केसरीसिंह बारहठ | Kesari Singh Barath

केसरीसिंह बारहठ | Kesari Singh Barath | राजस्थान के प्रसिद्द कवी व क्रांतिकारी केसरी सिंह जन्मभूमि शाहपुरा व कर्मभूमि कोटा थी. इनका जन्म 1872 ई. में शाहपुरा रियासत के “देवपुरा” नामक गाँव में हुआ था.

केसरीसिंह बारहठ | Kesari Singh Barath

राजस्थान के प्रसिद्द कवी व क्रांतिकारी केसरीसिंह बारहठ की जन्मभूमि शाहपुरा व कर्मभूमि कोटा थी. इनका जन्म 1872 ई. में शाहपुरा रियासत के “देवपुरा” नामक गाँव में हुआ था.

सन 1903 ई. में कर्जन द्वारा आहूत दिल्ली के दरबार में सम्मलित होने से रोकने के लिए उन्होंने उदयपुर के महाराणा फ़तेह सिंह को संबोधित करते हुए “चेतावनी रा चूंगट्या” नामक तेरह सौरठे लिखे जो उनकी अंग्रेजों के विरुद्ध भावना की स्पष्ट अभिव्यक्ति थी.

यह भी देखे :- लॉर्ड वेवेल | Lord Wavell

ब्रिटिश सरकार की गुप्त रिपोर्टों में राजपुताना में विप्लव फ़ैलाने के लिए किसरी सिंह व अर्जुन लाल सेठी को खास जिम्मेदार माना गया था. उन्होंने राजस्थान के सभी वर्गों को क्रांतिकारी गतिविधियों से जोड़ने के लिए 1910 ई. में “वीर भारत सभा” की स्थापना की थी.

केसरीसिंह बारहठ | Kesari Singh Barath
केसरीसिंह बारहठ | Kesari Singh Barath

राजस्थान में सशस्त्र क्रांति का संचालन किया तथा स्वतंत्रता की आग में अपने पूरे परिवार को झोंक दिया था. श्री बारहठ ने अपने सहोदर जोरावर सिंह, पुत्र प्रतापसिंह व जमाता ईश्वरदान आसिया को रासबिहारी बोस के सहयक मास्टर अमीरचंद्र की सेवा में क्रांति का व्यावहारिक अनुभव व प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए भेज दिया गया था.

See also  मध्यकालीन पशुपालक जातियां

देश की स्वतंत्रता के लिए अपना सब कुछ न्यौछावर करने वाले क्रांतिकारी कवि केसरी सिंह ने अगस्त 1941 ई. में अंतिम सांस ली थी.

यह भी देखे :- 1857 ई. की महान क्रांति

केसरीसिंह बारहठ FAQ

Q 1. राजस्थान के प्रसिद्द कवि व क्रांतिकारी केसरी सिंह जन्मभूमि कहाँ थी?

Ans राजस्थान के प्रसिद्द कवि व क्रांतिकारी केसरी सिंह जन्मभूमि शाहपुरा थी.

Q 2. राजस्थान के प्रसिद्द कवि व क्रांतिकारी केसरी सिंह की कर्मभूमि कहाँ थी?

Ans राजस्थान के प्रसिद्द कवि व क्रांतिकारी केसरी सिंह की कर्मभूमि कोटा थी.

Q 3. केसरी सिंह का जन्म कब हुआ था?

Ans केसरी सिंह का जन्म 1872 ई. में हुआ था.

Q 4. केसरी सिंहका जन्म किस रियासत में हुआ था?

Ans केसरी सिंह का जन्म शाहपुरा रियासत में हुआ था.

Q 5. केसरी सिंह का जन्म किस गाँव में हुआ था?

Ans केसरी सिंह का जन्म “देवपुरा” नामक गाँव में हुआ था.

Q 6. कर्जन द्वारा आहूत दिल्ली के दरबार का आयोजन कब किया गया था?

Ans सन 1903 ई. में कर्जन द्वारा आहूत दिल्ली के दरबार का आयोजन किया गया था.

See also  अलाउद्दीन खिलजी का प्रथम जालौर अभियान : सिवाना दुर्ग का पतन
Q 7. दिल्ली के दरबार में सम्मलित होने से रोकने के लिए उन्होंने उदयपुर के महाराणा फ़तेह सिंह को संबोधित करते हुए क्या लिखे थे?

Ans दिल्ली के दरबार में सम्मलित होने से रोकने के लिए उन्होंने उदयपुर के महाराणा फ़तेह सिंह को संबोधित करते हुए “चेतावनी रा चूंगट्या” नामक सौरठे लिखे थे.

Q 8. “चेतावनी रा चूंगट्या” नामक कितने सौरठे केसरी सिंह ने कितने लिखे थे?

Ans “चेतावनी रा चूंगट्या ” नामक केसरी सिंह ने तेरह सौरठे लिखे थे.

Q 9. ब्रिटिश सरकार की गुप्त रिपोर्टों में राजपुताना में विप्लव फ़ैलाने के लिए किन-किन को खास जिम्मेदार माना गया था?

Ans ब्रिटिश सरकार की गुप्त रिपोर्टों में राजपुताना में विप्लव फ़ैलाने के लिए किसरी सिंह व अर्जुन लाल सेठी को खास जिम्मेदार माना गया था.

Q 10. “वीर भारत सभा” की स्थापना किसने की थी?

Ans केसरी सिंह ने “वीर भारत सभा” की स्थापना की थी.

Q 11. “वीर भारत सभा” की स्थापना का मुख्य उद्देश्य क्या था?

Ans राजस्थान के सभी वर्गों को क्रांतिकारी गतिविधियों से जोड़ना “वीर भारत सभा” की स्थापना का मुख्य उद्देश्य था.

Q 13. केसरी सिंह के पुत्र का नाम क्या था?

Ans केसरी सिंह के पुत्र का नाम प्रताप सिंह था.

Q 14. श्री बारहठ ने अपने सहोदर जोरावर सिंह, पुत्र प्रतापसिंह व जमाता ईश्वरदान आसिया को क्रांति का व्यावहारिक अनुभव व प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए कहाँ भेज दिया था?

Ans श्री बारहठ ने अपने सहोदर जोरावर सिंह, पुत्र प्रतापसिंह व जमाता ईश्वरदान आसिया को रासबिहारी बोस के सहयक मास्टर अमीरचंद्र की सेवा में क्रांति का व्यावहारिक अनुभव व प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए भेज दिया गया था.

Q 15. देश की स्वतंत्रता के लिए अपना सब कुछ न्यौछावर करने वाले क्रांतिकारी कवि केसरी सिंह ने अंतिम सांस कब ली थी?

Ans देश की स्वतंत्रता के लिए अपना सब कुछ न्यौछावर करने वाले क्रांतिकारी कवि केसरी सिंह ने अगस्त 1941 ई. में अंतिम सांस ली थी.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- लॉर्ड कैनिंग | lord Canning

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment