केरल का इतिहास | History of Kerala

केरल का इतिहास | History of Kerala | केरल भारत का एक राज्य है. इसकी राजधानी तिरुवनंतपुरम है. मलयालम यहाँ की मुख्य भाषा है. हिन्दुओं व मुसलमानों के अलावा यहाँ इसाई भी बड़ी मात्रा में बसे है

केरल का इतिहास | History of Kerala

केरल भारत का एक राज्य है. इसकी राजधानी तिरुवनंतपुरम है. मलयालम यहाँ की मुख्य भाषा है. हिन्दुओं व मुसलमानों के अलावा यहाँ इसाई भी बड़ी मात्रा में बसे है. भारत की दक्षिणी-पश्चिमी सीमा पर अरब सागर व सह्याद्री पर्वत श्रृंखलाओं के मध्य स्थित भाग को केरल के नाम से जाना जाता है.

राज्य का क्षेत्रफल 38863 वर्ग किलोमीटर है. अपनी संस्कृति व भाषा विशिष्टिय के कारण पहचाने जाने वाले भारत के दक्षिण में स्थित चार राज्यों में केरल को प्रमुख स्थान रखता है. इसके प्रमुख पड़ौसी राज्य तमिलनाडू व कर्नाटक है.

यह भी देखे :- कर्नाटक का इतिहास

पौराणिक कथाओं के अनुसार परशुराम ने अपना परशु समुद्र में फैंका जिसकी वजह से उस आकार की भूमि समुद्र से बाहर निकली व केरल अस्तित्व में आया. यहाँ 10वीं सदी ईसा पूर्व से मानव बसाव के प्रमाण मिले है.

केरल का इतिहास | History of Kerala
केरल का इतिहास | History of Kerala

केरल शब्द की उत्पत्ति

See also  तिरुवनन्तपुरम जिला

केरल शब्द की उत्पत्ति को लेकर विद्वानों का एकमत नहीं है. कहा जाता है की “चेर – स्थल”, “कीचड़” व “आलम-प्रदेश” शब्दों के योग से चेरलम बना है, जो बाद में केरल बन गया था. केरल शब्द का एक और अर्थ है- वह भू-भाग जो समुद्र से निकला हो. समुद्र व पर्वत के संगम स्थान को भी केरल कहा जाता है. प्राचीन विदेशी यायावरों ने इस स्थल को मलबार नाम से संबोधित किया है. काफी लम्बे अरसे तक यह भू-भाग चेरा राजाओं के अधीन था इस कारण भी चेरलम व बाद में केरलम बना होगा.

यह भी देखे :- हिमाचल प्रदेश का इतिहास 

केरल का इतिहास

केरल की संस्कृति हजारों साल पुरानी है. इसके इतिहास का प्रथम काल 1000 ईसा पूर्व से 300 ई. माना जाता है. अधिकतर महाप्रस्तर युगीन स्मारिकाएँ पहाड़ी क्षेत्रों से प्राप्त हुई है. अतः यह सिद्ध होता है की केरल में अतिप्राचीनकाल से मानव का निवास था.

केरल के आवास केन्द्रों के विकास का दूसरा चरण संगमकाल माना जाता है. यह प्राचीन तमिल साहित्य के निर्माण का काल है. संगमकाल 300 ई. से 800 ई. तक का माना जाता है. प्राचीन केरल को इतिहासकार तमिल क्षेत्र का हिस्सा मानते है.

See also  एर्नाकुलम जिला

सुविधा की दृष्टि से केरल के इतिहास को तीन भागों में विभाजित किया गया है: प्राचीन केरल, मध्यकालीन केरल व आधुनिक केरल.

यह भी देखे :- हरियाणा का इतिहास

केरल का इतिहास FAQ

Q 1. केरल की राजधानी कहाँ स्थित है?

Ans केरल की राजधानी तिरुवनंतपुरम है.

Q 2. केरल की मुख्य भाषा क्या है?

Ans केरल की मुख्य भाषा मलयालम है.

Q 3. किस स्थान को केरल नाम से जाना जाता है?

Ans भारत की दक्षिणी-पश्चिमी सीमा पर अरब सागर व सह्याद्री पर्वत श्रृंखलाओं के मध्य स्थित भाग को केरल के नाम से जाना जाता है.

Q 4. केरल राज्य का क्षेत्रफल कितना है?

Ans केरल राज्य का क्षेत्रफल 38863 वर्ग किलोमीटर है.

Q 5. केरल के प्रमुख पड़ौसी राज्य कौन-कौनसे है?

Ans केरल के प्रमुख पड़ौसी राज्य तमिलनाडू व कर्नाटक है.

Q 6. पौराणिक कथाओं के अनुसार केरल अस्तित्व में कैसे आया था?

Ans पौराणिक कथाओं के अनुसार परशुराम ने अपना परशु समुद्र में फैंका जिसकी वजह से उस आकार की भूमि समुद्र से बाहर निकली व केरल अस्तित्व में आया था.

See also  अलाप्पुझा जिला
Q 7. केरल शब्द का अर्थ क्या है?

Ans केरल शब्द का अर्थ है- वह भू-भाग जो समुद्र से निकला हो.

Q 8. समुद्र व पर्वत के संगम स्थान को क्या कहा जाता है?

Ans समुद्र व पर्वत के संगम स्थान को भी केरल कहा जाता है.

Q 9. प्राचीन विदेशी यायावरों ने केरल को किस नाम से संबोधित किया है?

Ans प्राचीन विदेशी यायावरों ने केरल को मलबार नाम से संबोधित किया है.

Q 10. सुविधा की दृष्टि से केरल के इतिहास को कितने भागों में विभाजित किया गया है?

Ans सुविधा की दृष्टि से केरल के इतिहास को तीन भागों में विभाजित किया गया है.

लेख को पूरा पढने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद | अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे अपने रिश्तेदारों व मित्रों के साथ में शेयर करना मत भूलना…..

यह भी देखे :- गोवा का इतिहास

केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment