मणिपुर का इतिहास | History of Manipur

मणिपुर का इतिहास | History of Manipur | मणिपुर भारत का एक पूर्वोत्तर राज्य है. इसकी राजधानी इम्फाल है. इसके उत्तर में नागालैंड, दक्षिण में मिजोरम, पश्चिम में असम व पूर्व में म्यांमार है

मणिपुर का इतिहास | History of Manipur

मणिपुर भारत का एक पूर्वोत्तर राज्य है. इसकी राजधानी इम्फाल है. इसके उत्तर में नागालैंड, दक्षिण में मिजोरम, पश्चिम में असम व पूर्व में म्यांमार है. इसका क्षेत्रफल 22,347 वर्ग कि.मी है. यहाँ के मूल निवासी लोग मितई जनजाति के लोग है, जो यहाँ की घाटी के क्षेत्र में रहते है.

यहाँ की मुख्य भाषा मेइतिलोन है, जिसे मणिपुरी भाषा के नाम से भी जाना जाता है. मणिपुर को एक संवेदनशील सीमावर्ती राज्य माना जाता है. मणिपुर की जनसँख्या 28,55,794 है. मणिपुर की राजभाषा मणिपुरी है.

यह भी देखे :- महाराष्ट्र का इतिहास 

मणिपुर का शाब्दिक अर्थ है “आभूषणों की भूमि”. भारत की स्वतंत्रता से पहले यह एक रियासत थी. आजादी के बाद इसे भारत का एक केंद्र शासित प्रदेश बनाया गया था. यह सम्पूर्ण पहाड़ी भाग है. यहाँ नागा तथा कुकी जाति की लगभग 60 जनजातियाँ निवास करती है.

See also  कमजोंग जिला

यहाँ के लोग संगीत तथा कला के बड़े प्रवीण है. यद्यपि यहाँ कई बोलिया बोली जाती है. पहाड़ी ढालों पर चाय तथा घाटियों में धान की उपजें प्रमुख है.

मणिपुर का इतिहास

मणिपुर का प्राचीन नाम कंलैपाक है. इतिहास से यह भी पता चलता है की मणिपुर को मैत्रबक, कंलैपुं व पोंथोकल्म के नाम से भी जाना जाता है. ईस्वी युग के आरंभ होने से पहले ही मणिपुर का लम्बा व शानदार इतिहास उपलब्ध है.

यह भी देखे :- केरल का इतिहास

यहाँ के राजवंशों का लिखित इतिहास 33 ई. में पाखंगबा के राज्याभिषेक के साथ शुरू होता है. उसने इस भूमि पर प्रथम शासक के रूप में 120 वर्षों तक शासन किया था. उसके बाद अनेक राजकुमारों ने यहाँ पर शासन किया था. महावीर राजाओं ने मणिपुर पर शासन कर इसकी सीमा की रक्षा की थी.

मणिपुर की स्वतंत्रता व संप्रभुता 19वीं सदी के आरंभ तक बनी रही थी. इसके बाद बर्मा के शासकों ने यहाँ कब्ज़ा करके सात वर्षों तक शासन किया था. 1891 ई. में मणिपुर ब्रिटिश सरकार के अधीन गया और 1947 ई. को अन्य राज्यों को इसे भी स्वतंत्रता मिली थी.

मणिपुर का इतिहास | History of Manipur
मणिपुर का इतिहास | History of Manipur

1947 ई. में जब अंग्रेजों ने मणिपुर छोड़ा तब से मणिपुर का शासन महराज बोधचंद्र के हाथों में आ गया था. 26 जनवरी 1950 को भारत का संविधान के लागू होने पर यह राज्य मुख्य आयुक्त के अधीन भारतीय संघ में भाग सी के रूप में सम्मलित हुआ था. बाद में इसके स्थान पर एक प्रादेशिक परिषद् गठित की गई जिसमें 30 चयनित तथा 2 मनोनीत सदस्य थे.

यह भी देखे :- मध्य प्रदेश का इतिहास

मणिपुर का इतिहास FAQ

Q 2. मणिपुर की राजधानी कहाँ स्थित है?

Ans मणिपुर की राजधानी इम्फाल है.

Q 3. मणिपुर का क्षेत्रफल कितना है?

Ans मणिपुर का क्षेत्रफल 22,347 वर्ग कि.मी है.

Q 4. मणिपुर के मूल निवासी लोग किस जनजाति के है?

Ans मणिपुर के मूल निवासी लोग मितई जनजाति के है.

Q 5. मणिपुर की जनसँख्या कितनी है?

Ans मणिपुर की जनसँख्या 28,55,794 है.

Q 6. मणिपुर की राजभाषा कौनसी है?

Ans मणिपुर की राजभाषा मणिपुरी है.

Q 8. मणिपुर का प्राचीन नाम क्या है?

Ans मणिपुर का प्राचीन नाम कंलैपाक है.

Q 9. मणिपुर के राजवंशों का लिखित इतिहास कब व किसके राज्याभिषेक के साथ शुरू होता है?

Ans मणिपुर के राजवंशों का लिखित इतिहास 33 ई. में पाखंगबा के राज्याभिषेक के साथ शुरू होता है.

Q 10. पाखंगबा ने कितने वर्षों तक शासन किया था?

Ans पाखंगबा ने 120 वर्षों तक शासन किया था.

Q 11. मणिपुर की स्वतंत्रता व संप्रभुता कब तक बनी रही थी?

Ans मणिपुर की स्वतंत्रता व संप्रभुता 19वीं सदी के आरंभ तक बनी रही थी.

Q 12. मणिपुर ब्रिटिश सरकार के कब अधीन आया था?

Ans 1891 ई. में मणिपुर ब्रिटिश सरकार के अधीन आया था.

लेख को पूरा पढने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद | अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे अपने रिश्तेदारों व मित्रों के साथ में शेयर करना मत भूलना…..

यह भी देखे :- कर्नाटक का इतिहास

केटेगरी वार इतिहास

प्राचीन भारतClick here
मध्यकालीन भारतClick here
आधुनिक भारतClick here
दिल्ली सल्तनतClick here
भारत के राजवंशClick here
भारत के विभिन्न धर्मों का इतिहासClick here
विश्व इतिहासClick here
ब्रिटिश कालीन भारतClick here
केन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहासClick here

Leave a Comment