उत्तराखंड का इतिहास | History of Uttarakhand

उत्तराखंड का इतिहास | History of Uttarakhand | राज्य का इतिहास पौराणिक है. उत्तराखंड का शाब्दिक अर्थ “उत्तरी भू-भाग का रूपांतर” है. इस नाम का उल्लेख प्रारंभिक हिन्दू ग्रंथों में मिलता है

उत्तराखंड का इतिहास | History of Uttarakhand

राज्य का इतिहास पौराणिक है. उत्तराखंड का शाब्दिक अर्थ “उत्तरी भू-भाग का रूपांतर” है. इस नाम का उल्लेख प्रारंभिक हिन्दू ग्रंथों में मिलता है, यहाँ पर केदारखंड तथा मानसखंड में रूप में इसका वर्णन किया गया है.

राज्य की सीमाएं उत्तर में तिब्बत तथा पूर्व में नेपाल से लगी है. राज्य में हिन्दू धर्म की पवित्र तथा भारत की सबसे बड़ी नदियाँ गंगा तथा यमुना के उद्गम स्थल क्रमशः गंगोत्री तथा यमुनोत्री तथा इनके तटों पर बसे वैदिक संस्कृति के कई महत्वपूर्ण स्थान है. देहरादून उत्तराखंड की राजधानी तथा राज्य का सबसे बड़ा शहर है. राज्य का उच्चन्यायालय नैनीताल में स्थित है.

यह भी देखे :- सिक्किम का इतिहास

तिहास

ऐतिहासिक वर्णनों के अनुसार केदार कई गढ़ों में विभक्त था. इन गढ़ों के अलग-अलग राज्य थे तथा इनका अपना-अपना आधिपत्य भी था. इतिहासकारों के अनुसार पंवार वंश के शासकों ने अपने अधीन एकीकृत गढ़वाल राज्य की स्थापना की तथा श्रीनगर को अपनी राजधानी बनाया था.

See also  देहरादून जिला

महाराजा गढ़वाल ने नेपाल की गोरखा सेना के आधिपत्य से राज्य को मुक्त करवाने के लिए अंग्रेजों से सहायता मांगी. अंग्रेज सेना ने नेपाल की गोरखा सेना को देहरादून के निकट 1815 ई. को अंतिम रूप से परास्त कर दिया था.

उत्तराखंड का इतिहास | History of Uttarakhand
उत्तराखंड का इतिहास | History of Uttarakhand

भारतीय गणतंत्र में टिहरी राज्य का विलय 1949 ई. में हुआ तथा टिहरी को तत्कालीन संयुक्त प्रान्त {उत्तर प्रदेश} का एक जिला बनाया गया था. एक नए राज्य के रूप में उत्तर प्रदेश के पुनर्गठन के परिणामस्वरूप उत्तराखंड की स्थापना 9 नवम्बर 2000 को हुई थी. 9 नवम्बर को उत्तराखंड दिवस के रूप में मनाया जाता है.

यह भी देखे :- पश्चिम बंगाल का इतिहास

1969 ई. तक देहरादून को छोड़कर उत्तराखंड के सभी जिले कमाऊं मंडल के अधीन थे. 1 जनवरी 2007 ई. को राज्य का नाम उत्तरांचल का नाम बदलकर “उत्तराखंड कर दिया गया था.

  1. उत्तराखंड की राजधानी देहरादून है.
  2. उत्तराखंड का सबसे बड़ा शहर देहरादून है.
  3. उत्तराखंड की जनसँख्या 10,086,292 है.
  4. उत्तराखंड का क्षेत्रफल 53,483 किमी² है.
  5. उत्तराखंड में 13 जिले है.
  6. उत्तराखंड की राजभाषा हिंदी तथा संस्कृत है.
  7. उत्तराखंड में विधानसभा सदस्य संख्या 71 है.
यह भी देखे :- त्रिपुरा का इतिहास

उत्तराखंड का इतिहास FAQ

Q 2. राज्य का उच्चन्यायालय कहाँ स्थित है?

Ans राज्य का उच्चन्यायालय नैनीताल में स्थित है.

Q 3. अंग्रेज सेना ने नेपाल की गोरखा सेना को कब पराजित किया था?

Ans अंग्रेज सेना ने नेपाल की गोरखा सेना को 1815 ई. को परास्त किया था.

Q 4. अंग्रेज सेना ने नेपाल की गोरखा सेना को कहाँ परास्त कर दिया था?

Ans अंग्रेज सेना ने नेपाल की गोरखा सेना को देहरादून के निकट अंतिम रूप से परास्त कर दिया था.

Q 5. भारतीय गणतंत्र में टिहरी राज्य का विलय कब हुआ था?

Ans भारतीय गणतंत्र में टिहरी राज्य का विलय 1949 ई. में हुआ था.

Q 6. उत्तराखंड की स्थापना कब हुई थी?

Ans उत्तराखंड की स्थापना 9 नवम्बर 2000 को हुई थी.

Q 8. राज्य का नाम उत्तरांचल का नाम बदलकर “उत्तराखंड कब कर दिया गया था?

Ans 1 जनवरी 2007 ई. को राज्य का नाम उत्तरांचल का नाम बदलकर “उत्तराखंड कर दिया गया था.

Q 9. उत्तराखंड की राजधानी कहाँ स्थित है?

Ans उत्तराखंड की राजधानी देहरादून है.

Q 10. उत्तराखंड की जनसँख्या कितना है?

Ans उत्तराखंड की जनसँख्या 10,086,292 है.

Q 11. उत्तराखंड का क्षेत्रफल कितना है?

Ans उत्तराखंड का क्षेत्रफल 53,483 किमी² है.

Q 12. उत्तराखंड में कितने जिले है?

Ans उत्तराखंड में 13 जिले है.

Q 13. उत्तराखंड में विधानसभा सदस्य संख्या कितनी है?

Ans उत्तराखंड में विधानसभा सदस्य संख्या 71 है.

Q 14. उत्तराखंड में लोकसभा सदस्य संख्या कितनी है?

Ans उत्तराखंड में लोकसभा सदस्य संख्या 5 है.

Q 15. उत्तराखंड की राजभाषा कौनसी है?

Ans उत्तराखंड की राजभाषा हिंदी तथा संस्कृत है.

लेख को पूरा पढने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद | अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे अपने रिश्तेदारों व मित्रों के साथ में शेयर करना मत भूलना…..

यह भी देखे :- तेलंगाना का इतिहास

केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment