सम्राट अशोक का सामान्य परिचय

सम्राट अशोक का सामान्य परिचय | General Introduction of Emperor Ashoka | बिन्दुसार का उत्तराधिकारी अशोक महान हुआ जो 269 ईसा पूर्व में राजगद्दी पर बैठा था

सम्राट अशोक का सामान्य परिचय

बिन्दुसार का उत्तराधिकारी अशोक महान हुआ जो 269 ईसा पूर्व में राजगद्दी पर बैठा था. अशोक की माता का नाम सुभाद्रंगी था. राजगद्दी पर बैठते समय अशोक अवन्ती का राज्यपाल था. मास्की, गुर्जरा नेत्तुर एवं उडेगोलम लेखों में अशोक का नाम अशोक मिलता है.

कर्नाटक के गुलबर्गा जिले के कनगनहल्ली से प्राप्त उभारदार मूर्तिशिल्प शिलालेख में अशोक के प्रस्तर, रूपचित्र के राण्यो अशोक भी उल्लेखित है. भ्रावु अभिलेख में अशोक ने स्वयं को मगध का राजा बताया है. पुराणों में अशोक को अशोकवर्धन कहा गया है.

अशोक ने अपने राज्याभिषेक के 8 वर्ष बाद लगभग 261 ईसा पूर्व में कलिंग पर आक्रमण किया व कलिंग की राजधनी तोसल पर अधिकार जमाया था. [उल्लेख 23 वे शिलालेख में]

यह भी देखे :- बिन्दुसार कौन था

प्लिनी का कतःन है की मिस्र का राजा फिलाडेल्फस ने पाटलिपुत्र में एक राजदूत भेजा था. अशोक बौद्ध धर्म का अनुनायी था. उपगुप्त नामक बौद्ध भिक्षु ने अशोक को बौद्ध धर्म की दीक्षा दी थी. अशोक पहले ब्राह्मण धर्म का अनुनायी था. कल्हण के राजतरंगिणी से पता चलता है की वह शैव धर्म का उपासक था. निग्रोध के प्रवचन को सुनकर अशोक ने बौद्ध धर्म अपना लिया था.

सम्राट अशोक का सामान्य परिचय
सम्राट अशोक का सामान्य परिचय

अहरौरा लेख में यह घोषणा की गई है की व्यक्तिगत रूप से बौद्ध धर्म का अनुनायी था. अशोक एक उपासक के रूप में अपने राज्याभिषेक के 10 वे वर्ष में बोधगया की, 12 वे वर्ष में निगली सागर की व 20 वे वर्ष में लुम्बिनी की यात्रा की थी.

यह भी देखे :- मौर्य साम्राज्य का उदय

अशोक ने आजीविकों के रहने हेतु बराबर की पहाड़ियों में चार गुफाओं का निर्माण करवाया था. जिनका नाम कर्ज, चोपार सुदामा व विश्व झोपड़ी था. अशोक के पौत्र दशरथ ने आजीविकों को नागार्जुन की गुफा प्रदान की थी. अशोक के 7 वे स्तंभ लेख में आजीविकों का उल्लेख किया गया है तथा महामत्रों को आजीविकों के हितों का ध्यान रखने के लिए कहा गया है.

अशोक ने बौद्ध धर्म के प्रचार के लिए अपने पुत्र महेंद्र व पुत्री संघमित्रा को श्रीलंका भेजा था. बौद्ध परंपरा व उनकी लिपियों के अनुसार अशोक ने 84000 स्तूपों का निर्माण करवाया था. भारत में शिलालेख का प्रचलन सर्वप्रथम अशोक ने किया था.

अशोक के शिलालेखों में ब्राह्मी, खरोष्ठी, ग्रीक व अरमाईक लिपि का प्रयोग किया गया है. ग्रीक व अरमाईक लिपि का अफगानिस्तान, खरोष्ठी लिपि का अभिलेख शाहवाजगढ़ी एवं मनसेहरा से व ब्राह्मी लिपि के अभिलेख शेष भारत में मिले है. खरोष्ठी लिपि दांयी से बांयी की तरफ लिखी जाती है.

यह भी देखे :- सिकंदर कौन था

सम्राट अशोक का सामान्य परिचय FAQ

Q 1. सम्राट अशोक का जन्म कब हुआ था?

Ans सम्राट अशोक का जन्म 304 ई. पू. में हुआ था.

Q 2. सम्राट अशोक का जन्म कहाँ पर हुआ था?

Ans सम्राट अशोक का जन्म पाटलिपुत्र में हुआ था.

Q 3. सम्राट अशोक के पिता का नम क्या था?

Ans सम्राट अशोक के पिता का नाम बिन्दुसार था.

Q 4. सम्राट अशोक की माता का नाम क्या था?

Ans सम्राट अशोक की माता का नाम सुभाद्रंगी था.

Q 5. सम्राट अशोक का राज्याभिषेक कब हुआ था?

Ans सम्राट अशोक का राज्याभिषेक 269 ई. पू. में हुआ था.

Q 6. सम्राट अशोक का विवाह कब हुआ था?

Ans सम्राट अशोक का विवाह 286 ई. पू. में हुआ था.

Q 7. सम्राट अशोक की पत्नी का नाम क्या था?

Ans सम्राट अशोक की पत्नी का नाम महारानी देवी था.

Q 8. सम्राट अशोक के पुत्रों का नाम लिखिए |

Ans सम्राट अशोक के पुत्र निम्न थे :- महेन्द्र, संघमित्रा, चारुमति, कुणाला, तिवाला, जलुका |

Q 9. सम्राट अशोक का निधन कहाँ हुआ था?

Ans सम्राट अशोक का निधन पाटलिपुत्र में हुआ था.

Q 10. सम्राट अशोक का निधन कब हुआ था?

Ans सम्राट अशोक का निधन 232 ई. पू. में हुआ था.

आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद.. यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे अपने मित्रों, रिश्तेदारों व अन्य लोगों के साथ शेयर करना मत भूलना ताकि वे भी इस आर्टिकल से संबंधित जानकारी को आसानी से समझ सके.

यह भी देखे :- मगध राज्य का उत्कर्ष

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published.