लॉर्ड रीडिंग | Lord Reading

लॉर्ड रीडिंग | Lord Reading | रीडिंग एक साधारण यहूदी परिवार में जन्में थे, परन्तु अपनी प्रतिभा के बल पर वे इंग्लेण्ड के मुख्य न्यायाधीश व उसके बाद भारत के गवर्नर जनरल नियुक्त किए गए थे.

लॉर्ड रीडिंग | Lord Reading

रीडिंग एक साधारण यहूदी परिवार में जन्में थे, परन्तु अपनी प्रतिभा के बल पर वे इंग्लेण्ड के मुख्य न्यायाधीश व उसके बाद भारत के गवर्नर जनरल नियुक्त किए गए थे.

इनके समय में “प्रिन्स ऑफ वेल्स” नवम्बर 1921 में भारत के दौरे पर आये थे. इस दिन पूरे भारत में हड़ताल का आयोजन किया गया था. इसके समय में गांधीजी का भारतीय राजनीती में पूर्ण रूप से प्रवेश हो चूका था.

रीडिंग के समय महात्मा गांधीजी का असहयोग आंदोलन भी जोरों पर था किन्तु चौरी-चौरा काण्ड के बाद यह आंदोलन वापस ले लिया गया. रीडिंग शासनकाल में 1919 ई. में रौलेट एक्ट वापस ले लिया गया था.

यह भी देखे :- लॉर्ड डलहौजी | Lord Dalhousie
  • रीडिंग समय में ही केरल में 1921 ई. में “मोपला विद्रोह” हुआ था.
  • यह विद्रोह खिलाफत आन्दोलन का एक रूप ही था.
  • इस विद्रोह के नेता वरीयनकुन्नाथ कुंजअहमद हाजी, सीथी कोया थंगल व अली मुल्सियर थे.
  • चौरी-चौरा घटना 1922 ई. में हुई थी.
  • इसके कार्यकाल में M.N.रॉय द्वारा भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी का गठन दिसंबर 1925 ई. में हुआ था.
  • 1922 ई. में चितरंजन दास, नरसिंह चिंतामन व मोतीलाल नेहरु ने मिलकर स्वराज पार्टी का गठन किया था.
  • इसके कार्यकाल के दौरान दिल्ली व नागपुर विश्वविद्यालय की स्थापना हुई थी.
See also  लॉर्ड वेवेल | Lord Wavell

लॉर्ड रीडिंग 1921 ई. से 1926 ई. तक भारत का वाइसराय रहा था. लॉर्ड रीडिंग के समय में 1922 ई. में ‘विश्व भारतीय विश्वविद्यालय’ ने कार्य करना आरम्भ किया. दिसम्बर, 1925 ई. में प्रसिद्ध आर्य समाजी राष्ट्रवादी नेता ‘स्वामी सहजानंद’ की हत्या कर दी गई.

लॉर्ड रीडिंग | Lord Reading
लॉर्ड रीडिंग | Lord Reading
यह भी देखे :- लॉर्ड वेलेजली | lord Wellesley

लॉर्ड रीडिंग FAQ

Q 1. रीडिंग किस परिवार में जन्में थे?

Ans रीडिंग एक साधारण यहूदी परिवार में जन्में थे.

Q 2. “प्रिन्स ऑफ वेल्स” भारत के दौरे पर कब आये थे?

Ans “प्रिन्स ऑफ वेल्स” नवम्बर 1921 में भारत के दौरे पर आये थे.

Q 3. किसके समय में गांधीजी का भारतीय राजनीती में पूर्ण रूप से प्रवेश हो चूका था?
See also  लॉर्ड वेलेजली | lord Wellesley

Ans रीडिंग के समय में गांधीजी का भारतीय राजनीती में पूर्ण रूप से प्रवेश हो चूका था.

Q 4. किस काण्ड के बाद असहयोग आंदोलन वापस ले लिया गया था?

Ans चौरी-चौरा काण्ड के बाद असहयोग आंदोलन वापस ले लिया गया था.

Q 5. किसके शासनकाल में रौलेट एक्ट वापस ले लिया गया था?

Ans रीडिंग शासनकाल में रौलेट एक्ट वापस ले लिया गया था.

Q 6. रौलेट एक्ट कब वापस ले लिया गया था?

Ans 1919 ई. में रौलेट एक्ट वापस ले लिया गया था.

Q 7. केरल में “मोपला विद्रोह” कब हुआ था?

Ans केरल में 1921 ई. में “मोपला विद्रोह” हुआ था.

Q 8. “मोपला विद्रोह” किस आन्दोलन का एक रूप ही था?

Ans “मोपला विद्रोह” खिलाफत आन्दोलन का एक रूप ही था.

Q 9. चौरी-चौरा घटना कब हुई थी?

Ans चौरी-चौरा घटना 1922 ई. में हुई थी.

Q 10. दिल्ली व नागपुर विश्वविद्यालय की स्थापना कब हुई थी?

Ans रीडिंग के कार्यकाल के दौरान दिल्ली व नागपुर विश्वविद्यालय की स्थापना हुई थी.

Q 11. भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी का गठन कब व किसने किया था?

Ans M.N.रॉय द्वारा भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी का गठन दिसंबर 1925 ई. में हुआ था.

See also  लॉर्ड माउंटबेटन | Lord Mountbatten
Q 12. स्वराज पार्टी का गठन किसने व कब किया था?

Ans 1922 ई. में चितरंजन दास, नरसिंह चिंतामन व मोतीलाल नेहरु ने मिलकर स्वराज पार्टी का गठन किया था.

Q 13. लॉर्ड रीडिंग कब से कब तक भारत का वाइसराय रहा था?

Ans लॉर्ड रीडिंग 1921 ई. से 1926 ई. तक भारत का वाइसराय रहा था.

Q 14. ‘विश्व भारतीय विश्वविद्यालय’ ने कब कार्य करना आरम्भ किया था?

Ans 1922 ई. में ‘विश्व भारतीय विश्वविद्यालय’ ने कार्य करना आरम्भ किया था.

Q 15. प्रसिद्ध आर्य समाजी राष्ट्रवादी नेता ‘स्वामी सहजानंद’ की हत्या कब कर दी गई थी?

Ans दिसम्बर, 1925 ई. में प्रसिद्ध आर्य समाजी राष्ट्रवादी नेता ‘स्वामी सहजानंद’ की हत्या कर दी गई थी.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- लॉर्ड कैनिंग | lord Canning

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment