दादरा नगर हवेली का इतिहास | History of Dadra Nagar Haveli

दादरा नगर हवेली का इतिहास | History of Dadra Nagar Haveli | दादरा नगर हवेली पहले एक केन्द्रशासित प्रदेश था तथा अब यह दमन दीव केन्द्रशासित प्रदेश का एक भाग है

दादरा नगर हवेली का इतिहास | Dadra Nagar Haveli

दादरा नगर हवेली पहले एक केन्द्रशासित प्रदेश था तथा अब यह दमन दीव केन्द्रशासित प्रदेश का एक भाग है. यह दक्षिणी भारत में महाराष्ट्र तथा गुजरात के मध्य स्थित है. इसकी राजधानी सिलवास है.

यह क्षेत्र दमन से 10 से 30 किलोमीटर दूर है. इस प्रदेश पर 1779 ई. तक मराठाओं का तथा फिर 1954 ई. तक पुर्तगालियों का शासन था. इस क्षेत्र को 11 अगस्त 1961 में भारत में सम्मलित किया गया था. मुक्ति दिवस के रूप में यहाँ “2 अगस्त” को पर्व के रूप में मनाया जाता है.

यह भी देखे :- दमन दीव का इतिहास 

यह प्रमुख रूप से ग्रामीण क्षेत्र है, 62% से ज्यादा आदिवासी निवास करते है. इस क्षेत्र का 40% हिस्सा आरक्षित वनों से घिरा है जो विभिन्न प्रकार के पशुओं तथा वनस्पतियों को निवास प्रदान करता है. यहाँ समुद्र तट निकट होने के कारण अधिक गर्मी नहीं रहती है. दमनगंगा यहाँ की प्रमुख नदी है जो अरबसागर में जाकर मिलती है.

See also  जम्मू कश्मीर का इतिहास | History of Jammu and Kashmir

इतिहास

दादरा नगर हवेली का गहरा इतिहास हमलावर राजपूत राजाओं के द्वारा क्षेत्र के कोली सरदारों की हार के साथ आरंभ होता है. मराठा ने राजपूतों को हराकर 18वीं सदी में यहाँ अपना शासन स्थापित किया था.

मराठा तथा पुर्तगालियों के मध्य लम्बे संघर्ष के बाद 17 दिसंबर 1779 ई. को मराठा पेशवा माधवराव द्वितीय ने मित्रता सुनिश्चित करने के लिए इस प्रदेश के 79 गाँवों को 12,000 रुपए का का राजस्व क्षतिपूर्ति के तौर पर पुर्तगालियों को सौंप दिया था.

दादरा नगर हवेली का इतिहास | History of Dadra Nagar Haveli
दादरा नगर हवेली का इतिहास | History of Dadra Nagar Haveli

जनता द्वारा 2 अगस्त,1954 को मुक्त करवाने तक पुर्तगालियों ने इस प्रदेश पर अपना शासन चलाया था. 1954 से 1961 ई. तक यह प्रदेश लगभग स्वतंत्र रूप से काम कर रहा था जिसे “स्वतंत्र दादरा एंव नगर हवेली प्रशासन” ने चलाया था.

यह भी देखे :- लक्षद्वीप का इतिहास

लेकिन 11 अगस्त 1961 ई. को यह प्रदेश भारत संघ में सम्मलित हो गया था. तब से भारत सरकार इस एक केन्द्रशासित प्रदेश के रूप में शासन कर रही है.

  1. दादरा नगर हवेली की राजधानी सिलवास है.
  2. दादरा नगर हवेली का सबसे बड़ा शहर सिलवास है.
  3. दादरा नगर हवेली की जनसँख्या 3,43,709 है.
  4. दादरा नगर हवेली का क्षेत्रफल 491 वर्ग किमी है.
  5. दादरा नगर हवेली में एक जिला है.
  6. दादरा नगर हवेली की राजभाषा हिंदी, गुजराती तथा मराठी है.
  7. दादरा नगर हवेली का गठन 11 अगस्त 1961 ई. को हुआ था.
  8. दादरा नगर हवेली का उच्चन्यायलय मुंबई उच्चन्यायलय है.
  9. दादरा नगर हवेली की डाक सूचक संख्या 396 है.
  10. दादरा नगर हवेली का वाहन वाहन अक्षर DN है.
यह भी देखे :- पुदुचेरी का इतिहास

दादरा नगर हवेली का इतिहास FAQ

Q 2. दादरा नगर हवेली पर मराठाओं का शासन कब तक था?

Ans दादरा नगर हवेली पर 1779 ई. तक मराठाओं का शासन था.

Q 3. दादरा नगर हवेली पर पुर्तगालियों का शासन कब तक था?

Ans दादरा नगर हवेली 1954 ई. तक पुर्तगालियों का शासन था.

Q 4. दादरा नगर हवेली को भारत में कब सम्मलित किया गया था?

Ans दादरा नगर हवेली को 11 अगस्त 1961 में भारत में सम्मलित किया गया था.

Q 6. दादरा नगर हवेली का सबसे बड़ा शहर कौनसा है?

Ans दादरा नगर हवेली का सबसे बड़ा शहर सिलवास है.

Q 7. दादरा नगर हवेली की जनसँख्या कितनी है?

Ans दादरा नगर हवेली की जनसँख्या 3,43,709 है.

Q 8. दादरा नगर हवेली का क्षेत्रफल कितना है?

Ans दादरा नगर हवेली का क्षेत्रफल 491 वर्ग किमी है.

Q 9. दादरा नगर हवेली में कितने जिले है?

Ans दादरा नगर हवेली में केवल एक ही जिला है.

Q 10. दादरा नगर हवेली का गठन कब हुआ था?

Ans दादरा नगर हवेली का गठन 11 अगस्त 1961 ई. को हुआ था.

लेख को पूरा पढने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद | अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे अपने रिश्तेदारों व मित्रों के साथ में शेयर करना मत भूलना…..

यह भी देखे :- उत्तर प्रदेश का इतिहास

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment