लॉर्ड मिण्टो द्वितीय | Lord Minto II

लॉर्ड मिण्टो द्वितीय | Lord Minto II | मिण्टो 1905 से 1910 ई. भारत का वाइसराय तथा गवर्नर-जनरल रहा था. ‘गिलबर्ट जॉन एलिएट मिण्टो’ इसका पूरा नाम था. 9 जुलाई, 1845 को मिन्टो द्वितीय का जन्म लन्दन, इंग्लैण्ड में हुआ था

लॉर्ड मिण्टो द्वितीय | Lord Minto II

मिण्टो 1905 से 1910 ई. भारत का वाइसराय तथा गवर्नर-जनरल रहा था. ‘गिलबर्ट जॉन एलिएट मिण्टो’ इसका पूरा नाम था. 9 जुलाई, 1845 को मिन्टो द्वितीय का जन्म लन्दन, इंग्लैण्ड में हुआ था.

वह लॉर्ड मिण्टो प्रथम का प्रपौत्र था. लॉर्ड कर्ज़न के बाद गवर्नर जनरल बना था. इसकी मृत्यु मिण्टो रॉक्सबर्ग, स्कॉटलैण्ड में 1 मार्च 1914 में हुई थी.

भारत में 1909 ई. में मिण्टो तथा उसके साथ मॉर्ले ने “मॉर्ले मिण्टो सुधार” अधिनियम पारित किया था. भारतीय प्रतिनिधित्व में इस अधिनियम से सरकार में मामूली वृद्धि की गई. भारतीय राष्ट्रवादियों ने मुसलमानों तथा हिन्दुओं के लिए अलग निर्वाचक मण्डल बनाने के कारण इसकी आलोचना की, क्योंकि उनका विश्वास था कि इससे ब्रिटिश शासन के लिए रास्ता साफ़ करने हेतु भारतीयों में दरार पैदा की जा रही है.

यह भी देखे :- लॉर्ड माउंटबेटन | Lord Mountbatten

मिण्टो अफगान युद्ध में भाग लिया तथा 1898 ई. से 1904 ई. तक कनाडा के गवर्नर-जनरल के रूप में कार्य किया था. बंगाल विभाजन के कारण उत्पन्न अनेक कठिनाइयों मिण्टो को का सामना करना पड़ा था.

लॉर्ड मिण्टो द्वितीय | Lord Minto II
लॉर्ड मिण्टो द्वितीय | Lord Minto II

इसके शासनकाल में अंग्रेजी माल का डकैतियां, बहिष्कार, हत्याएं आदि अनेक घटनाएं घटित हुई थी. इन सबका लक्ष्य देश में ब्रिटिश साम्राज्यवादियों को भयभीत करना था. आंदोलन को रोकने के लिए सरकार ने अधिनियम 1908 व 1910 को पास कर बहुत से कड़े कानुन बनाये थे.

See also  1857 ई. की महान क्रांति

लॉर्ड मिण्टो के समय की प्रमुख घटनाएं इस प्रकार थी –

  • आंग्ल-रूसी प्रतिनिधि सम्मेलन 1907 ई. में हुआ था.
  • इसके द्वारा रूस व इंग्लैण्ड के बीच के सभी मतभेद सुलझ गये थे.
  • इण्डियन कौंसिल अधिनियम 1909 ई. में स्वीकृत हुआ.
  • इस अधिनियम में विधान सभाओं के गैर-सरकारी सदस्यों के अधिकार बढ़ाने के साथ-साथ उनकी संख्या भी बढाई गई थी.
  • इसके समय में आगा खां व सलीम उल्ला खां के द्वारा 1906 ई. में ढाका में मुस्लिम लीग की स्थापना की गई थी.
  • 1907 ई. में कांग्रेस के सूरत अधिवेशन में कांग्रेस का विभाजन हो गया था.
यह भी देखे :- लॉर्ड डफरिन | Lord Dufferin

लॉर्ड मिण्टो द्वितीय FAQ

Q 1. मिण्टो कब से कब तक भारत का वाइसराय तथा गवर्नर-जनरल रहा था?

Ans मिण्टो 1905 से 1910 ई. भारत का वाइसराय तथा गवर्नर-जनरल रहा था.

See also  लॉर्ड नार्थब्रुक | Lord Northbrook
Q 2. मिण्टो का पूरा नाम क्या था?

Ans ‘गिलबर्ट जॉन एलिएट मिण्टो’ मिन्टो का पूरा नाम था.

Q 3. मिन्टो द्वितीय का जन्म कब हुआ था?

Ans 9 जुलाई, 1845 को मिन्टो द्वितीय का जन्म हुआ था.

Q 4. मिन्टो द्वितीय का जन्म कहाँ हुआ था?

Ans मिन्टो द्वितीय का जन्म लन्दन, इंग्लैण्ड में हुआ था.

Q 5. मिण्टो किसका प्रपौत्र था?

Ans मिण्टो, लॉर्ड मिण्टो प्रथम का प्रपौत्र था.

Q 6. मिण्टो किसके बाद गवर्नर जनरल बना था?

Ans मिण्टो, लॉर्ड कर्ज़न के बाद गवर्नर जनरल बना था.

Q 7. मिण्टो की मृत्यु कब हुई थी?

Ans मिण्टो की मृत्यु 1 मार्च 1914 ई. को हुई थी.

Q 8.मिण्टो की मृत्यु कहाँ हुई थी.

Ans मिण्टो की मृत्यु मिण्टो रॉक्सबर्ग, स्कॉटलैण्ड में हुई थी.

Q 9. भारत में “मॉर्ले मिण्टो सुधार” अधिनियम कब पारित किया गया था?

Ans भारत में 1909 ई. में “मॉर्ले मिण्टो सुधार” अधिनियम पारित किया गया था.

Q 10. भारत में “मॉर्ले मिण्टो सुधार” अधिनियम किसने पारित किया था?

Ans भारत में मिण्टो तथा उसके साथ मॉर्ले ने “मॉर्ले मिण्टो सुधार” अधिनियम पारित किया था.

Q 11. कनाडा के गवर्नर-जनरल के रूप में मिण्टो ने कब से कब तक कार्य किया था?
See also  बंगाल पर अंग्रेजों का आधिपत्य | British occupation of Bengal

Ans 1898 ई. से 1904 ई. तक कनाडा के गवर्नर-जनरल के रूप में मिण्टो ने कार्य किया था.

Q 12. आंदोलन को रोकने के लिए सरकार ने कौन-कौनसे अधिनियम पास कर बहुत से कड़े कानुन बनाये थे?

Ans आंदोलन को रोकने के लिए सरकार ने अधिनियम 1908 व 1910 को पास कर बहुत से कड़े कानुन बनाये थे.

Q 13. आंग्ल-रूसी प्रतिनिधि सम्मेलन कब हुआ था?

Ans आंग्ल-रूसी प्रतिनिधि सम्मेलन 1907 ई. में हुआ था.

Q 14. इण्डियन कौंसिल अधिनियम कब स्वीकृत हुआ था?

Ans इण्डियन कौंसिल अधिनियम 1909 ई. में स्वीकृत हुआ था.

Q 15. आगा खां व सलीम उल्ला खां के द्वारा ढाका में मुस्लिम लीग की स्थापना कब की गई थी?

Ans आगा खां व सलीम उल्ला खां के द्वारा 1906 ई. में ढाका में मुस्लिम लीग की स्थापना की गई थी.

यह भी देखे :- रॉबर्ट क्लाइव | Robert Clive

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.


Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment