 3 जनवरी 1932 ई. को दुबारा सविनय अवज्ञा आन्दोलन प्रारंभ किया था.

यह भी देखे :- लॉर्ड कैनिंग | lord Canning

16 अगस्त 1932 ई. में रैम्जे मैकडोनाल्ड ने विवादास्पद “साम्रदायिक पंचाट” की घोषणा की थी. इसके अनुसार दलितों को हिन्दुओं से अलग मानकर उन्हें अलग प्रतिनिधित्व देने के लिई कहा गया व दलित वर्गों के लिए अलग निर्वाचन मंडल का प्रावधान किया गया था.

इससे गांधीजी बहुत दुखी हुए व उन्होंने इसे हटाने के लिए आमरण उपवास प्रारंभ कर दिया था, अंत में एक समझौता हुआ था, जिसे प्राय “पूना समझौता ” कहते है. जिसमें दलित वर्गों के लिए साधारण वर्गों में ही सीटों का आरक्षण किया गया था. “पूना समझौता” 24 सितम्बर 1932 ई. को हुआ था.

यह भी देखे :- लॉर्ड कॉर्नवालिस | lord Cornwallis
  • 17 नवम्बर से 24 दिसंबर 1932 ई. तक लन्दन में तृतीय गोलमेज समेलन का आयोजन हुआ था. कांग्रेस ने इसमें भाग नहीं लिया था.
  • बिहार में 1934 ई. में भयंकर अकाल पड़ा था.
  • भारत सरकार अधिनियम-1935 पास किया गया था.
लॉर्ड वेलिंगटन | lord wellington
लॉर्ड वेलिंगटन | lord wellington

वेलिंगटन ने कांग्रेस के बम्बई अधिवेशन 1915 ई. में हिस्सा लिया था. इस अधिवेशन की अध्यक्षता सर सत्येन्द्र प्रसन्न सिन्हा ने की थी.

यह भी देखे :- लॉर्ड रिपन | lord Ripon

लॉर्ड वेलिंगटन | lord wellington FAQ

Q 1. वेलिंगटन के समय में द्वितीय गोलमेज सम्मलेन का आयोजन कब हुआ था?
See also  लॉर्ड हेस्टिंग्स | lord Hastings

Ans वेलिंगटन के समय में 7 सितम्बर से 1 दिसंबर 1931 ई. तक द्वितीय गोलमेज सम्मलेन का आयोजन हुआ था.

Q 2. द्वितीय गोलमेज सम्मलेन में कांग्रेस ने भाग लिया था या नहीं?

Ans द्वितीय गोलमेज सम्मलेन मवन कांग्रेस ने भाग लिया था.

Q 3. द्वितीय गोलमेज सम्मलेन में कांग्रेस का प्रतिनिधित्व किसने किया था?

Ans द्वितीय गोलमेज सम्मलेन में कांग्रेस का प्रतिनिधित्व महात्मा गांधीजी ने किया था.

Q 4. गाँधीजी ने दुबारा सविनय अवज्ञा आन्दोलन कब प्रारंभ किया था?

Ans गाँधीजी ने 3 जनवरी 1932 ई. को दुबारा सविनय अवज्ञा आन्दोलन प्रारंभ किया था.

See also  चार्ल्स मेटकॉफ | Charles Metcalf
Q 5. सविनय अवज्ञा आन्दोलन दुबारा क्यों प्रारंभ किया गया था?

Ans दुसरे गोलमेज सम्मलेन की असफलता के बाद दुबारा सविनय अवज्ञा आन्दोलन प्रारंभ किया था.

Q 6. विवादास्पद “साम्रदायिक पंचाट” की घोषणा किसने की थी?

Ans रैम्जे मैकडोनाल्ड ने विवादास्पद “साम्रदायिक पंचाट” की घोषणा की थी.

Q 7. विवादास्पद “साम्रदायिक पंचाट” की घोषणा कब की गई थी?

Ans 16 अगस्त 1932 ई. में विवादास्पद “साम्रदायिक पंचाट” की घोषणा की गई थी.

Q 8. विवादास्पद “साम्रदायिक पंचाट” का प्रावधान क्या था?

Ans विवादास्पद “साम्रदायिक पंचाट” के अनुसार दलितों को हिन्दुओं से अलग मानकर उन्हें अलग प्रतिनिधित्व देने के लिई कहा गया व दलित वर्गों के लिए अलग निर्वाचन मंडल का प्रावधान किया गया था.

Q 9. “पूना समझौता” कब हुआ था?

Ans “पूना समझौता” 24 सितम्बर 1932 ई. को हुआ था.

Q 10. लन्दन में तृतीय गोलमेज समेलन का आयोजन कब हुआ था?

Ans 17 नवम्बर से 24 दिसंबर 1932 ई. तक लन्दन में तृतीय गोलमेज समेलन का आयोजन हुआ था.

See also  लॉर्ड लिटन | Lord Lytton
Q 11. तृतीय गोलमेज समेलन में कांग्रेस ने भाग लिया था या नहीं?

Ans तृतीय गोलमेज समेलन में कांग्रेस ने इसमें भाग नहीं लिया था.

Q 12. बिहार में भयंकर अकाल कब पड़ा था?

Ans बिहार में 1934 ई. में भयंकर अकाल पड़ा था.

Q 13. भारत सरकार अधिनियम-1935 कब पास किया गया था?

Ans भारत सरकार अधिनियम-1935 वेलिंगटनके समय में पास किया गया था.

Q 14. कांग्रेस का बम्बई अधिवेशन कब हुआ था?

Ans कांग्रेस के बम्बई अधिवेशन 1915 ई. में हुआ था.

Q 15. कांग्रेस के बम्बई अधिवेशन की अध्यक्षता किसने की थी?

Ans कांग्रेस के बम्बई अधिवेशन की अध्यक्षता सर सत्येन्द्र प्रसन्न सिन्हा ने की थी.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- लॉर्ड विलियम बेंटिक | Lord William Bentinck

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment