गढवा जिला

गढवा जिला भारत के झारखंड राज्य का एक जिला है. इस जिले का मुख्यालय गढवा में स्थित है. यह झारखंड के पश्चिमी हिस्से में स्थित है

गढवा जिला

गढवा भारत के झारखंड राज्य का एक जिला है. इस जिले का मुख्यालय गढवा में स्थित है. यह झारखंड के पश्चिमी हिस्से में स्थित है.

इस जिले के उत्तर में बिहार, पश्चिम-उत्तर में उत्तर प्रदेश, दक्षिण-पश्चिम में छत्तीसगढ़, दक्षिण-पूर्व में लातेहार जिला तथा पूर्व में पलामू जिला स्थित है.

यह भी देखे :- देवघर जिला

इतिहास

इस जिले का इतिहास अधिक प्राचीन नहीं है, क्योंकि इस जिले का गठन 1 अप्रैल 1991 ई. को ही किया गया था. विभाजन से पूर्व यह जिला पलामू जिले के अंतर्गत आता था.

गढवा जिला
गढवा
यह भी देखे :- पश्चिमी सिंहभूम जिला

सामान्य परिचय

नाम जानकारी
मुख्यालय ◾️  गढवा 
क्षेत्रफल◾️  4044 वर्ग किमी
जनसँख्या ◾️  13.22 लाख
जनसँख्या घनत्व◾️  323/वर्ग किमी
लिंगानुपात◾️  935/1000
साक्षरता◾️  62.14%
विधानसभा सदस्य संख्या◾️  2
लोकसभा सदस्य संख्या◾️  1
अधिकारिक वेबसाइट ◾️  garhwa.nic.in
यह भी देखे :-  हजारीबाग जिला

गढवा जिला FAQ

Q 2. गढवा  जिले का मुख्यालय कहाँ स्थित है?

Ans – गढवा जिले का मुख्यालय गढवा में स्थित है.

Q 3. गढवा जिला झारखंड किस हिस्से में स्थित है?

Ans – गढवा जिला झारखंड के पश्चिमी हिस्से में स्थित है.

Q 4. गढवा जिले का क्षेत्रफल कितना है?

Ans – गढवा जिले का क्षेत्रफल 4044 वर्ग किमी है.

Q 5. गढवा जिले की जनसँख्या कितनी है?

Ans – गढवा जिले की जनसँख्या 13.22 लाख है.

Q 7. गढवा जिले का लिंगानुपात कितना है?

Ans – गढवा जिले का लिंगानुपात 935 है.

Q 8. गढवा जिले की साक्षरता कितनी है?

Ans – गढवा जिले की साक्षरता 62.14% है.

Q 9. गढवा जिले में विधानसभा सदस्य संख्या कितनी है?

Ans – गढवा जिले में विधानसभा सदस्य संख्या 2 है.

Q 10. गढवा जिले में लोकसभा सदस्य संख्या कितनी है?

Ans – गढवा जिले में लोकसभा सदस्य संख्या 1 है.

लेख को पूरा पढने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद | अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे अपने रिश्तेदारों व मित्रों के साथ में शेयर करना मत भूलना…..

यह भी देखे :- पलामू जिला

Follow on Social Media


केटेगरी वार इतिहास


प्राचीन भारतमध्यकालीन भारत आधुनिक भारत
दिल्ली सल्तनत भारत के राजवंश विश्व इतिहास
विभिन्न धर्मों का इतिहासब्रिटिश कालीन भारतकेन्द्रशासित प्रदेशों का इतिहास

Leave a Comment