जौहर प्रथा

जौहर प्रथा | यह पुराने समय में भारत में राजपूत स्त्रियों द्वारा की जाने वाली प्रथा थी. इस क्रिया में राजपूत स्त्रियाँ जौहर कुंड में आग लगाकर स्वयं का बलिदान कर देती थी

जौहर प्रथा

यह पुराने समय में भारत में राजपूत स्त्रियों द्वारा की जाने वाली प्रथा थी. इस क्रिया में राजपूत स्त्रियाँ जौहर कुंड में आग लगाकर स्वयं का बलिदान कर देती थी. जौहर क्रिया की सबसे अधिक घटनाएँ भारत पर मुग़ल आदि बाहरी आक्रमणकारियों के समय में हुई थी.

यह भी देखे :- मध्यकालीन सेवक जातियाँ
जौहर प्रथा
जौहर क्रिया
यह भी देखे :- मध्यकालीन कृषक जातियां

यह मुस्लिम आक्रमणकारी हमला करने के बाद हराकर स्त्रियों को लूटकर उनका शीलभंग करते थे. इसलिए स्त्रियाँ हार निश्चित हो जाने पर जौहर कर लेती थी. इतिहास में जौहर के अनेक उदहारण मिलते है.

जब शत्रुओं के आक्रमण के समय राजपूत योद्धाओं के युद्ध से जीवित लौटने की कोई आशा नहीं रहती थी और न उनके दुर्ग का दुश्मन के हाथ से बचना सम्भव होता था, तो उस दशा में किले की स्त्रियों द्वारा सामूहिक रूप से अपने धर्म एवं आत्मसम्मान की रक्षा के लिए ‘अग्निदाह’ करने की प्रथा जौहर कहलाती थी।

यह भी देखे :- मध्यकालीन पशुपालक जातियां

जौहर प्रथा FAQ

Q 1. जौहर क्रिया किसके द्वारा की जाती थी?

Ans – जौहर क्रिया राजपूत स्त्रियों द्वारा की जाती थी.

Q 2. जौहर क्रिया की सबसे अधिक घटनाएँ कब हुई थी?

Ans – जौहर क्रिया की सबसे अधिक घटनाएँ भारत पर मुग़ल आदि बाहरी आक्रमणकारियों के समय में हुई थी.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- मध्यकालीन सामाजिक परिवर्तन व विशिष्ट जातियां

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published.