मुगल शासक हुमायूँ | Humayun Mughal Ruler

मुगल शासक हुमायूँ | Humayun Mughal Ruler | नसीरुद्दीन हुमायूँ 29 दिसंबर 1530 ई. को आगरा में 23 वर्ष की आयु में सिंहासन पर बैठा था. गद्दी पर बैठने से पहले हुमायूँ बदख्शां का सूबेदार था.

मुगल शासक हुमायूँ | Humayun Mughal Ruler

अपने पिता के निर्देशनुसार हुमायूँ ने अपने राज्य का बटवारा अपने बहियों में कर दिया था. इसने कामरान को काबुल और कंधार, मिर्जा असकरी को संभल, मिर्जा हिंदाल को अलवर व मेवाड़ की जागीरे दीं थी. अपने चचेरे भाई सुलेमान मिर्जा को हुमायूँ ने बदख्शां प्रदेश दिया था.

यह भी देखे :- मुगल साम्राज्य | Mughal Empire

1533 ई. में हुमायूँ ने दीनपनाह नामक नगर की स्थापना की थी. चौसा का युद्ध 25 जून 1539 ई. में शेर खां व हुमायु के मध्य हुआ था. इस युद्ध में शेर खां विजयी था. इसी युद्ध के बाद शेर खां ने शेरशाह की उपाधि धारण की थी.

बिलग्राम युद्ध 17 मई 1540 ई. में शेर खां व हुमायूँ के मध्य हुआ था. इस युद्ध में भी हुमायूँ पराजित हुआ था. शेर खां ने आसानी से दिल्ली व आगरा पर अधिकार कर लिया था.

मुगल शासक हुमायूँ | Humayun Mughal Ruler
मुगल शासक हुमायूँ | Humayun

बिलग्राम युद्ध के बाद हुमायूँ सिंध चला गया था. जहाँ उसने 15 वर्षों तक घुमक्कड़ों जैसा जीवन व्यतीत किया था. निर्वासन के समय हुमायूँ ने हिंदाल के आध्यात्मिक गुरु फारसवासी शिया मीर बाबा दोस्त उर्फ़ मीर अली अकबर जामी की पुत्री हमीदा बानू बेगम से 29 अगस्त 1541 ई. को निकाह कर लिया. कालांतर में हमीदा से ही अकबर जैसा महान सम्राट का जन्म हुआ था.

यह भी देखे :- सैय्यद राजवंश | Sayyid Dynasty

1555 ई. में हुमायूँ ने पंजाब के शुरी शासक सिकंदर को पराजित कर पुनः दिल्ली की गद्दी पर बैठा था. हुमायूँ द्वारा लड़े गए प्रमुख चार युद्ध का क्रम निम्न है :- देवरा [1531 ई], चौसा [1539़ ई.], बिलग्राम [1540 ई.], सरहिंद का युद्ध [1555 ई.].

1 जनवरी 1556 ई. को दींन पनाह भवन में स्थित पुस्तकालय की सीढ़ियों से गिरने के कारण हुमायूँ की मृत्यु हो गई थी. हुमायूँ के बारें में इतिहासकार लेनपूल ने कहा है की हुमायूँ गिरते-पड़ते इस जीवन से मुक्त हो गया ठीक उसी तरह जिस तरह वह तमाम जिंदगी गिरते-पड़ते चलता रहा था.

हुमायूँनामा की रचना गुल-बदन बेगम ने की थी. हुमायूँ ज्योतिष में विश्वास करता था, इसलिए सप्ताह के सातों दिन सात रंग के कपडे पहनने के नियम बनाए थे.

यह भी देखे :- महमूद गजनी के भारत पर आक्रमण

मुगल शासक हुमायूँ FAQ

Q 1. नसीरुद्दीन हुमायूँ आगरा के सिंहासन पर कब बैठा था?

Ans नसीरुद्दीन हुमायूँ 29 दिसंबर 1530 ई. को आगरा सिंहासन पर बैठा था

Q 2. नसीरुद्दीन हुमायूँ कितने वर्ष की आयु में सिंहासन पर बैठा था?

Ans नसीरुद्दीन हुमायूँ 23 वर्ष की आयु में सिंहासन पर बैठा था.

Q 3. गद्दी पर बैठने से पहले हुमायूँ कहाँ का सूबेदार था?

Ans गद्दी पर बैठने से पहले हुमायूँ बदख्शां का सूबेदार था.

Q 4. कामरान को हुमायु ने कहाँ की जागीर प्रदान की थी?

Ans कामरान को हुमायु ने काबुल और कंधार की जागीर प्रदान की थी.

Q 5. मिर्जा असकरी को हुमायु ने कहाँ की जागीर प्रदान की थी?

Ans मिर्जा असकरी को हुमायु ने संभल की जागीर प्रदान की थी.

Q 6. मिर्जा हिंदाल को हुमायु ने कहाँ की जागीर प्रदान की थी?

Ans मिर्जा हिंदाल को हुमायु ने अलवर व मेवाड़ की जागीरे दीं थी.

Q 7. हुमायु ने अपने चचेरे भाई सुलेमान मिर्जा को कौनसा प्रदेश दिया था?

Ans हुमायु ने अपने चचेरे भाई सुलेमान मिर्जा को बदख्शां प्रदेश दिया था.

Q 8. दीनपनाह नामक नगर की स्थापना किसने की थी?

Ans हुमायूँ ने दीनपनाह नामक नगर की स्थापना की थी.

Q 9. दीनपनाह नामक नगर की स्थापना कब हुई थी?

Ans 1533 ई. में दीनपनाह नामक नगर की स्थापना की थी.

Q 10. चौसा का युद्ध कब हुआ था?

Ans चौसा का युद्ध 25 जून 1539 ई. में हुआ था.

Q 11. चौसा का युद्ध किन-किन के मध्य हुआ था?

Ans चौसा का युद्ध शेर खां व हुमायु के मध्य हुआ था.

Q 12. किस युद्ध के बाद शेर खां ने शेरशाह की उपाधि धारण की थी?

Ans चौसा के युद्ध के बाद शेर खां ने शेरशाह की उपाधि धारण की थी.

Q 13. हुमायूँ की मृत्यु कब हो गई थी?

Ans 1 जनवरी 1556 ई. को हुमायूँ की मृत्यु हो गई थी.

Q 14. हुमायूँ की मृत्यु कहाँ हुई थी?

Ans दींन पनाह भवन में स्थित पुस्तकालय की सीढ़ियों से गिरने के कारण हुमायूँ की मृत्यु हो गई थी.

Q 15. हुमायूँनामा की रचना किसने की थी?

Ans हुमायूँनामा की रचना गुल-बदन बेगम ने की थी.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- सूफी आन्दोलन | Sufi Movement

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *