खिलजी वंश की शासन व्यवस्था | Khilji dynasty rule

खिलजी वंश की शासन व्यवस्था | Khilji dynasty rule | अलाउद्दीन ने भू-राजस्व की दर को बढाकर उपज का 1/2 भाग कर दिय था. इसने खम्स [लूट का धन] में सुल्तान का हिस्सा 1/4 भाग से बढाकर 3/4 भाग कर दिया था

खिलजी वंश की शासन व्यवस्था | Khilji dynasty rule

इसने व्यापारियों की बेईमानी को रोकने के लिए कम तौलने वाले व्यक्ति के शारीर से मांस काट लेने का आदेश दे दिया था.

यह भी देखे :- खिलजी वंश के शासक | Rulers of Khilji Dynasty

बाजार नियंत्रण के लिए अलाउद्दीन खिलजी द्वारा बनाए जाने वाले नवीन पद :-

  • दीवान-ए-रियासत :- यह व्यापारियों पर नियंत्रण रखता था. यह बाजार नियंत्रण की पूरी व्यवस्था का संचालन करता था.
  • शहना-ए-मंडी :- प्रत्येक बाजार में बाजार का अधीक्षक.
  • बरीद :- बाजार के अन्दर घूमकर बाजार का निरक्षण करता था.
  • मुनहियान व गुप्तचर :- गुप्त सूचना प्राप्त करता था.

दक्षिण भारत की विजय के लिए अलाउद्दीन ने मलिक काफूर को भेजा था. जमैयत खाना मस्जिद, अलाई दरवाजा, सीरी का किला व हजार खम्भा महल का निर्माण अलाउद्दीन ने करवाया था. अलाई दरवाजा को इस्लामी वास्तुकला का रत्न कहा जाता है.

खिलजी वंश की शासन व्यवस्था | Khilji dynasty rule
खिलजी वंश की शासन व्यवस्था | Khilji dynasty rule

दैवी अधिकार के सिद्धांत को अलाउद्दीन ने चलाया था. सिकंदर-ए-सानी की उपाधि से अलाउद्दीन ने स्वयं को विभूषित किया था. अलाउद्दीन ने मलिक याकूब को दीवान-ए-रियासत नियुक्त किया था. अलाउद्दीन द्वारा नियुक्त परवाना-नवीस नामक अधिकारी वस्तुओं की परमिट जारी करता था.

यह भी देखे :- अकबर का शासन काल part 3 | Akbar’s reign
  • शहना-ए-मंडी : – यहाँ खाद्यानों को बिक्री के लिए लाया जाता था.
  • सराए-ए-अदल :- यहाँ वस्त्र, शक्कर जड़ी-बूटी, मेवा, दीपक का तेल व अन्य निर्मित वस्तुएं बिकने के लिए आती थी.

अलाउद्दीन खिलजी की आर्थिक निति की व्यापक जानकारी जियाउद्दीन बरनी की कृति तारीखे फीरोजशाही से मिलती है. मूल्य नियंत्रण को सफल बनाने में मुहतसिब व नाजिर की महत्वपूर्ण भूमिका थी.

राजस्व सुधारों के अंतर्गत अलाउद्दीन ने सर्वप्रथम मिल्क, इनाम व वक्फ के अंतर्गत दी गई भूमि को वापस लेकर खालसा में बदल दिया था.

यह भी देखे :- अकबर का शासन काल part 1 | Akbar’s reign

खिलजी वंश की शासन व्यवस्था FAQ

Q 1. अलाउद्दीन ने भू-राजस्व की दर को बढाकर उपज का कितना भाग कर दिय था?

Ans अलाउद्दीन ने भू-राजस्व की दर को बढाकर उपज का 1/2 भाग कर दिय था.

Q 2. अलाउद्दीन ने खम्स [लूट का धन] में सुल्तान का हिस्सा 1/4 भाग से बढाकर कितना भाग कर दिया था?

Ans खम्स [लूट का धन] में सुल्तान का हिस्सा 1/4 भाग से बढाकर 3/4 भाग कर दिया था.

Q 3. व्यापारियों की बेईमानी को रोकने के लिए अलाउद्दीन ने आदेश दे दिया था?

Ans व्यापारियों की बेईमानी को रोकने के लिए कम तौलने वाले व्यक्ति के शारीर से मांस काट लेने का आदेश दे दिया था.

Q 4. दीवान-ए-रियासत का क्या कार्य था?

Ans दीवान-ए-रियासत :- यह व्यापारियों पर नियंत्रण रखता था. यह बाजार नियंत्रण की पूरी व्यवस्था का संचालन करता था.

Q 5. शहना-ए-मंडी क्या था?

Ans शहना-ए-मंडी :- प्रत्येक बाजार में बाजार का अधीक्षक.

Q 6. बरीद क्या कार्य करता था?

Ans बरीद :- बाजार के अन्दर घूमकर बाजार का निरक्षण करता था.

Q 7. मुनहियान व गुप्तचर का क्या कार्य था?

Ans मुनहियान व गुप्तचर :- गुप्त सूचना प्राप्त करता था.

Q 8. दक्षिण भारत की विजय के लिए अलाउद्दीन ने किसको भेजा था?

Ans दक्षिण भारत की विजय के लिए अलाउद्दीन ने मलिक काफूर को भेजा था.

Q 9. जमैयत खाना मस्जिद, अलाई दरवाजा, सीरी का किला व हजार खम्भा महल का निर्माण किसने करवाया था?

Ans जमैयत खाना मस्जिद, अलाई दरवाजा, सीरी का किला व हजार खम्भा महल का निर्माण अलाउद्दीन ने करवाया था.

Q 10. इस्लामी वास्तुकला का रत्न किसे कहा जाता है?

Ans अलाई दरवाजा को इस्लामी वास्तुकला का रत्न कहा जाता है.

Q 11. दैवी अधिकार के सिद्धांत को किसने चलाया था?

Ans दैवी अधिकार के सिद्धांत को अलाउद्दीन ने चलाया था.

Q 12. किस उपाधि से अलाउद्दीन ने स्वयं को विभूषित किया था?

Ans सिकंदर-ए-सानी की उपाधि से अलाउद्दीन ने स्वयं को विभूषित किया था.

Q 13. अलाउद्दीन ने किसको दीवान-ए-रियासत नियुक्त किया था?

Ans अलाउद्दीन ने मलिक याकूब को दीवान-ए-रियासत नियुक्त किया था.

Q 14. अलाउद्दीन खिलजी की आर्थिक निति की व्यापक जानकारी किसमें मिलती है?

Ans अलाउद्दीन खिलजी की आर्थिक निति की व्यापक जानकारी जियाउद्दीन बरनी की कृति तारीखे फीरोजशाही से मिलती है.

Q 15. मूल्य नियंत्रण को सफल बनाने में किन-किन की महत्वपूर्ण भूमिका थी?

Ans मूल्य नियंत्रण को सफल बनाने में मुहतसिब व नाजिर की महत्वपूर्ण भूमिका थी.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- अकबर का शासन काल part 1 | Akbar’s reign

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *