जैत्रसिंह

जैत्रसिंह | कुमारसिंह का वंशज जैत्रसिंह बड़ा प्रतापी शासक हुआ। जैत्र सिंह के समय दिल्ली के सुल्तान इल्तुतमिश का नागदा पर आक्रमण हुआ

जैत्रसिंह

कुमारसिंह का वंशज जैत्रसिंह (1213-1253 ई.) बड़ा प्रतापी शासक हुआ। जैत्र सिंह के समय दिल्ली के सुल्तान इल्तुतमिश का नागदा पर आक्रमण हुआ। संभवतः इल्तुतमिश ने 1222 ई. से 1229 के मध्य मेवाड़ पर आक्रमण किया।

यह भी देखे :- बप्पा रावल 

जयसिंह सूरि के हम्मीरमदमदन के अनुसार गुजरात के शासक वीरधवल के भय से इल्तुतमिश की सेनाएं भाग खड़ी हुई जबकि ओझा के अनुसार जैत्रसिंह ने इल्तुतमिश को परास्त कर पीछे धकेल दिया। लेकिन घमासान युद्ध के कारण नागदा को भारी क्षति पहुंची। इसीलिए जैत्रसिंह ने अपनी राजधानी नागदा से चित्तौड़ स्थानांतरित की।

कर्नल टॉड ने 1231 ई. में इल्तुतमिश की सेना को नागौर के पास युद्ध में परास्त होना बताया है। चीरवा तथा धाधसे के शिलालेख में इस आक्रमण की उपलब्धियों के संबंध में यह लिखा है कि म्लेच्छों का स्वामी भी जैत्रसिंह का मानमर्दन न कर सका। इस उल्लेख की पुष्टि समरसिंह के आबू के शिलालेख से होती है।

जैत्रसिंह
जैत्रसिंह
यह भी देखे :- गुहिल राजवंश

जैत्रसिंह का अंतिम समय

जैत्र सिंह के अन्तिम काल के लगभग 1248 ई. में दिल्ली के सुल्तान नासिरूद्दीन महमूद ने मेवाड़ पर आक्रमण कर दिया। परंतु जलालुद्दीन अपने प्राणों के भय के कारण चित्तौड़ के आस-पास जा छिपा। सुल्तान-नासिरुद्दीन उसको पकड़ने में सफल नहीं पाया तो पुनः दिल्ली लौट गया।

इस अभियान के दौरान जैत्र सिंह ने सुल्तान के मार्ग में कई कठिनाईयां उपस्थित की थी। इस आक्रमण का कारण फरिश्ता के अनुसार यह था कि सुल्तान ने अपने भाई जलालुद्दीन को कन्नौज से दिल्ली बुलाया।

डॉ. ओझा ने जैत्रसिंह की प्रशंसा में लिखा है कि ‘दिल्ली के गुलाम सुल्तानों के समय में मेवाड़ के राजाओं में सबसे प्रतापी और बलवान राजा जैत्रसिंह ही हुआ, जिसकी वीरता की प्रशंसा उसके विपक्षियों ने भी की है।

यह भी देखे :- यशपाल : गुर्जर-प्रतिहार वंश

जैत्रसिंह FAQ

Q 1. जैत्रसिंह किसका वंशज था?

Ans – जैत्रसिंह, कुमारसिंह का वंशज था.

Q 2. इल्तुतमिश ने मेवाड़ पर आक्रमण कब किया था?

Ans – इल्तुतमिश ने 1222 ई. से 1229 के मध्य मेवाड़ पर आक्रमण किया था.

Q 3. कर्नल टॉड ने इल्तुतमिश की सेना को कब परास्त होना बताया है?

Ans – कर्नल टॉड ने 1231 ई. में इल्तुतमिश की सेना को परास्त होना बताया है.

Q 4. कर्नल टॉड ने इल्तुतमिश की सेना को कहाँ युद्ध में परास्त होना बताया है?

Ans – कर्नल टॉड ने इल्तुतमिश की सेना को नागौर के पास युद्ध में परास्त होना बताया है.

Q 5. दिल्ली के सुल्तान नासिरूद्दीन महमूद ने मेवाड़ पर आक्रमण कब किया था?

Ans – दिल्ली के सुल्तान नासिरूद्दीन महमूद ने 1248 ई. में मेवाड़ पर आक्रमण किया था.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- त्रिलोचनपाल : गुर्जर-प्रतिहार वंश

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *