अण्डमान निकोबार का इतिहास | History of Andaman Nicobar

अण्डमान निकोबार का इतिहास | History of Andaman Nicobar | अण्डमान और निकोबार भारत के एक केन्द्रशासित प्रदेश है. यह बंगाल की खाड़ी में हिंद महासागर में स्थित है

अण्डमान निकोबार का इतिहास | Andaman Nicobar

अण्डमान और निकोबार भारत के एक केन्द्रशासित प्रदेश है. यह बंगाल की खाड़ी में हिंद महासागर में स्थित है. अण्डमान और निकोबार द्वीप समूह लगभग 572 छोटे-बड़े द्वीपों से मिलकर बना है. इनमें से कुछ द्वीपों पर ही लोग रहते है. इसकी राजधानी पोर्ट ब्लेयर है.

भारत का यह प्रदेश हिन्द महासागर में स्थित है, भौगोलिक दृष्टि से यह दक्षिणी-पूर्वी एशिया का हिस्सा है. अंडमान सागर इसे थाईलैंड तथा म्यांमार से अलग करता है. 2011 की जनगणना के अनुसार यहाँ की जनसँख्या 379,944 है. इस पूरे क्षेत्र का क्षेत्रफल 8249 किमी²  है.

यह भी देखे :- उत्तर प्रदेश का इतिहास

नाम की उत्त्पत्ति

अंडमान शब्द मलय भाषा के शब्द हांदुमन से आया है जो हिन्दू देवता हनुमान के नाम का परिवर्तित रूप है. निकोबार शब्द भी इसी भाषा से लिया गया है. इसका अर्थ है “नग्न लोगो की भूमि”. अंडमान का लगभग 86% भाग जंगलों से ढका हुआ है.

अण्डमान निकोबार का इतिहास | History of Andaman Nicobar
अण्डमान निकोबार का इतिहास | History of Andaman Nicobar

इतिहास

इस द्वीप पर अंग्रेजों का शासन हो गया तथा बाद में दुसरे विश्व युद्ध के दौरान जापान द्वारा इस पर अधिकार कर लिया गया था. कुछ समय के लिए यह द्वीप नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की “आजाद हिन्द फौज” के भी अधीन रहा था.

यह भी देखे :- उत्तराखण्ड का इतिहास

बहुत कम लोगों को ही पता होगा की देश में कहीं भी पहली बार तिरंगा पोर्ट ब्लेयर में ही फहराया गया था. यहां नेताजी सुभाष चन्द्र बोस ने 30 दिसंबर 1943 ई. को यूनियन जैक उतार कर तिरंगा झंडा फहराया था. इसलिए अंडमान निकोबार प्रशासन की तरफ से हर वर्ष 30 दिसंबर को एक भव्य कार्यक्रम मानाने की शुरुआत की गई है.

1947 ई. में ब्रिटिश सरकार से मुक्ति पाने के बाद यह भारत का एक केन्द्रशासित प्रदेश बना था. ब्वृतिश शासन के द्वारा इस स्थान का उपयोग स्वाधीनता आन्दोलन में दमनकारी नीतियों के तहत क्रन्तिकारी को भारत से अलग रखने के लिए लिया जाता था. इसी कारण यह स्थान आन्दोलनकारियों के मध्य “काला पानी” के नाम से कुख्यात था.

कैद के लिए पोर्ट ब्लेयर में के अलग कारागार, सेल्युलर जेल का निर्माण किया गया जो ब्रिटिश इंडिया के लिए साइबेरिया के समान थी. 26 दिसंबर 2004 को सुनामी की लहरों के कहर से इस द्वीप पर 6000 से ज्यादा लोग मरे गए थे.

यह भी देखे :- सिक्किम का इतिहास

अण्डमान निकोबार का इतिहास FAQ

Q 1. अण्डमान और निकोबार कहाँ स्थित है?

Ans अण्डमान और निकोबार, बंगाल की खाड़ी {हिंद महासागर} में स्थित है

Q 2. अण्डमान और निकोबार द्वीप समूह कितने छोटे-बड़े द्वीपों से मिलकर बना है?

Ans अण्डमान और निकोबार द्वीप समूह लगभग 572 छोटे-बड़े द्वीपों से मिलकर बना है.

Q 3. अण्डमान और निकोबार की राजधानी कहाँ स्थित है?

Ans अण्डमान और निकोबार की राजधानी पोर्ट ब्लेयर है.

Q 4. 2011 की जनगणना के अनुसार यहाँ की जनसँख्या कितनी है?

Ans 2011 की जनगणना के अनुसार यहाँ की जनसँख्या 379,944 है.

Q 5. अण्डमान और निकोबार का क्षेत्रफल कितना है?

Ans अण्डमान और निकोबार का क्षेत्रफल 8249 किमी² है.

Q 6. अंडमान शब्द मलय भाषा के किस शब्द से आया है?

Ans अंडमान शब्द मलय भाषा के शब्द हांदुमन से आया है.

Q 7. हांदुमन किसके नाम का परिवर्तित रूप है?

Ans हांदुमन, “हिन्दू देवता हनुमान” के नाम का परिवर्तित रूप है.

Q 8. निकोबार शब्द किस भाषा से लिया गया है?

Ans निकोबार शब्द भी मलय भाषा से लिया गया है.

Q 9. निकोबार का अर्थ क्या है?

Ans निकोबार का अर्थ “नग्न लोगो की भूमि” है.

Q 10. अंडमान का कितना भाग जंगलों से ढका हुआ है?

Ans अंडमान का लगभग 86% भाग जंगलों से ढका हुआ है.

Q 11. देश में कहीं भी पहली बार तिरंगा कहाँ फहराया गया था?

Ans देश में कहीं भी पहली बार तिरंगा पोर्ट ब्लेयर में ही फहराया गया था.

लेख को पूरा पढने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद | अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे अपने रिश्तेदारों व मित्रों के साथ में शेयर करना मत भूलना…..

यह भी देखे :- पश्चिम बंगाल का इतिहास

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published.