लॉर्ड हार्डिंग द्वितीय | Lord Hardinge II

लॉर्ड हार्डिंग द्वितीय | Lord Hardinge II | लॉर्ड हार्डिंग 1910 ई. से 1916 ई. तक द्वितीय भारत का वाइसराय रहा था. हार्डिंग को लॉर्ड मिण्टो द्वितीय के बाद भारत का वाइसराय बनाकर भेजा गया था

लॉर्ड हार्डिंग द्वितीय | Lord Hardinge II

लॉर्ड हार्डिंग 1910 ई. से 1916 ई. तक द्वितीय भारत का वाइसराय रहा था. हार्डिंग को लॉर्ड मिण्टो द्वितीय के बाद भारत का वाइसराय बनाकर भेजा गया था. हार्डिंग के काल 4 अगस्त, 1914 ई. को ही ‘प्रथम विश्वयुद्ध’ आरंभ हुआ था.

यह भी देखे :- लॉर्ड वेवेल | Lord Wavell

इसी के समय में 1913 ई. में गणेश शंकर विद्यार्थी ने ‘प्रताप’ तथा फ़िरोजशाह मेहता ने ‘बाम्बे क्रानिकल’ का प्रकाशन किया था. हार्डिंग द्वितीय के काल में ही तिलक व एनी बेसेन्ट ने होमरूल लीग की स्थापना क्रमशः अप्रैल व सितम्बर 1915 ई. में की थी.

भारत आने से पूर्व हार्डिंग को प्रशासनिक कार्य का विशेष तजुर्बा नहीं था, परन्तु कूटनीति के क्षेत्र में हार्डिंग का तजुर्बा बहुत अधिक था. भारतीय आकांक्षाओं से हार्डिंग अत्यंत सहानुभूतिशीत था.

अपने किए गए कार्यों के कारण उससे भारतीयों का विश्वास प्राप्त था.

हार्डिंग के समय के महत्वपूर्ण कार्य निम्न थे :- ब्रिटेन के राजा जार्ज पंचम का भारत आना व दिल्ली में 12 दिसम्बर, 1911 को एक भव्य दरबार का आयोजन. इस दरबार आयोजन को ‘दिल्ली-दरबार‘ के नाम से जाना जाता है.

यह भी देखे :- लॉर्ड चेम्सफोर्ड | Lord Chelmsford
  • इसी के समय भारत की राजधानी को कलकत्ता से दिल्ली स्थानान्तरित करने की घोषणा व बंगाल विभाजन को रद्द किया गया था.
  • दिल्ली में प्रवेश करते समय 23 दिसम्बर, 1912 को लॉर्ड हार्डिग पर बम फेका गया जिसमें वे घायल हो गए, परन्तु इसके बाद भी भारतीयों के प्रति इनका व्यवहार पूर्व की तरह बना रहा था.
  • सितम्बर, 1914 में प्रथम महायुद्ध शुरू हुआ था जिसमें भारतीयों ने बिना किसी शर्त के इंग्लैंड को मदद प्रदान की.
  • लॉर्ड हार्डिंग का शासन समय काफी लोकप्रिय रहा.
  • लॉर्ड हार्डिंग को 1916 ई. में बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय का कुलाधिपति नियुक्त किया गया.
लॉर्ड हार्डिंग द्वितीय | Lord Hardinge II
लॉर्ड हार्डिंग द्वितीय | Lord Hardinge II
यह भी देखे :- लॉर्ड कैनिंग | lord Canning

लॉर्ड हार्डिंग द्वितीय FAQ

Q 1. लॉर्ड हार्डिंग कब से कब तक द्वितीय भारत का वाइसराय रहा था?

Ans लॉर्ड हार्डिंग 1910 ई. से 1916 ई. तक द्वितीय भारत का वाइसराय रहा था.

Q 2. हार्डिंग को किसके बाद भारत का वाइसराय बनाकर भेजा गया था?

Ans हार्डिंग को लॉर्ड मिण्टो द्वितीय के बाद भारत का वाइसराय बनाकर भेजा गया था.

Q 3. ‘प्रथम विश्वयुद्ध’ कब आरंभ हुआ था?

Ans 4 अगस्त, 1914 ई. को ही ‘प्रथम विश्वयुद्ध’ आरंभ हुआ था.

Q 4. किस वायसराय के शासनकाल में ‘प्रथम विश्वयुद्ध’ आरंभ हुआ था?

Ans हार्डिंग के काल ‘प्रथम विश्वयुद्ध’ आरंभ हुआ था.

Q 5. ‘प्रताप’ का प्रकाशन किसने करवाया था?

Ans गणेश शंकर विद्यार्थी ने ‘प्रताप’ का प्रकाशन करवाया था.

Q 6. ‘बाम्बे क्रानिकल’ का प्रकाशन किसने किया था?

Ans फ़िरोजशाह मेहता ने ‘बाम्बे क्रानिकल’ का प्रकाशन किया था.

Q 7. किसके काल में तिलक व एनी बेसेन्ट ने होमरूल लीग की स्थापना की थी?

Ans हार्डिंग द्वितीय के काल में ही तिलक व एनी बेसेन्ट ने होमरूल लीग की स्थापना की थी.

Q 8. तिलक व एनी बेसेन्ट ने होमरूल लीग की स्थापना कब की थी?

Ans तिलक व एनी बेसेन्ट ने होमरूल लीग की स्थापना क्रमशः अप्रैल व सितम्बर 1915 ई. में की थी.

Q 9. हार्डिंग के समय के महत्वपूर्ण कार्य कौन-कौनसे थे?

Ans हार्डिंग के समय के महत्वपूर्ण कार्य निम्न थे :- ब्रिटेन के राजा जार्ज पंचम का भारत आना व दिल्ली में 12 दिसम्बर, 1911 को एक भव्य दरबार का आयोजन.

Q 10. दरबार आयोजन को किस नाम से जाना जाता है?

Ans दरबार आयोजन को ‘दिल्ली-दरबार‘ के नाम से जाना जाता है.

Q 11. किसके समय भारत की राजधानी को कलकत्ता से दिल्ली स्थानान्तरित करने की घोषणा व बंगाल विभाजन को रद्द किया गया था?

Ans हार्डिंग के समय भारत की राजधानी को कलकत्ता से दिल्ली स्थानान्तरित करने की घोषणा व बंगाल विभाजन को रद्द किया गया था.

Q 12. लॉर्ड हार्डिग पर बम कब फेका गया था?

Ans दिल्ली में प्रवेश करते समय 23 दिसम्बर, 1912 को लॉर्ड हार्डिग पर बम फेका गया था.

Q 13. प्रथम महायुद्ध कब शुरू हुआ था?

Ans सितम्बर, 1914 में प्रथम महायुद्ध शुरू हुआ था.

Q 14. बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय का कुलाधिपति किसे नियुक्त किया गया था?

Ans हार्डिंग द्वितीय को बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय का कुलाधिपति नियुक्त किया गया था.

Q 15. बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय का कुलाधिपति कब नियुक्त किया गया था?

Ans 1916 ई. में बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय का कुलाधिपति नियुक्त किया गया था.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.


Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published.